All Ayurvedic

अदरक का पानी पीने के फायदे, जड़ से खत्म होंगे कई रोग

अदरक का पानी पीने के फायदे, जड़ से खत्म होंगे कई रोग

Spread the love
अदरक का पानी

अदरक का पानी पीने के फायदे ज्यादातर भारतीय घरों में अदरक वाली चाय को बहुत पसंद किया जाता है. चाय के अलावा मसाले के रुप में भी अदरक का इस्तेमाल किया जाता है. अदरक का इस्तेमाल हम सभी अपने-अपने घरों में करते हैं. कुछ लोग इसका इस्तेमाल मसाले के तौर पर करते हैं तो कुछ गार्निशिंग के लिए. इसके अरोमा और फ्लेवर से खाने का स्वाद बढ़ जाता है. अदरक में एंटी बैक्टीरियल, एंटी फंगल और एंटी इंफ्लेमेट्री तत्व पाए जाते हैं जो शरीर को स्वस्थ बनाए रखने में मददगार होते हैं.

अगर आप हमेशा स्वस्थ रहना चाहते हैं तो फिर अदरक वाले पानी का सेवन करें. इसके लिए एक कप पानी में अदरक का एक छोटा सा टुकड़ा डालकर कम से कम 5 मिनट तक उबालें और फिर ठंडा हो जाने पर इसे पी लें.

1- वजन घटाने में मददगार

अदरक वाला पानी पीने से शरीर का मेटाबॉलिज्म ठीक रहता है. इस पानी का नियमित रुप से सेवन करने पर शरीर का अतिरिक्त फैट तेजी से बर्न होता है और वजन कम होता है.

2- रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए

अदरक वाला पानी पीने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है. हर रोज इसे पीने की आदत आपको सर्दी-खांसी और वायरल इंफेक्शन जैसी बीमारियों के खतरे से बचाती है. इसके अलावा यह कफ की समस्या को भी दूर करता है.

3- त्वचा को स्वस्थ बनाए

हर रोज अदरक का पानी पीने से शरीर के हानिकारक टॉक्सिन्स बाहर निकलते हैं. इस पानी के सेवन से खून साफ होता है और त्वचा स्वस्थ होती है. इतना ही नहीं ये पिंपल्स और स्किन इंफेक्शन के खतरे को भी दूर करता है.

4- दर्द से मिलती है राहत

अदरक वाला पानी पीने से ब्रेन सेल्स रिलैक्स होती है और सिरदर्द से राहत मिलती है. हर रोज इस पानी का सेवन करने से शरीर का ब्लड सर्कुलेशन ठीक होता है और मसल्स में होनेवाले दर्द से भी निजात मिलती है.

5- पाचन क्रिया को सुधारे

अदरक वाला पानी शरीर में डाइजेस्टिव जूस को बढ़ाता है. इसके सेवन से पाचन क्रिया में सुधार आता है और खाना आसानी से डाइजेस्ट हो जाता है.

6- कैंसर से करता है रक्षा

अदरक में एंटीबैक्टीरियल तत्व के अलावा कैंसर से लड़नेवाले तत्व भी पाए जाते हैं. इसलिए अदरक वाला पानी का सेवन हर रोज करना चाहिए क्योंकि ये लंग्स, प्रोस्टेट, ओवेरियन, कोलोन, ब्रेस्ट, स्किन और पेन्क्रिएटिक कैंसर से आपकी रक्षा करता है.

7- डायबिटीज को कंट्रोल करे

अदरक वाला पानी डायबिटीज के मरीजों के लिए काफी फायदेमंद है क्योंकि इसके नियमित सेवन से शरीर का ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल होता है. इतना ही नहीं इससे आम लोगों में डायबिटीज होने का खतरा भी कम होता है.

ये है अदरक का पानी और उसके फायदे – बहरहाल अब आप ये जान गए हैं कि अदरक का एक छोटा सा टुकड़ा किस तरह से आपको हमेशा सेहतमंद बनाए रख सकता है. तो फिर क्यों ना चाय के बजाय एक कप अदरक वाला पानी पीने की आदत डाल ली जाए.

अदरक का पानी बनाने की विधि :- 

1 गिलास पानी में थोडा सा अदरक का टुकड़ा ले और उसको थोड़ी देर गर्म करे. जब पानी उबालकर थोडा कम हो जाए तो उसे ठंडा करके सिप सिप करके पीना है. एक दम से नहीं पीना. थोडा थोडा पीना है जैसे चाय पीते है, जैसे गर्म दूध पीते है, वैसे ही पीना है. आप एक काम और कर सकते है, रातको पानी में अदरक डालकर रख दे और सुबह उसको गर्म करके फिर ठंडा करके पिए. और जो टुकड़ा पानी में रह जाता है उसको चबाकर खा ले.

मुंह की दुर्गध :

एक चम्मच अदरक का रस एक गिलास गर्म पानी में मिलाकर कुल्ला करने से मुख की दुर्गन्ध दूर हो जाती है।

दांत का दर्द:

  • महीन पिसा हुआ सेंधानमक अदरक के रस में मिलाकर दर्द वाले दांत पर लगाएं।
  • दांतों में अचानक दर्द होने पर अदरक के छोट-छोटे टुकड़े को छीलकर दर्द वाले दांत के नीचे दबाकर रखें।
  • सर्दी की वजह से दांत के दर्द में अदरक के टुकड़ों को दांतों के बीच दबाने से लाभ होता है।

भूख की कमी:

अदरक के छोटे-छोटे टुकड़ों को नींबू के रस में भिगोकर इसमें सेंधानमक मिला लें, इसे भोजन करने से पहले नियमित रूप से खिलाएं।

पानी में गुड़, अदरक, नींबू का रस, अजवाइन, हल्दी को बराबर की मात्रा में डालकर उबालें और फिर इसे छानकर पिलाएं।

गला खराब होना:

अदरक, लौंग, हींग और नमक को मिलाकर पीस लें और इसकी छोटी-छोटी गोलियां तैयार करें। दिन में 3-4 बार एक-एक गोली चूसें।

पक्षाघात (लकवा) :

  • घी में उड़द की दाल भूनकर, इसकी आधी मात्रा में गुड़ और सोंठ मिलाकर पीस लें। इसे दो चम्मच की मात्रा में दिन में 3 बार खिलाएं।
  • उड़द की दाल पीसकर घी में सेकें फिर उसमें गुड़ और सौंठ पीसकर मिलाकर लड्डू बनाकर रख लें। एक लड्डू प्रतिदिन खाएं या सोंठ और उड़द उबालकर इनका पानी पीयें। इससे भी लकवा ठीक हो जाता है।

पेट और सीने की जलन:

एक गिलास गन्ने के रस में दो चम्मच अदरक का रस और एक चम्मच पुदीने का रस मिलाकर पिलाएं।

वात और कमर के दर्द:

अदरक का रस नारियल के तेल में मिलाकर मालिश करें और सोंठ को देशी घी में मिलाकर खिलाएं।

पसली का दर्द:

30 ग्राम सोंठ को आधा किलो पानी में उबालकर और छानकर 4 बार पीने से पसली का दर्द खत्म हो जाता है।

चोट लगनाकुचल जाना:

चोट लगने, भारी चीज उठाने या कुचल जाने से पीड़ित स्थान पर अदरक को पीसकर गर्म करके आधा इंच मोटा लेप करके पट्टी बॉंध दें। दो घण्टे के बाद पट्टी हटाकर ऊपर सरसो का तेल लगाकर सेंक करें। यह प्रयोग प्रतिदिन एक बार करने से दर्द शीघ्र ही दूर हो जाता है।

संग्रहणी (खूनी दस्त):

सोंठ, नागरमोथा, अतीस, गिलोय, इन्हें समभाग लेकर पानी के साथ काढ़ा बनाए। इस काढे़ को सुबह-शाम पीने से राहत मिलती है।

ग्रहणी (दस्त):

गिलोय, अतीस, सोंठ नागरमोथा का काढ़ा बनाकर 20 से 25 मिलीलीटर दिन में दो बार दें।

Please Like and Share Our Facebook Page
Herbal Medicines

Find US On Instagram
Herbal Medicines

Find US On Twitter
Herbal Medicines

50 से ज्यादा बिमारियों का इलाज है हरसिंगार (पारिजात)

गहरी और अच्छी नींद लेने के लिए घरेलू उपाय !!

गेंहू जवारे का रस, 300 रोगों की अकेले करता है छुट्टी

मात्र 16 घंटे में kidney की सारी गंदगी को बाहर निकाले

किसी भी नस में ब्लॉकेज नहीं रहने देगा यह रामबाण उपाय

गुर्दे की पथरी निकालने के 10 घरेलू इलाज

दाद खाज खुजली को ठीक करने के घरेलू इलाज

मिर्गी का आयुर्वेदिक इलाज – Mirgi (Epilepsy) Ka Ayurvedic ilaj

पेशाब का रंग बताता है शरीर की दिक्कत, ध्यान देने की जरूरत

यूरिक एसिड (Uric Acid) के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय

फड पॉइजनिंग के लक्षण और घरेलू उपचार

हींग का पानी- हींग को पानी में मिलाकर पीने से होंगे ये फायदें

अच्छी नींद आने के लिए घरेलू उपाय, अनिद्रा के लक्षण

हल्दी का दूध – रात को दूध में हल्दी मिलाकर पीने के फायदे

This Post Has 23 Comments

Leave a Reply