You are currently viewing कैल्शियम की कमी दूर करेंगे ये आयुर्वेदिक उपाय, हड्डियां होगी मजबूत

कैल्शियम की कमी दूर करेंगे ये आयुर्वेदिक उपाय, हड्डियां होगी मजबूत

Spread the love
कैल्शियम की कमी

कैल्शियम की कमी – शरीर की हड्डियों और जोड़ों को हेल्दी रखने के साथ दांतों को मजबूत बनाने का मुख्य काम कैल्शियम का होता है। इसके साथ-साथ यह खून की कोशिकाओं को भी मजबूत बनाता है। कैल्शियम की कमी को हाइपोकैल्शिमिया के नाम से भी जाना जाता है। स्वामी रामदेव के अनुसार एक दिन में कम से कम 1 ग्राम कैल्शियम का सेवन करना जरुरी माना जाता है। शरीर में कैल्शियम की कमी होने के कारण जोड़ों में दर्द, अर्थराइटिस, हड्डियों का टूटना शामिल हैं। 

कैल्शियम की कमी के लक्षण (Calcium Deficiency Symptoms)

1 शरीर में कैल्शियम की कमी होने पर हड्डियां कमजोर और हड्डियों में दर्द होने लगता है.
2 कैल्शियम की कमी होने पर मांसपेशियों में ऐंठन रहती है.
3 कैल्शियम की कमी से याद्दाश्त में भी कमी आ जाती है.
4 कई बार शरीर सुन्न होने लगता है और हाथ-पैरों में झनझनाहट रहने लगती है.
5 कैल्शियम की कमी होने पर पीरियड में गड़बड़ी होने लगती है.
6 दांत में भी कमजोरी आने लगती है.
7 शरीर में कैल्शियम की कमी से ब्लड क्लॉटिंग की समस्या भी हो सकती है.

कैल्शियम के मुख्य स्रोत (Natural Food Source Of Calcium) कैल्शियम की कमी

1- दूध दही और पनीर- कैल्शियम की कमी को दूर करने के लिए खाने में दूध, दही और पनीर जरूर शामिल करें. कैल्शियम की दैनिक जरूरत पूरा करने के लिए दूध और उससे बनी चीजें अच्छा स्रोत हैं. 

2- सोयाबीन- सोयाबीन में कैल्शियम और ऑयरन भरपूर होता है. सोयाबीन में पाए जाने वाले तत्व से हड्डी रोग में फायदा मिलता है. हड्डी को मजबूत बनाने और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए सोयाबीन बहुत जरूरी है. आप खाने में टोफू शामिल भी शामिल कर सकते हैं.
 
3- तिल- करीब 1 चम्मच तिल में 88 मिलीग्राम कैल्शियम होता है. आप खाने में तिल का इस्तेमाल जरूर करें. आप चाहें तो सलाद या सूप में डालकर भी खा सकते हैं.

4- बादाम- बादाम को सुपरफूड कहा जाता है. बादाम में कैल्शियम भी पाया जाता है. रोज बादाम खाने से आप शरीर में काफी हद तक कैल्शियम की कमी को पूरा कर सकते हैं.

5- हरी सब्जियां- आपको अपनी डाइट का अहम हिस्सा सब्जियों को बनाना चाहिए. खासतौर से हरी सब्जियों में भरपूर विटामिन्स और मिनिरल्स पाए जाते हैं. आप हरी पत्तेदार सब्जियां, बीन्स, ब्रोकल को अपने भोजन में शामिल करें. बीन्स और ब्रोकली में काफी मात्रा में कैल्शियम और प्रोटीन होता है. 

6- फल- फलों में आप रोज 2 संतरे खाएं, इससे शरीर में कैल्शियम की कमी पूरी हो जाएगी. 

7- जीरा- जीरा वाला पानी पीने से भी कैल्शियम की कमी को दूर किया जा सकता है. 1 गिलास गर्म पानी में 1 चम्मच जीरा डालकर दिन में 2-4 बार इस पानी को पीएं.

8- नॉनवेज- कैल्शियम और प्रोटीन की कमी को पूरा करने के लिए आप खाने में नॉनवेज खा सकते हैं. आप डाइट में सैल्मन, टूना, मेकरेल और फिश शामिल करें.  

9- आंवला- आंवला में भी काफी मात्रा में कैल्शियम होता है. इसके अलावा आंवला में एंटीऑक्सीडेंट गुण काफी होते हैं जो शरीर को इंफेक्शन से बचाते हैं. आंवला खाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है. आप आंवला का जूस या आंवला को पाउडर के रुप में भी खा सकते हैं. 

10- रागी- रागी स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होती है. आप कैल्शियम के लिए रागी को डाइट में जरूर शामिल करें. रागी में प्रचुर मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है. आप इसका हलवा, रोटी या चीला बनाकर खा सकते हैं.

कई बार हम कैल्शियम का सेवन अधिक मात्रा में करते हैं लेकिन वह ठीक ढंग से डाइजेस्ट नहीं हो पाती है जिससे हड्डियों संबंधी समस्या का सामना करना पड़ता है। उम्र बढ़ने के साथ हमारे शरीर में कैल्शियम की अधिक कमी होने लगती है। ऐसे में आप इन चीजों का सेवन करके इस समस्या से छुटकारा पा सकते है। 

यह भी पढ़ें100 रोगों का नाश करती है यह औषधि, नहीं जाना तो कुछ नहीं जाना

कपालभाति
इस प्राणायाम को करने से  पैंक्रियाज के बीटा सेल्स दोबारा एक्टिव हो जाते हैं। जिससे तेजी से इंसुलिन बनने लगता है। इसके साथ ही यह हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है।

अनुलोम विलोम
सबसे पहले पद्मासन की मुद्रा में बैठ जाएं। अब दाएं हाथ की अनामिका और सबसे छोटी उंगली को मिलाकर बाएं नाक पर रखें और अंगूठे को दाएं वाले नाक पर लगा लें। तर्जनी और मध्यमा को मिलाकर मोड़ लें। अब बाएं नाक की ओर से सांस भरें और उसे अनामिका और सबसे छोटी उंगली को मिलाकर बंद कर लें। इसके बाद दाएं नाक की ओर से अंगूठे को हटाकर सांस बाहर निकाल दें। इस आसन को 5 मिनट से लेकर आधा घंटा कर सकते हैं।   

यह भी पढ़ें अमरबेल का सेवन है प्रजनन शक्ति बढ़ाने में उपयोगी

डेयरी प्रोडक्ट्स
डेयरी प्रोडक्ट्स में सबसे अधिक कैल्शियम पाया जाता है। इसलिए जितना हो सके दूध, दही, पनीर आदि का सेवन करे। 

औषधि

  • 1 ग्राम कैल्शियम रोजाना चाहिए। इसके लिए आप मुक्ता शुक्ति 1 ग्राम और मोतिपिष्टी एक चौथाई भाग लेकर सेवन करे। इसमें अधिक मात्रा में कैल्शियम पाई जाती हैं। जो इस कमी को पूरा करेगी। 
  • हल्दी, मेथी, ,सौंठ, सुराजान और अश्वगंधा और शतावर का सेवन करे।

गिलोय
गिलोय में गिलोइन नामक ग्लूकोसाइड और टीनोस्पोरिन, पामेरिन एवं टीनोस्पोरिक एसिड, कॉपर, आयरन, फास्फोरस, जिंक,कैल्शियम, मैग्नीशियम पाया जाता है। इससे आपकी हड्डियां मजबूत होगी। इसके लिए आप  गिलोय सत्व, गिलोय जूस  या गिलोय स्वरस और गिलोय चूर्ण का सेवन कर सकते हैं। 

वर्जिन कोकोनट ऑयल
आयुर्वेद के अनुसार वर्जिन कोकोनट ऑयल सेहत के लिए काफी फायदेमंद है। इसमें एंटिएलर्जिक, एंटिबायॉटिक, एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरिया के साथ-साथ कैल्शियम  जैसे तत्व पाए जाते हैं। इसलिए रोजाना सुबह 1 चम्मच वर्जिन कोकोनट ऑयल का सेवन करे। 

Calcium rich foods for healthy bones कैल्शियम की कमी

क्या आपको कभी बिना किसी कारण के हड्डियों और मांसपेशियों में दर्द महसूस होता है? आप बाम और स्प्रे लगाकर दर्द ठीक करने का प्रयत्न करते हैं परन्तु दर्द फिर भी बना रहता है और आपको रोज़मर्रा के सामान्य कामों को करने में भी समस्या महसूस होने लगती है। कैल्शियम शरीर के लिए एक महत्वपूर्ण खनिज है। हमारे दांतों और हड्डियों में 99% कैल्शियम होता है।

यदि शरीर में कैल्शियम की कमी हो जाती है तो हड्डियां कमज़ोर और नाज़ुक हो जाती हैं। इससे हड्डी टूटने का खतरा (फ्रेक्चर) अधिक रहता है। शरीर के लिए कैल्शियम की आवश्यक मात्रा इस प्रकार है: वयस्क तथा बुजुर्गों के लिए प्रतिदिन 1000-1300 मिग्रा., किशोरों के लिए प्रतिदिन 1300 मिग्रा., बच्चों के लिए प्रतिदिन 700-1000 मिग्रा, तथा एक वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए 250-300 मिग्रा. प्रतिदिन।

यह भी पढ़ेंशिलाजीत के फायदे – शरीर की हर बीमारी को दूर करें इस औषधि से

सभी उपलब्ध उपचारों के अलावा प्राकृतिक घरेलू उत्पाद भी अच्छे उपचार हैं जो शरीर में कैल्शियम का स्तर बढ़ाने के लिए उत्तम होते हैं तथा ये कृत्रिम स्त्रोतों की तुलना में अधिक अच्छे माने जाते हैं। घरेलू उपचारों का एक लाभ यह है कि इसमें जडी बूटियों को प्राकृतिक रूप में उपयोग में लाया जाता है जिसमें कोई मिलावट नहीं होती तथा इन उपचारों का कोई दुष्परिणाम भी नहीं होता। शरीर में कैल्शियम की कमी होने पर न सिर्फ आपकी हड्डियां कमजोर होती है, बल्कि कई बीमारी हो जाती हैं. आप खाने में इन चीजों को शामिल करके कैल्शियम की कमी को पूरा कर सकते हैं. यहाँ कैल्शियम की कमी को दूर करने के लिए 10 घरेलू उपचारों के बारे में बताया गया है। आइए देखें:

1. आंवला (अम्लाक्की): आंवला में एंटीऑक्सीडेंट के गुण पाए जाते हैं। आंवले में कैल्शियम प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। इसे फल के रूप में भी खाया जा सकता है या पानी में उबालकर भी इसका सेवन किया जा सकता है।

2. तिल: कैल्शियम की कमी को दूर करने के लिए कैल्शियम एक अच्छा उपचार है। एक टेबल स्पून में लगभग 88 मिग्रा. कैल्शियम होता है। इसे पीसकर पाउडर के रूप में भी खाया जा सकता है या इसे सूप, सीरियल्स या सलाद में मिलाकर भी खाया जा सकता है।

3.दूध: दूध कैल्शियम का सबसे उत्तम स्त्रोत है। एक कप गर्म दूध लें तथा उसमें एक चम्मच भुने हुए तिल का पाउडर मिलाएं। इसे अच्छे से मिलाएं तथा पीयें। इसे दिन में तीन बार पीने से अच्छे परिणाम मिलेंगे।

4.जीरा: एक गिलास पानी उबालें तथा इसमें एक टीस्पून जीरा मिलाएं। इसे ठंडा होने के बाद अच्छे से मिलाएं। इस पानी को दिन में कम से कम दो बार पीयें। इससे शरीर में कैल्शियम की कमी दूर होगी।

5. अदरक: एक गिलास पानी उबालें। इसमें अदरक के 1-2 टुकड़े डाले तथा कुछ देर तक उबालें। इसे छान लें तथा इसका स्वाद अच्छा बनाने के लिए इसमें अपने स्वाद के अनुसार शहद मिलाएं।

6. अश्वगंधा: अश्वगंधा एक प्राचीन जडी बूटी है। यह अपने एंटीऑक्सीडेंट और प्रदह्नाशे गुणों के लिए जानी जाती है तथा शरीर में कैल्शियम की कमी को दूर करने में सहायक है।

7. गुग्गुल: गुग्गुल एक आयुर्वेदिक हर्बल घटक है जो शरीर में कैल्शियम की कमी को दूर करता है। नियमित तौर पर लगभग 250 मिग्रा. से 2 ग्राम तक गुग्गुल का सेवन करने से शरीर में कैल्शियम की कमी दूर होती है।

8. दही: दही में कैल्शियम प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। प्रतिदिन एक कप दही का सेवन करने से शरीर के लिए आवश्यक कैल्शियम की पूर्ति हो जाती है। एक कप दही में 250-300 मिग्रा. कैल्शियम होता है।

9. गुडूची (गिलोय, अमृतवल्ली): इसकी पत्तियों का सेवन किया जा सकता है या पत्तियों को सुखाकर इसके पाउडर का उपयोग भी किया जा सकता है। केवल पत्तियां ही नहीं बल्कि इसकी जड़ और तने को भी सुखाकर पाउडर के रूप में इसका उपयोग किया जा सकता है।

10. रागी: रागी एक प्रकार का अनाज होता है जिसमें कैल्शियम प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इसे अनाज के रूप में या इसके आटे का सेवन किया जा सकता है। प्रतिदिन एक कप रागी का सेवन करने से शरीर में कैल्शियम की कमी नहीं होती।

Please Like and Share Our Facebook Page
Herbal Medicines

Find US On Instagram
Herbal Medicines

Find US On Twitter
Herbal Medicines

This Post Has One Comment

Leave a Reply