All Ayurvedic

गुर्दे की पथरी निकालने के 10 घरेलू इलाज

गुर्दे की पथरी निकालने के 10 घरेलू इलाज

Spread the love
गुर्दे की पथरी

किडनी स्टोन आपकी सेहत पर बुरा प्रभाव डाल सकते हैं. इसलिए यह जरूरी हो जाता है कि गुर्दे की पथरी के लक्षण (Symptoms Of Kidney Stone) पहचान कर आप समय रहते इसके लिए इलाज तलाश लें. अक्सर लोग किडनी स्टोन के घरेलू उपाय (Kidney Stone Home Remedies) तलाशते हैं. ऐसे कई घरेलू नुस्खे हैं जो किडनी स्टोन का इलाज (Treatment Of Kidney Stone) साबित हो सकते हैं.

किडनी हमारे शरीर का महत्वपूर्ण अंग है. यह एब्डोमेन (Abdominal) के ठीक पीछे होती है. मानव शरीर में दो किडनी होती हैं. जिनका काम शरीर से नुकसानदायक टॉक्सिन को बाहर निकाल फेंकना और शरीर में पानी का स्तर और अन्य तरल पदार्थों, केमिकल और मिनरल का स्तर सही बनाए रखना है. हम दिनभर में बहुत कुछ खाते हैं और जो खाते हैं उसी से हमारा शरीर ताकत लेता है और काम करता है. तो खाने से इन पोषक तत्वों को आपके शरीर तक खून के रूप में पहुंचाने का काम किडनी करती हैं.

गुर्दे की पथरी (Calculi) मिनरल्स और नमक से बनी एक ठोस जमावट होती है। इनका माप छोटे से लेकर बड़ा हो सकता है। यह गुर्दे  में या मूत्रपथ में पाई जाती है। मूत्रपथ में गुर्दे, मूत्रवाहिनी (Ureter), मूत्राशय (Bladder), मूत्रमार्ग, (urethra) होते है। इसमें बहुत ज्यादा दर्द होता है। 

इसमें वात दोष मूत्राशय में आये हुए शुक्र सहित मूत्र को या पित्त के साथ कफ को सूखा देता है तब पथरी बन जाती है। जब यह अश्मरी मूत्र मार्ग में आ जाती है तब मूत्र त्याग में अत्यधिक रुकावट एवं असहनीय पीड़ा उत्पन्न करती है। इसके कारण अंडकोष से लेकर लिङ्ग मूत्राशय एवं पार्श्व में पीड़ा होती है।

गुर्दे की पथरी के लक्षण

  • मूत्र त्याग के समय दर्द
  • पीठ के निचले हिस्से, पेट में दर्द और ऐंठन 
  • मूत्र में रक्त आना
  • जी मिचलाना और उल्टी आना
  • दुर्गन्धयुक्त पेशाब
  • बार-बार पेशाब आना परंतु खुलकर पेशाब न आना
  • बुखार, पसीना निकलना आदि

गुर्दे की पथरी निकालने के घरेलू उपाय 

1.सौंफ मिश्री, सूखा धनिया, इनको 50-50 ग्रा. मात्रा में लेकर रात को 11/2 कप ठंडा पानी मिलाकर पीने से पथरी (Calculi) पेशाब के रास्ते बाहर निकल जाती है।

2. तुलसी का इस्तेमाल करना किडनी स्टोन दूर करने का काफी प्रचलित घरेलू उपाय (Kidney stone ke gharelu upay) है. इसके लिए प्रतिदिन 5-7 तुलसी के पत्तों को चबाकर खाएँ। इसमें एसिटिक एसिड एवं अन्य जरूरी तेल होते है जो पथरी को तोड़कर पेशाब के रास्ते बाहर निकालते है। यह दर्द निवारक की तरह भी काम करती है। अधिकांश लोग तुलसी का इस्तेमाल पथरी की दवा के रूप में करते हैं।

3. चौलाई की सब्जी गुर्दे की पथरी (Calculi) से निजात दिलाती है। यह पथरी को गलाने का रामबाण इलाज (Pathri ka ilaj) है।

4. 2-3 बेलपत्र को पानी के साथ पीस लें और इसमें एक चुटकी काली मिर्च मिलाकर खाएँ। दो सप्ताह तक इसका सेवन करने से गुर्दे की पथरी निकल आती है। 

5. एक चम्मच इलायची, खरबूजे के बीज की गिरी और दो चम्मच मिश्री एक कप पानी में डालकर उबालें ठंडा होने के बाद सुबह-शाम पिएँ। यह पथरी के इलाज में दवा की तरह असर करती है.

6. तरबूज में पोटैशियम होता है जो किडनी को मजबूत बनाने में सहायक होते है। ये यूरीन में एसिड लेवल को समान रखता है। पोटाशियम के साथ इसमें पानी की मात्रा भी अधिक होती है। इसे खाने से शरीर में पानी बढ़ता है व पथरी यूरीन के द्वारा निकल जाती है। इसके अलावा तरबूज के रस में एक चौथाई चम्मच धनिया पाउडर डालकर सेवन करें। दिन में दो-तीन बार ऐसा करें।

7. खूब पानी पीएं

पानी हमारे लिए बहुत जरूरी है. ये बात तो आपने यकीनन सुनी होगी कि हमारा शरीर 70 फीसदी पानी है. तो समझ जाएं कि पानी किसी भी बीमारी को दूर करने में कितना मददगार साबित हो सकता है. पानी आपके शरीर को हाइड्रेशन रखता है. पानी डाइजेस्टिव सिस्टम को ठीक रखने में भी मददगार है. आप जितना पानी पीएंगे यूरिन के द्वारा शरीर से बेकार टॉक्सिन पदार्थ उतने ही ज्यादा बाहर जाएंगे. किसी भी सामान्य व्यक्ति को दिन में कम से कम 7-8 गिलास पानी पीना चाहिए. और अगर आपको किडनी स्टोन है तो आप इससे ज्यादा पानी पिएं यह स्टोन को बाहर करने में मदद कर सकता है.  

8. नींबू का रस और जैतुन का तेल (गुर्दे की पथरी)

तो चलिए हम आपको बताते है कि बिना सर्जरी के कैसे ठीक करें किडनी स्टोन. हो सकता है कि नींबू रस और जैतुन का तेल सुनने में आपको थोड़ा अजीब लगे, लेकिन यह बहुत ही प्रभावी घरेलू नुस्खा साबित होगा. नींबू और जैतुन के तेल को मिला कर बने इसे नुस्खे से आप अपनी इस तकलीफ से निजात पा सकते हैं. अगर आप बिना सर्जरी के किडनी स्टोन को ठीक करना चाहते हैं, तो आपको यह मिश्रण रोज लेना होगा. इस पेय का फायदा यह होगा कि नींबू जूस स्टोन को काटने (तोड़ने) का काम करेगा और ऑलिव ऑयल या जैतुन का तेल उसे बाहर निकालने में मदद कर सकता है.

9. गुर्दे की पथरी के घरेलू उपाय में इस्तेमाल करें सेब का सिरका 

सेब के रस और सिरका में सिट्रिक एसिड होता है, जो किडनी स्टोन को छोटे-छोटे कणों में काटने का काम करता है. इससे किडनी स्टोन को जड़ से खत्म किया जा सकता है. यह शरीर से टॉक्सिस को बाहर करने में किडनी की मदद करता है. सेब का सिरका लेते समय इसकी मात्रा का पूरा ध्यान रखें. आप इसे दो छोटे चम्मच गर्म पानी के साथ रोज ले सकते हैं. कई मामलों में यह किडनी स्टोन पूरी तरह से ठीक कर देता है. इसे लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर ले लें.

10. गुर्दे की पथरी के घरेलू उपाय में इस्तेमाल करें अनार

अनार में एन्टीऑक्सिडेंड होते हैं. यही वजह है कि यह इम्युन सिस्टम को मजबूत करने का काम करता है. इसके अलावा अनार में और भी बहुत से पोषक तत्व होते हैं. यही वजह है कि अनार को स्वास्थ के लिए बहुत लाभकारी माना जाता है. अनार का जूस आपके शरीर को पानी की कमी से बचाने में मदद करता है और प्राकृतिक तरीके से किडनी स्टोन में राहत दिलाता है.

गिलोय

गिलोय को गुड़ूची के नाम से भी जाना जाता है। वनों में पायी जाने वाली इस बेल को पथरी और पथरी से जुड़े अन्य विकारों के इलाज के लिए जबरदस्त माना गया है। पेशाब करते समय यदि जलन महसूस हो तो गिलोय के तने का चूर्ण 10 ग्राम आंवला के फ लों का चूर्ण 10 ग्राम सोंठ चूर्ण 5 ग्राम गोखरु के बीजों का चूर्ण 3 ग्राम और अश्वगंधा की जड़ों का चूर्ण 5 ग्राम लिया जाए और इसे 100 उस पानी में उबाला जाए, प्राप्त काढ़े को रोगी को दिन में एक बार प्रतिदिन एक माह तक दिया जाना चाहिए।

पुनर्नवा

खरपतवार समझे जाने वाला यह पौधा किडनी में पथरी के लिए एक महत्वपूर्ण पौधा है। पातालकोट के आदिवासियों के अनुसार पथरी की वजह से कमर और पेट में दर्द होने पर पुनर्नवा,कचूर और अदरक की समान मात्रा लेकर रोगी को खिलाना चाहिए, दर्द में तुरंत आराम मिलता है।

बड़ा नींबू या कागज़ी नींबू

इसका एक गिलास रस तैयार कर सुबह सुबह खाली पेट पी लिया जाए, पांच मिमी के आकार तक की पथरी घुलकर निकल आने का दावा ग्रामीण अंचलों के जानकार करते हैं। आंवला पेशाब करते समय जलन या कम पेशाब होने की शिकायत हो तो आंवले से बेहतर उपचार कोई और नहीं।

आंवला

आंवले के फलों का रस, शक्कर और घी का मिश्रण अतिकारगर होता है। हर्बल जानकार भुमका आंवले के रस के साथ, इलायची के दानों को मिलाते है और हल्का गर्म करके पीने की सलाह देते हैं, इनके अनुसार उल्टियां, चक्कर या पेट दर्द जैसी समस्याओं में यह राहत देता ही है। दारू, हल्दी और आंवले के फलों का चूर्ण समान मात्रा में लेने से पेशाब संबंधित समस्याओं में गजब का फायदा होता है।

अश्वगंधा

अश्वगंधा की जड़ों का गुनगुना रस पीने से पथरी का दर्द कम होता है। अश्वगंधा की जड़ों का रस और आंवला के फलों का रस समान मात्रा में आधा आधा कप लिया जाए तो मूत्राशय और मूत्र मार्ग में पेशाब करते समय जलन की शिकायत खत्म हो जाती है और माना जाता है कि यह पथरी को गलाकर पेशाब मार्ग से बाहर भी निकाल फेंकता है। अच्छे परिणामों के लिए इस नुस्खे का इस्तेमाल कम से कम दो माह तक किया जाना चाहिए।

सौंफ

सौंफ की चाय को पथरी के इलाज के लिए एक कारगर उपाय माना जाता है। सौंफ की चाय बनाने के लिए आधा चम्मच सौंफ के बीजों को कुचल लिया जाए और दो कप पानी में पांच मिनट तक उबाला जाए, जब यह गुनगुना हो जाए तो इसे पी लिया जाना चाहिए। ऐसा प्रत्येक दिन दो से तीन बार किया जाए तो पेट दर्द और किडनी के दर्द में राहत मिलती है। सौंफ की जड़ों का रस 25 मिली दिन में दो बार लेने से पेशाब से जुड़ी समस्याओं में तेजी से राहत मिलती है।

गुर्दे की पथरी का दर्द बहुत ही असहनीय और देर तक बना रहता है। दर्द के साथ जी मिचलाना और उल्टी जैसे लक्षण भी दिखाई दे सकते है। गुर्दे की पथरी के कारण गुर्दे या मूत्रपथ में संक्रमण भी हो सकता है अतः दर्द उठने पर ही तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क कर जाँच कराएं  एवं पथरी होने पर तुरंत इलाज करवाएं।

Please Like and Share Our Facebook Page
Herbal Medicines

Find US On Instagram
Herbal Medicines

Find US On Twitter
Herbal Medicines

50 से ज्यादा बिमारियों का इलाज है हरसिंगार (पारिजात)

गहरी और अच्छी नींद लेने के लिए घरेलू उपाय !!

गेंहू जवारे का रस, 300 रोगों की अकेले करता है छुट्टी

मात्र 16 घंटे में kidney की सारी गंदगी को बाहर निकाले

किसी भी नस में ब्लॉकेज नहीं रहने देगा यह रामबाण उपाय

This Post Has 53 Comments

  1. Gopalnath Bhokta

    Kidney me Ston h

  2. Rahul

    Good

Leave a Reply