You are currently viewing ब्लड प्रेशर बढ़ने पर इन घरेलू उपायों से तुरंत होगा कंट्रोल

ब्लड प्रेशर बढ़ने पर इन घरेलू उपायों से तुरंत होगा कंट्रोल

Spread the love
ब्लड प्रेशर

ब्लड प्रेशर – सबसे पहले तो आपको ये समझना होगा कि हाई बीपी है क्या, हाई ब्लड प्रेशर यानी कि उच्च रक्तचाप, आपका हृदय धमनियों के माध्यम से  पूरे शरीर को खून भेजता है, शरीर की धमनियों में जो रक्त बहता है उसे ठीक तरह से बहने के लिए एक निश्चित प्रेशर की जरूरत होती है, मगर ये दबाव अगर बढ़ जाता है तो हाई ब्लड प्रेशर हो जाता है। और अगर दबाव कम हो जाता है तो बीपी लो हो  जाता है। हाई बीपी की वजह होती है आपकी नसों में वसा का जम जाना। आज हम आपको हाई बीपी के लक्षण बताएंगे साथ ही वो उपाय बताएंगे जिससे आप अपना बीपी कम कर सकते हैं।

हाई ब्लड प्रेशर (उच्च रक्तचाप) क्या है? (What is High Blood Pressure?)

जब आपके खाने-पीने में असंतुलन हो जाता है और और शरीर में फैट और वसा की मात्रा बढ़ जाती है तो हाई बीपी होने के आसार भी बढ़ जाते हैं। 

हाई बीपी ( ब्लड प्रेशर ) के कारण (High Blood Pressure Causes in Hindi)

जैसा कि हमने बताया कि हाई ब्लड प्रेशर असंतुलित खाने से होता है, इसके अलावा उन लोगों को भी हाई बीपी हो जाता है जो व्यायाम, खेल-कूद और कोई भी फिजिकल एक्टिविटी नहीं करते हैं, उन्हें हाई बीपी की समस्या होती है। इसके अलावा शुगर या दिल के मरीजों को भी हाई बीपी की समस्या हो जाती है। ज्यादा नमकीन चीजें खाने, या जंक फूड जैसे कि पिज्जा, बर्गर, मोमोज और नूडल्स आदि खाने से भी बीपी की समस्या हो सकती है। इसके अलावा धूम्रपान और शराब के सेवन से भी बीपी बढ़ सकता है। टेंशन लेने से भी बीपी बढ़ जाता है। 

डाइटिंग और एक्सरसाइज के बिना क्या फैट लॉस है मुमकिन?

हाई ब्लड प्रेशर की वजह से हृदय से जुड़े रोग, और गुर्दे से जुड़े रोग की समस्या हो सकती है इसके अलावा आंखें खराब होने का भी खतरा होता है। हाई बीपी से बचने के क्या उपाया हैं और उसके लक्षण क्या हैं आइए जानते हैं।

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण (Symptoms of High Blood Pressure)

सिर दर्द, थकान
गुस्सा और चिड़चिड़ापन
तनाव
सीने में दर्द
सांस लेने में परेशानी
घबराहट 
पैर सुन्न होना
कमजोरी
धुंधला दिखना

हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में कारगर है सहजन

उच्च रक्तचाप से बचाव (How to Prevent High Blood Pressure in Hindi?)

  • सबसे पहले तो खाने पर नियंत्रण रखें, घर का बना खाना खाएं, बाहर का पैक्ड फूड और जंक फूड खाने से बचें। 
  • वेट पर कंट्रोल करें, अगर आपका वजन बढ़ा है तो हाई बीपी हो सकता है।
  • हर दिन आधे घंटे कम से कम व्यायाम करें, खासकर योग करें।
  • साबुत अनाज, फल, सब्जियां, दूध और कम फैट वाले भोजन खाएं, इससे बीपी कम होता है।
  • डाइट में मैग्नीशियम, कैल्शियम और पोटैशियम लें।
  • दाल, सोयाबीन, प्याज, लहसुन आदि खाने में शामिल करें।
  • हर दिन 4-5 अखरोट और 5-6 बादाम खाएं।
  • सेब, अमरूद, संतरे, अनार, केला अनानास, पपीता, मौसंबी आदि फल खाएं।
  • हर रोज सुबह उठकर खाली पेट 2 लहसुन खाएं।
  • नींबू पानी, नारियल पानी, सोया, अलसी और काले चने का सेवन करें।
  • खूब पानी पिएं।
  • सलाद खाने के साथ शामिल करें, इसमें आप प्याज, मूली, टमाटर, गाजर, खीरा, पत्ता गोभी आदि।

हाई बीपी (ब्लड प्रेशर) में किन चीजों से करना चाहिए परहेज

  • नमक कम खाएं
  • कॉफी और चाय का सेवन कम से कम करें।
  • डिब्बा बंद खाद्य पदार्थ, नमकीन, बिस्किट, चिप्स या कोई भी पैक्ड फूड ना खाएं।
  • स्मोकिंग और शराब से दूर रहें।
  • पिज्जा, बर्गर आदि ना खाएं।
  • खाना खाते समय अपने भोजन में नमक ऊपर से ना डालें, सलाद में भी नमक ना डालें।
  • चटनी, आचार, अजीनोमोटो और सॉस से दूरी बनाकर रखें।
  • कम फैट वाला खाना खाएं, जैसे पूरियां, पराठों से दूरी बनाकर रखें।
  • सोते वक्त बीपी कम होता है इसलिए नींद पूरी लें।
  • गुस्से से दूर रहिए, कोशिश करिए की तनाव भरे माहौल से दूर रहें। इसके लिए आप मेडिटेशन और योग का सहारा भी ले सकते हैं।

बीपी कम करने के घरेलू उपाय (High blood pressure home remedies)

उच्च रक्तचाप से राहत पाने के लिए लोग पहले घरेलू नुस्खे आजमाते हैं। चलिये जानते हैं कि ऐसे कौन-कौन-से घरेलू उपाय हैं जो उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में  सहायता करते हैं-

  • एक चम्मच काली मिर्च पाउडर को गुनगुने पानी में घोल लें, और ये पानी दो-दो घंटे में पीते रहें। 
  • उच्च रक्तचाप के नियंत्रण में तरबूज काफी लाभदायक है। तरबूज के बीज का सेवन करें।
  • हाई ब्लड प्रेशर के मरीज अगर नंगे पांव हरी घास पर 10-15 मिनट चलें तो उनका बीपी नॉर्मल हो जाता है।
  • पालक और गाजर का जूस पीने से भी बीपी कंट्रोल में रहता है।
  • मेथीदाना पाउडर सुबह-शाम पानी के साथ लेने पर बीपी कंट्रोल होता है।
  • अनार और टमाटर का जूस पीने से भी बीपी नियंत्रित होता है।
  • चुकंदर और मूली को छीलकर इसका जूस बनाकर पिएं, इससे भी बीपी कंट्रोल होता है।
  • करेला और सहजन की सब्जी खाएं, इससे हाई बीपी कंट्रोल में रहता है।
  • सुबह खाली पेट लहसुन खाएं।
  • आंवले के रस में शहद मिलाकर सुबह शाम लें।
  • यह उच्च रक्तचाप के रोगियों के लिए बहुत लाभदायक है। इससे हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण ठीक होते हैं।
  • जब बीपी बढ़ा हो तो एक गिलास पानी में आधा नींबू निचोड़कर तीन-तीन घंटे के अंतर पर पिएं।
  • पाँच तुलसी के पत्ती और दो नीम की पत्तियों को पीस लें। इसे एक गिलास पानी में घोल लें और सुबह खाली पेट पिएं।   

दालचीनी हाई बीपी को कंट्रोल करने के लिए सबसे अच्छी दवा

आयुर्वेद में हाई बीपी को कंट्रोल करने के लिए सबसे अच्छी दवा हैं दालचीनी, इसका प्रयोग मसाले के रूप में भी किया जाता हैं. दालचीनी केवल इंसान को दिल की बीमारियों से ही नहीं बल्कि डायबटीज से भी बचाता हैं. इसके प्रयोग से शरीर में एंटीऑक्‍सीडेंट की मात्रा बढ़ जाती हैं और ब्‍लड शुगर की कम. आपको रोज सुबह खाली पेट आधा चम्मच दालचीनी के पाउडर के साथ शहद मिलाकर लेना हैं और फिर ऊपर से गर्म पानी पी लें.

High BP से निजात पाने के लिए अर्जुन का क्षीरपाक इस्तेमाल कर सकते हैं. क्षीरपाक बनाने के लिए अर्जुन की छाल का 10 ग्राम चूर्ण, 100 मिली दूध और 100 मिली पानी लेते हैं. फिर इसे पकाते हैं, जब सिर्फ दूध बच जाए, मतलब सिर्फ 100 मिली रह जाए तब इसे आंच से उतार कर, ठंडा करके, छान कर इसे पीते हैं. 

इसके अलावा लहसुन की दो या तीन कलियों को सुबह खाली पेट पानी के साथ चबाकर खाना चाहिए. चबाने में दिक्कत हो तो लहसुन के रस की 5-6 बूंद 20 मिली पानी में मिलाकर ले सकते हैं. हृदय की कमजोरी को दूर करने के लिए निम्बू में भी विशेष गुण होते हैं. इसके निरंतर प्रयोग से ब्लड वैसल में लचीलापन और कोमलता आ जाती हैं और इनकी कठोरता दूर हो जाती हैं. इसलिए हाई ब्लड प्रेशर अर्थात हाइपरटेंशन जैसे रोग को दूर करने में निम्बू काफी कारगर साबित होता हैं. इससे बुढ़ापे तक दिल शक्तिशाली बना रहता हैं और हार्ट अटैक का डर भी नहीं रहता.

हाई ब्लड प्रेशर को काबू करने के घरेलू नुस्खे | Home Remedies To Control High Blood Pressure

1. अपने सोडियम सेवन को कम करें

विभिन्न फूड्स के साथ नमक लेने से आपके शरीर में सोडियम की मात्रा बढ़ जाती है जो कई स्वास्थ्य समस्याओं का कारण हो सकता है. अध्ययनों में पाया गया है कि अधिक मात्रा में नमक का सेवन आपके ब्लड प्रेशर और स्ट्रोक सहित हृदय की समस्याओं को बढ़ा सकता है. अगर आपको हाई बीपी है तो आपको अपने नमक का सेवन कम कर देना चाहिए और प्रोसेस्ड की बजाय ताजे फूड्स का सेवन करना चाहिए.

2. शराब कम पीना

शराब पीना भी हाई ब्लड प्रेशर का कारण हो सकता है. हाई ब्लड प्रेशर के कई मामले शराब की अधिकता से जुड़े होते हैं. आम तौर पर शराब को आपके दिल की रक्षा के लिए माना जाता है, लेकिन यह केवल तब होता है जब इसे मध्यम मात्रा में लिया जाता है.

3. व्यायाम और कसरत

जो लोग हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित हैं, उनके लिए व्यायाम और कसरत बहुत फायदेमंद हो सकती है. एक नियमित व्यायाम न केवल ब्लड प्रेशर को कम करता है बल्कि आपके कोर को बनाए रखने और आपके दिल को मजबूत बनाने में भी मदद करता है. व्यायाम इस प्रकार हृदय में रक्त के अधिक कुशल पंपिंग के परिणामस्वरूप हो सकता है जो समग्र स्वास्थ्य में सुधार करता है.

150 मिनट का मध्यम व्यायाम, चलने में मदद या 75 मिनट की भारी कसरत जैसे दौड़ना, कार्डियो आदि आपके दिल के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है, लेकिन अपने रक्तचाप को बनाए रखने के लिए 30 मिनट की पैदल चलना चाहिए.

4. कैफीन का सेवन कम करें

कैफीन वास्तव में रक्तचाप को बढ़ावा देता है और अगर आपके पास उच्च रक्तचाप की समस्याएं हैं तो यह खतरनाक हो सकता है. अगर आपने कभी कॉफी पी है तो आपने देखा होगा कि यह शरीर में आपकी ऊर्जा के स्तर को बढ़ावा देती है. यह कैफीन के कारण होता है. हालांकि बहुत से लोग कॉफी पीने के साथ शिकायत या समस्या नहीं करते हैं.

5. अधिक पोटैशियम युक्त भोजन खाएं

पोटेशियम शरीर के लिए महत्वपूर्ण खनिज है. यह सोडियम की अधिकता से छुटकारा पाने में मदद करता है जो आपके रक्त वाहिकाओं पर दबाव को कम करता है. आज हमारे पास जो भी आहार हैं उनमें से अधिकांश में पोटेशियम की तुलना में सोडियम की ओर झुकाव अधिक है. प्रोसेस्ड फूड से बचना चाहिए और ताजा फल और सब्जियों की तरफ ज्यादा ध्यान देना चाहिए.

6. तनाव को मैनेज करें

हम अपने स्वास्थ्य में अक्सर जो उपेक्षा करते हैं, वह मानसिक शांति है. तनाव एक कुंजी हो सकती है जिससे हाई ब्लड प्रेशर हो सकता है. जब कोई व्यक्ति कालानुक्रमिक रूप से तनावग्रस्त होता है तो उसका शरीर एक निरंतर लड़ाई मोड पर होता है. इससे हृदय गति तेज होती है और रक्त वाहिकाएं संकुचित हो जाती हैं जिससे कभी-कभी स्ट्रोक हो जाते हैं.

9. जामुन खाएं

जामुन प्राकृतिक पौधों के यौगिक जैसे पॉलीफेनोल से भरपूर होते हैं जो रक्तचाप को कम करते हैं और हृदय के लिए अच्छे होते हैं. जामुन उनके रसदार स्वाद से अधिक हैं. पॉलीफेनोल्स स्ट्रोक, हृदय की स्थिति और डायबिटीज के खतरे को कम करता है. यह ब्लड प्रेशर, इंसुलिन रेजिस्टेंट और व्यवस्थित सूजन में सुधार करने में भी मदद करता है.

कब जाएं डॉक्टर के पास?

अगर आपका बीपी 140 से ऊपर है और सीने में दर्द और भारीपन महसूस हो और सांस लेने में परेशानी हो। सिर दर्द हो और धुंधला दिखाई दे और कमजोरी फील हो तो बिना देर किए डॉक्टर से कंसल्ट करें। क्योंकि ये कभी भी घातक स्थिति में पहुंच सकता है।

Please Like and Share Our Facebook Page
Herbal Medicines

Find US On Instagram
Herbal Medicines

Find US On Twitter
Herbal Medicines

This Post Has One Comment

Leave a Reply