You are currently viewing सात्विक भोजन खाने से बढ़ती है इम्युनिटी

सात्विक भोजन खाने से बढ़ती है इम्युनिटी

Spread the love

हम जिस प्रकार का भोजन करते हैं, हमारी सेहत उसी प्रकार निखरती या बिगड़ती है। एक्टिव लाइफस्टाइल के साथ हेल्दी डायट भी  स्वस्थ रहने में मदद करती है। इसीलिए, मौसमी फल, सब्ज़ियां, डेयरी और अनाज खाया जाता है। इसी तरह सात्विक भोजन करना भी सेहतमंद रहने का एक तरीका साबित हो सकता है। एक्सपर्ट्स और रिसर्च के अनुसार सात्विक खाना खाने से इम्यून सिस्टम (Immune System) मज़बूत बनता है। जिससे, शरीर में बीमारियों से लड़ने की क्षमता बढ़ती है।

सात्विक भोजन को माइक्रोन्यूट्रिएंट्स से भरपूर माना जाता है। यह ऋषि-मुनियों का भोजन कहा जाता है। इन दिनों ऑर्गेनिक फूड्स का जो चलन हो उसकी जड़ें, सात्विक आहार से ही जु़ड़ी हैं। ऋषि-मुनि  ऐसा ही भोजन खाते थे और उसी से ऊर्जा प्राप्त करते थे। सात्विक आहार में केवल शाकाहारी चीज़ें इस्तेमाल होती हैं। इसमें, प्याज और लहसुन भी नहीं मिलाया जाता। दरअसल, इस तरीके से भोजन की मूल प्रॉपर्टीज़ या गुणों को सहेजने की कोशिश की जाती हैं। 

सात्विक भोजन खाने से सेहत पर प्रभाव 

सात्विक भोजन से गुस्सा, क्रोध, उत्तेजना जैसी भावनाओं पर काबू पाया जा सकता है और यह शरीर से जहरीले पदार्थों को बाहर फेंकने (डिटॉक्स) का भी काम करता है। जिससे, आपके इम्यून सिस्टम सहित शरीर के अन्य ऑर्गन्स को भी काम करने में आसानी होती है। इस तरह आप हमेशा एनर्जेटिक महसूस करते हैं। इसे, योगी डायट के नाम से भी जाना जाता है। सात्विक भोजन में कम मात्रा में भोजन खाने की सलाह भी दी जाती है। जिससे, पोर्शन कंट्रोल का काम होता है। इसी तरह, सात्विक भोजन आसानी से पच जाता है। यह पेट और मन को आराम पहुंचाता है। 

क्या है सात्विक आहार

सात्विक आहार आयुर्वेद और योग साहित्य में सुझाए गए खाद्य पदार्थों पर आधारित एक आहार है जिसमें गुणवत्ता सत्त्व होता है। आहार वर्गीकरण की इस प्रणाली में, शरीर की ऊर्जा को कम करने वाले खाद्य पदार्थों को तामसिक माना जाता है, जबकि शरीर की ऊर्जा की वृद्धि करने वाले खाद्य पदार्थों को राजसिक माना जाता है।

एक सात्विक आहार खाद्य पदार्थों और खाने की उन आदतों को शामिल करता है, जो “शुद्ध, आवश्यक, प्राकृतिक, महत्वपूर्ण, ऊर्जा युक्त, स्वच्छ, जागरूक, सत्य, ईमानदार, बुद्धिमान” हैं। एक सात्विक आहार धार्मिक तत्व अहिंसा, अहिंसा के सिद्धांत, या अन्य जीवित चीज़ों को नुकसान पहुंचाने जैसी बातों को भी शामिल करता है और, यही कारण है कि योगी अक्सर शाकाहारी आहार का पालन करते हैं।

सात्विक भोजन में ताज़ा फल, ताज़ा सब्ज़ियां, अनाज, दालें, अंकुरित दालें, नट्स, बीज, शहद, ताज़ा औषधियां, दूध और डेयरी पदार्थ शामिल होते हैं।

पुरानी बीमारी के ख़तरे को कम कर सकता है

​ऐसा माना जाता है कि सात्विक खाने से कैंसर और डायबिटीज़ जैसी बीमारियों का ख़तरा कम हो जाता है। एक व्यक्ति की सेहत में काफी सुधार आता है।

इम्यूनिटी को बढ़ाता है

सात्विक भोजन पोषक तत्वों से भरपूर होता है, जो शरीर को विटामिन, खनीज पदार्थ, एंटीऑक्सीडेंट, प्रोटीन और फैट्स प्रदान करता है। ये सभी चीज़ें बीमारियों को दूर करके शरीर की इम्यूनिटी को बढ़ावा देती हैं।

वज़न घटाना

सात्विक खाना फाइबर और सब्ज़ियों से भरपूर होता है, इसलिए इसे खाने से वज़न कम होता है। शोध बताते हैं, कि शाकाहारी खाना खाने से वज़न नियंत्रण में रहता है और शरीर में वसा कम होती है।

क्या न खाएं

अगर आप सात्विक भोजन लेना चाहते हैं, तो इन चीज़ों को खाने में शामिल न करें:

तला खाना: फ्राइज़, तली हुई सब्ज़ियां, पैटीज़ या समोसे आदि।

रिफाइन्ड पदार्थ: सफेद ब्रेड, बेगल, केक, बिस्किट आदि।

चीनी: सफेद चीनी, कॉर्न सिरप, टॉफी या सोडा।

मांस: मटन, मच्छली, चिकन आदि।

कुछ सब्ज़ियां: प्याज़, डुरियन, हरी प्याज़ और लहसुन।

जंक: चिप्स, चीनी युक्त कॉर्न फ्लेक्स, फ्रोजन खाना आदि।

इसके अलावा शराब, कोल्ड डिंक्स, चाय और कॉफी जैसी चीज़ों से भी दूर रहना होगा।

सात्विक आहार खाने के फायदे 

  • स्ट्रेस होता है कम, सात्विक भोजन खाने वालों को मन शांत रहता है। जिससे, उन्हें जल्दी तनाव महसूस नहीं होता।
  • उम्र होती है लम्बी
  • हेल्दी हेयर और ग्लोइंग स्किन मिलती है
  • ब्लड प्रेशर कंट्रोल में होती है मदद
  • डायबिटीज़ को कंट्रोल करने में सहायक
  • थकान और सुस्ती दूर होती है

Please Like and Share Our Facebook Page
Herbal Medicines

Find US On Instagram
Herbal Medicines

Find US On Twitter
Herbal Medicines

Leave a Reply