You are currently viewing एलर्जी  के लक्षण !!

एलर्जी के लक्षण !!

Spread the love
Created with GIMP

लक्षण: ‘ नाक बहना ‘ छींकें आना ‘ आंखों से पानी आना या खुजली होना ‘ त्वचा का लाल होना और चकत्ते पड़ना ‘ शरीर में खुजली होना ‘ चेहरे, आँखों, होंठ और जीभ पर सूजन होना ‘ उल्टी होना, बुखार होना ‘ थकान और बीमार महसूस करना ‘सांस फूलना ‘ पेट की समस्या पैदा होना ‘कुछ विशेष परिस्थितियों में एनाफिलेक्सिस जैसी गंभीर एलर्जिक प्रतिक्रिया भी पैदा हो सकती है, जो प्राणघातक साबित हो सकती है।

एलर्जिक अस्थमा : एलर्जी वाले पदार्थों के संपर्क में आने से जब सांस की नलियों में सूजन व सिकुड़न पैदा हो जाती है तो सांस लेने में दिक्कत होने लगती है। धूल, वायु प्रदूषण, धुआं आदि इसके मुख्य कारण हैं।

ड्रग एलर्जी : कुछ दवाओं से भी शरीर पर चकत्ते या दाने हो जाते हैं।

मौसमी एलर्जी : मौसमी बदलाव से होने वाली एलर्जी में आंखों में पानी आना, खुजली, जलन व छींक जैसे लक्षण होते हैं।

फंगल एलर्जी : कई बार फंगल इन्फेक्शन यानी फफूंदी के कीटाणुओं के कारण तीव्र एलर्जिक प्रतिक्रिया होती है.

एटॉपिक डर्मेटाइटिस : यह एलर्जी रासायनिक प्रदूषण, पर्यावरण प्रदूषण और कॉस्मेटिक वगैरह के इस्तेमाल के कारण होती है. इसमें त्वचा में सूजन आ जाती है।

नाक की एलर्जी : नाक की एलर्जी को एलर्जिक राइनाइटिस भी कहा जाता है। यह आमतौर पर मौसम बदलते समय पराग कणों के कारण होती है। इसके चलते श्वसन नली में सूजन आ जाती है. छींकें, नाक में खुजली, नाक बहना जैसे लक्षण पैदा होते हैं।

खाद्य पदार्थों की एलर्जी : कई बार कुछ खास खाद्य पदार्थों के प्रति शरीर अति संवेदनशील हो जाता है। ऐसे में इन पदार्थों को खाते ही शरीर प्रतिक्रिया देने लगता है। दूध, मछली, अंडे, गेहूं, मूंगफली से एलर्जी के मामले ज्यादा सामने आते हैं।

कैसे करें बचाव- धूल से एलर्जी हो तो घर में कालीन न बिछाएं. पर्दे, बिस्तर, तकिए साफ रखें। जानवरों के संपर्क में आने से बचें। फफूंद से होने वाली एलर्जी से बचने के लिए घर को साफ-सुथरा रखें।

Leave a Reply