You are currently viewing अमरूद खाने के फायदे !!

अमरूद खाने के फायदे !!

Spread the love

अमरूद बेहतरीन गुणों से भरपूर स्वादिष्ट फल है। अमरूद (Guava) अनेक पोषक तत्व पाए जाते है जो अनगिनत बीमारियों से मानव के शरीर की रक्षा करता है। Amrood में vitamin सी की अच्छी मात्रा होती है जिससे कई बीमारियों में इसका फायदा होता है. आज हम अमरूद के फायदे, औषधीय गुण, प्रयोग और नुकसान  के बारे में जानेगें| अमरूद सामान्य उष्णकटिबंधीय फल हैं  इसकी कई उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में खेती की जाती हैं।

भारत देश में अमरूद ऐसा फल है जो लगभग सभी क्षेत्रों में पाया जाता है। इसमें प्रोटीन 10.5 प्रतिशत, वसा 0. 2 प्रतिशत, कैल्शियम 1.01 प्रतिशत, विटामिन बी 0.2 प्रतिशत पाया जाता है। अमरूद के फलों में आंवला और चेरी के बाद सबसे ज्यादा विटामिन सी पाया जाता है। विटामिन सी इसके छिलके में और उसके ठीक नीचे होता है। इसके बाद गुदे में इसकी मात्रा घटती जाती है। फल के पकने के साथ-साथ यह मात्रा बढ़ती जाती है। अमरूद में मुख्य रूप से सिट्रिक अम्ल पाया जाता है। इसके अलावा भी अमरूद में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं आइए जानते हैं कुछ ऐसे ही गुणों के बारे में….

अमरूद के फायदे मुंह के छाले भगाए दूर 

ठंडा-गर्म खाने या शरीर की तासीर गर्म होने से मुंह में काफी छाले हो गए हैं या अकसर माउथ अल्सर (Mouth Ulcer) की समस्या रहती है तो अमरूद की नई कोमल पत्तियों को चबाना या दातुन करने से आराम मिलता है। अमरूद के ताजा पत्ते में थोड़ा कत्था लपेटकर पान की तरह चबाने से मुंह के छाले ठीक हो जाते हैं।

अमरूद के फायदे से कब्ज से पाएं छुटकारा 

Amrood – Guava (अमरूद) खाने से कब्ज और पेट की कई तरह की अन्य समस्याओं से छुटकारा मिलता है। अमरूद शरीर के मेटाबॉल्जिम को संतुलित रखता है। कब्ज के रोगी कुछ दिनों तक सलाद में सिर्फ पका अमरूद, मूली, गाजर और पुदीने की पत्तियों का ही इस्तेमाल करें तो कब्ज की शिकायत दूर हो जाती है।

अमरूद के फायदे नशे का असर कम करने के लिए

अगर किसी व्यक्ति को भांग का नशाचढ़ गया हो तो उसे अमरूद (Amrood – Guava) के पत्तों का रस पिलाकर या पत्ते चबाने के लिए देकर नशा कम किया जा सकता है।

अमरूद के फायदे करें मुंह की दुर्गंध को दूर

अगर आप मुंह की दुर्गंध से परेशान है तो अमरूद की कोमल पत्त‍ियों को तोड़ें और उन्हें चवाएं ऐसा करना आपके लिए फायदेमंद रहेगा. इसके अतिरिक्त इसे चबाने से दांतों का दर्द भी कम हो जाता है|

अमरूद के फायदे मधुमेह को करें नियंत्रित  

इसके लिए आप अमरूद के 100 ग्राम टुकड़े लेकर उनके बीज निकाल कर उसे ठंडे पानी में 4 घंटे भीगने दीजिए। इसके बाद अमरूद के टुकड़े निकालकर अलग कर दीजिए और पानी पी लीजिए। इस पानी को पीने से डायबिटीज में लाभ होता है।अमरूद के पत्ते के फायदे त्वचा को निखारने के लिए  – Amrood  स्किन के दाग- धब्बे दूर करता है। न केवल खाने से, बल्कि अमरूद को चेहरे पर लगाने से भी त्वचा निखरती है। इसके लिए अमरूद की तजा हरी पत्त‍ियों को तोड़कर इन्हें पीस लें और उसका पेस्ट बनाकर आंखों के नीचे लगायें ऐसा करने से काले घेरे और सूजन कम हो जाती है.

खांसी, जुकाम ठीक करने के लिए अमरूद के फायदे 

अमरूद को राख या बालू में सेक कर रोजाना सुबह-शाम सेवन करने से काली खांसी ठीक होती है। अमरूद पर नमक और कालीमिर्च लगाकर खाने से कफ संबंधी रोग दूर होता है। अमरूद के कोमल पत्तों का काढ़ा बनाकर काली मिर्च डालकर उसे पीते रहने से बुखार में आराम मिलता है। 

Guava ke fayde Guava (अमरूद) खाने से कब्ज और पेट की कई तरह की अन्य समस्याओं से छुटकारा मिलता है। अमरूद शरीर के मेटाबॉल्जिम को संतुलित रखता है। कब्ज के रोगी कुछ दिनों तक सलाद में सिर्फ पका अमरूद, मूली, गाजर और पुदीने की पत्तियों का ही इस्तेमाल करें तो कब्ज की शिकायत दूर हो जाती है।

अगर किसी व्यक्ति को भांग का नशाचढ़ गया हो तो उसे अमरूद (Amrood – Guava) के पत्तों का रस पिलाकर या पत्ते चबाने के लिए देकर नशा कम किया जा सकता है।

पके हुआ अमरूद (Amrood – Guava) खाने से शरीर में हीमोग्लोबिन (Heamoglobin) की कमी दूर होती है। ऐसे में महिलाओं को पका हुआ अमरूद जरूर खाना चाहिए। एनीमिया से पीडि़तों को भी अमरूद खाने की सलाह दी जाती है। वहीं, अमरूद हड्डियों को भी मजबूत बनाता है।

अगर आप मुंह की दुर्गंध से परेशान है तो अमरूद की कोमल पत्त‍ियों को तोड़ें और उन्हें चवाएं ऐसा करना आपके लिए फायदेमंद रहेगा. इसके अतिरिक्त इसे चबाने से दांतों का दर्द भी कम हो जाता है|

इसके लिए आप अमरूद के 100 ग्राम टुकड़े लेकर उनके बीज निकाल कर उसे ठंडे पानी में 4 घंटे भीगने दीजिए। इसके बाद अमरूद के टुकड़े निकालकर अलग कर दीजिए और पानी पी लीजिए। इस पानी को पीने से डायबिटीज में लाभ होता है।

Amrood  स्किन के दाग- धब्बे दूर करता है। न केवल खाने से, बल्कि अमरूद को चेहरे पर लगाने से भी त्वचा निखरती है। इसके लिए अमरूद की तजा हरी पत्त‍ियों को तोड़कर इन्हें पीस लें और उसका पेस्ट बनाकर आंखों के नीचे लगायें ऐसा करने से काले घेरे और सूजन कम हो जाती है.

अमरूद को राख या बालू में सेक कर रोजाना सुबह-शाम सेवन करने से काली खांसी ठीक होती है। अमरूद पर नमक और कालीमिर्च लगाकर खाने से कफ संबंधी रोग दूर होता है। अमरूद के कोमल पत्तों का काढ़ा बनाकर काली मिर्च डालकर उसे पीते रहने से बुखार में आराम मिलता है। 

Leave a Reply