You are currently viewing केंसर के रामबाण इलाज !!

केंसर के रामबाण इलाज !!

Spread the love

यूं तो आज हर आदमी को किसी न किसी बीमारी ने अपने कब्जे में कर रखा है। लेकिन केंसर एक ऐसी बीमारी है जो लाइलाज कही जाती है और आज-कल यह बीमारी तेजी से फैल भी रही है। वैसे तो केंसर का कोई परमानेंट इलाज नहीं है लेकिन फिर भी आर्युवेद ने केंसर से लडऩे के कई तरीके बताये हैं। बल्कि आप हैरान हो जाएंगे की ये रोज़-मर्रा की खाने की चीज़ें आपको ऐसे भयानक मर्ज़ से लड़ने में इतनी मददगार हो सकती हें…

तुलसी का पौधा

तुलसी का पौधा कितना अनमोल है, यह इसी बात से पता चल जाता है कि इसे गुणों को देखकर इसे भगवान की तरह पूजा जाता है। आर्युवेद में बताया गया है कि तुलसी की पत्तियों के रोजाना प्रयोग से केंसर से लड़ा जा सकता है। और इसके लगातार प्रयोग से केंसर खत्म भी हो सकता है।

तुलसी का पौधा

कैंसर की प्रारम्भिक अवस्था में रोगी अगर तुलसी के बीस पत्ते थोड़ा कुचलकर रोज पानी के साथ निगले तो इसे जड़ से खत्म भी किया जा सकता है। तुलसी के बीस पच्चीस पत्ते पीसकर एक बड़ी कटोरी दही या एक गिलास छाछ में मथकर सुबह और शाम पीएं कैंसर रोग में बहुत फायदेमंद होता है।

कैंसर में ये भी फायदा करते हैं

सलाद के पत्तों खायें। में कैल्सियम, फोस्फोरस, आयरन, केरोटीन, थियामीन, राईबोफ्लेविन, नियासीन तथा विटामिन सी जैसे कई विटामिन तथा मिनरल काफी अच्छी मात्रा में होते हैं। इसके अलावा प्रोटीन, वसा, फाईबर, कार्बोहाइड्रेट भी मौजूद होता है।

कैंसर में ये भी फायदा करते हैं

वैज्ञानिकों का कहना हैं कि सोयाबीन में स्थित प्रोटीन कई तरह के कैंसर को रोकने में इतना अधिक सहायक होता है कि इसे कैंसर निरोधक कहा जाता है। विदेशी वैज्ञानिक स्टीफन बर्ने के अनुसार इसमें पाया जाने वाला जेनेसटीन स्तन और प्रोस्टेट कैंसर को रोकने में सहायक होता है।

कैंसर में ये भी फायदा करते हैं

टमाटर जितना रंगीन है उतना ही गुणकारी भी। शायद इसीलिए न केवल सूप और चटनियाँ बल्कि अनेकों खट्टे, मीठे और नमकीन व्यंजनों में भी इसका प्रयोग होता है। टमाटर भोजन के सर्वाधिक लाभदायक पदार्थों में से एक है। हार्वर्ड मेडिकल स्कूल की एक सूचना के अनुसार टमाटर अनेक प्रकार के कैंसरों से हमारी सुरक्षा करता है, जिसमें छाती और गले के कैंसर प्रमुख हैं।

कैंसर में ये भी फायदा करते हैं

एक नए अध्ययन के अनुसार भोजन में अंगूर को नियमित रूप से शामिल कर लिया जाए तो बड़ी आंत में होने वाले कैंसर का खतरा कम हो सकता है। यह कैंसर की तीसरी ऐसी किस्म है, जिसके कारण हर साल विश्व में पांच लाख से अधिक लोगों की मौत हो जाती है।

कैंसर में ये भी फायदा करते हैं

ओमेगा-3 फैटी असिड , जो समुद्री मछलियों, अलसी के बीज में प्रचुर मात्र में पाया जाता है के सेवन से पुरुषों में प्रोस्तेद-कैंसर का खतरा कम करता है ।

कैंसर में ये भी फायदा करते हैं

नित्य भोजन के आधा-एक घंटे बाद एक-दो कली लहसुन की कच्ची ही छीलकर चबाया करें। ऐसा करने से पेट में कैंसर नहीं होता। कैंसर हो भी गया हो तो लहसुन की एक दो कली पीसकर पानी में घोलकर नित्य खाना खाने के बाद आवश्यकतानुसार लगातार एक-दो मात तक पीने से पेट का कैंसर ठीक हो जाता है।

कैंसर में ये भी फायदा करते हैं

तनाव-मुक्त रहिये और कैंसर से बचिए। नवीन खोजों के अनुसार कैंसर का प्रमुख कारण मानसिक तनाव है और शरीर के किस भाग में होगा यह मानसिक तनाव के स्वरूप पर निर्भर है।

कैंसर में ये भी फायदा करते हैं

यदि कैंसर से पीड़ित व्यक्ति इमली तथा अनारदाना का सेवन करता रहे तो उसकी आयु 10 वर्ष तक बढ़ सकती है। कैंसर के रोगी की रोटी आदी न खाकर चावल का ही सेवन करना चाहिए।

कैंसर में ये भी फायदा करते हैं

देखा जाये तो अधिकतर लोगों को देखा गया है वे रात्रि में सोते समय अपने मोबाइल फ़ोन को ध्वनि रहित कर वाइब्रेटमोड(कम्पन स्थिति) में रखकर तकिये के नीचे रखे रहते हैं ताकि किसी और को फ़ोन आने पर निद्रा में व्यवधान न हो, लेकिन वह यह नहीं जानते की मोबाइल में वाइब्रेसन के दौरान निकलने वाली तरंगो के द्वारा मष्तिष्क की कोशिकाओं का या तो विकास रुक जाता है या फिर वे मृतप्रायः हो जाते हैं जिससे ब्रेन में ट्यूमर बनने लगता है जो आगे चलकर ब्रेन कैंसर का रूप बन जाता है.

कैंसर में ये भी फायदा करते हैं

आम तौर पर कैंसर की दवाएँ बीमार कोशिकाओं के साथ-साथ सामान्य कोशिकाओं को भी नुकसान पहुँचाती है, जिससे अन्य रोगों के बढ़ने की संभावना हो जाती है। अश्वगंधा के प्रयोग से केवल कैंसर ग्रस्त कोशिकाएँ व न्यूरान्स ही नष्ट हुए, जबकि अन्य कोशिकाओं व न्यूरान्स को कोई नुकसान नही पहुँचा।

Leave a Reply