You are currently viewing साइटिका का घरेलू उपाय !!

साइटिका का घरेलू उपाय !!

Spread the love

1. काइरोप्रैक्टिक गर्दन और पीठ दर्द के लिए एक तेजी से लोकप्रिय हो रहा प्राकृतिक उपचार है। काइरोप्रैक्टिक, रोग ठीक करने की ऐसी प्रणाली जिसमें रूढ़ या मेरू का  प्रयोग किया जाता है। सूज़न और साइटिका से सम्बंधित अन्य लक्षणों के लिए जिम्मेदार तंत्रिका की परेशानी को कम करने के लिए इसमें विभिन्न तकनीकों को शामिल किया जाता हैं जिसमें तेज़, छोटे झटके देना शामिल हैं। जर्नल ऑफ मैनिपुलेटिव एंड फिजियोलॉजिकल थेराप्यूटिक्स में प्रकाशित एक 2010 के अध्ययन में पाया गया कि काइरोप्रैक्टिक से 60% प्रतिभागियों को साइटिका से शल्यचिकित्सा द्वारा होने वाले लाभ जितना लाभ हुआ था।

2. एक्यूपंक्चर साइटिका के दर्द को दूर करने के लिए एक और प्रभावी प्राकृतिक उपचार है। ये मांसपेशियों को आराम और शरीर को खुद को ठीक करने में मदद करता है। एक्यूपंक्चर का एक और तरीका यह है कि कुछ एक्यूपंक्चर बिंदुओं को उत्तेजित करके, केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को भी उत्तेजित किया जाता है। इसके बदले में रसायनों का स्राव होता है जो या तो दर्द की धारणा को बदलते हैं या स्वस्थ होने की भावना पैदा करते हैं।

3. मालिश चिकित्सा साइटिका के दर्द को दूर कर सकती है और शरीर को भी ठीक करने में मदद कर सकती है, खासकर अगर समस्या मांसपेशियों की ऐंठन से होती है। इसके अलावा, यह तनाव कम करने में मदद करता है, रक्त संचरण को उत्तेजित करता है और गति बढ़ाता है। सेंट जॉन वोर्ट तेल से दिन में 2 या 3 बार जब तक आपको राहत नहीं मिलती तब तक रोजाना प्रभावित क्षेत्र की मालिश करें। सेंट जॉन वोर्ट तेल में सूज़न  विरोधी गुण हैं जो कि साइटिका दर्द और सूज़न  से राहत देने में सहायता करते हैं। एक अन्य विकल्प है कि जायफल पाउडर के 3 चम्मच में 1 कप तिल का तेल मिलाएं। इस मिश्रण को गरम करें। अब इससे ठंडा होने पर प्रभावित क्षेत्र पर मालिश करें। कुछ हफ्तों के लिए रोजाना दिन में कई बार मालिश करें।

4. इसके सूज़न  विरोधी लाभों के के कारण मेथी के बीज से तैयार किए गए  लेप (पोल्टिस) से साइटिका के दर्द को कम करने में मदद हो सकती है। यह गठिया और वातरक्त पीड़ा में भी राहत देता है। मेथी के बीज की एक मुट्ठी पीसकर चिकना पेस्ट बनाने के लिए प्राप्त दूध के साथ इस पाउडर को उबाल लें। इसे प्रभावित क्षेत्र पर लेप के रूप में लगाएं। इसे साफ करने से पहले कुछ घंटों के लिए छोड़ दें। इस उपचार को जब तक आपको राहत नहीं मिलती तब तक दोहराएं।

5. अपने सूज़न  विरोधी गुणों के कारण हल्दी साइटिका के लिए प्रभावी प्राकृतिक उपाय है। इसमें कर्क्यूमिन नामक यौगिक शामिल है जो तंत्रिका दर्द और सूज़न को कम करने में मदद करता है। 1 चम्मच हल्दी में 1 कप दूध मिलाएं। इसमें एक छोटा दालचीनी का टुकड़ा भी डाल सकते हैं। अब इसे उबाल लें। शहद से इस स्वस्थ पेय को मीठा कर लें और एक बार या दो बार रोजाना पियें जब तक की आपको सुधार न दिखे। एक अन्य विकल्प है कुछ हफ्तों के लिए दिन में 3 बार 250 से 500 मिलीग्राम हल्दी के सप्लीमेंट्स लेना। लेकिन इसके लिए पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

6. लाल मिर्च में कैप्सैसिन नामक एक सक्रिय संघटक होता है जो एक प्राकृतिक दर्द निवारक के रूप में काम करता है। यह पदार्थ पी नामक न्यूरोट्रांसमीटर के स्तर को कम करने में मदद करता है, जो दर्द के संकेतों को ट्रांसपोर्ट करता है। 0.025% से 0.075% कैप्सैसिन युक्त क्रीम या मलहम खरीदें। इसे प्रभावित क्षेत्र पर प्रति दिन 4 बार, कम से कम 1 सप्ताह के लिए उपयोग करें। गर्म या ठंडे सेक का प्रयोग करने से साइटिका दर्द और सूज़न  से राहत में मदद मिल सकती है। गर्म सेक के उपचार से तनावग्रस्त मांसपेशियों को आराम मिलता है जो कि साइटिक तंत्रिका पर दबाव डाल सकती हैं। ठंडा सेक तंत्रिका के आसपास सूज़न कम कर देता है और दर्द को भी सुन्न कर देता है। आप गर्म या ठंडे सेक को वैकल्पिक रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं, गर्म सेक से शुरू करें और ठंडे सेक के साथ समाप्त करें। गर्म सेक का उपयोग करते समय, भाप से गर्म तौलिये का उपयोग करें क्योंकि यह अधिक प्रभावी है। 15 से 20 मिनट के लिए प्रभावित क्षेत्र पर गर्म या ठंडे पैक रखें। जब तक आपको राहत नहीं मिलती है, तब तक यह हर कुछ घंटों में सेक करें।

Please Like and Share Our Facebook Page
Herbal Medicines

Find US On Instagram
Herbal Medicines

Find US On Twitter
Herbal Medicines

Leave a Reply