You are currently viewing फटी हुई एड़ियों का घरेलू इलाज !!

फटी हुई एड़ियों का घरेलू इलाज !!

Spread the love

1. एलोवेरा फटी हुई एड़ियों के उपचार के लिए सबसे अच्छा घरेलू उपाय है। एलोवेरा में मौजूद एमिनो एसिड, शुष्क और मृत त्वचा को हटाकर नरम त्वचा करने के लिए उत्तरदाई होते है। अपने पैरों को गर्म पानी में अच्छी तरह से धोकर एलोवेरा को शुष्क और फटी हुई एडियों पर लगायें,  और फिर मोज़े पहनकर रत भर लगा रहने दे। इससे जल्द ही आराम मिलता है।

2. सेव का सिरके में मौजूद हल्के एसिड, शुष्क और मृत त्वचा को नरम करते है। इसके उपयोग से मृत त्वचा निकल जाती है, तथा त्वचा साफ और कोमल बनती है।पैरों को भिगोने के लिए पर्याप्त पानी लेकर उसमें 3 से 4 कप सेव के सिरके को  मिलाएं, और अपने पैरों को 15 मिनिट तक भिगोकर रखें। इस प्रक्रिया को 1-1 दिन के अंतर से अपनाएं।

3. बेकिंग सोडा एक सामान्य रूप से इस्तेमाल किये जाने वाला एक प्रकार का exfoliant है, जो अपने एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण मृत त्वचा को हटाकर, उसे नरम बनाने का काम करता है। लगभग आधी बाल्टी गरम पानी में बेकिंग सोडा को अच्छी तरह से मिलाये, और 10 से 15 मिनिट तक अपने पैरों को भिगाए रखें। फिर उसके बाद पैर को अच्छी तरह से साफ पानी से धो लें।

4. ग्लिसरीन और गुलाब जल का मिश्रण फटी हुई एड़ियों के लिए प्रभावी घरेलू उपाय है। ग्लिसरीन त्वचा को नरम बनाने में मदद करता है और गुलाब जल विटामिन ए, विटामिन बी3, विटामिन सी, विटामिन डी, और विटामिन ई की पूर्ति के साथ ही एंटीऑक्सीडेंट और एंटीसेप्टिक के गुणों को रखता है। अतः ग्लिसरीन और गुलाब जल को अच्छी तरह मिलाकर सोते समय अपने पैरों और फटी हुई एड़ियों पर अच्छी तरह से रगड़ना चाहिए।

5. नींबू में अम्लीय गुण त्वचा को नरम करने में बहुत प्रभावी होते है। यह फटी हुई एड़ियों की दरारों को भरने में तथा मृत त्वचा को हटाने में मदद करता है। फटी हुई एड़ियों के इलाज के लिए गर्म पानी में नींबू रस मिलाकर पैरों को 10 से 15 मिनट के लिए उसमें डुबोकर रखे। ध्यान रहे कि पानी बहुत गर्म ना हो।

6. शहद को एक प्राकृतिक एंटीसेप्टिक माना जाता है, जो शुष्क पैरों की त्वचा और फटी हुई एड़ियों को ठीक करने में मदद करती है, और साथ ही साथ यह त्वचा को पुनर्जीवित करने में सहायक होती है। शहद के लाभदायक गुणों के कारण इसे बहुत से रोगों के इलाज में उपयोग किया जाता है। एक कप शहद को गर्म पानी में मिलाकर पैरों को लगभग 15-20 मिनट तक भिगोकर रखना चाहिए।

7. नींबू के रस में अल्फा-हाइड्रॉक्सी साइट्रिक एसिड पाया जाता है, जिसका उपयोग मृत त्वचा और जीवित कोशिकाओं के बीच आणविक बंधनों को तोड़ने के लिए किया जा सकता है। नींबू का रस फटी हुई एड़ियों में दरारों को कम करने में मदद करता है।
क्षतिग्रस्त एड़ियों में ताजे नींबू को रगड़ें, या फिर सोने से पहले पैर के लिए मॉइस्चराइज़र के रूप में नींबू के रस और जैतून के तेल को मिलाकर उपयोग करें।

8. तिल का तेल बहुत पौष्टिक और मॉइस्चराइजिंग होता है। यह सूखी और फटी हुई एड़ियों को बहुत कुशलता के साथ नरम करने और घाव भरने में मदद करता है।रात में सोने से पहले अपनी फटी हुई एड़ियों या सूखी त्वचा में तिल के तेल से अच्छी तरह मालिश करनी चाहिए।

9. क्रैकेड एड़ियों के इलाज और रोकथाम के लिए विभिन्न प्रकार के वनस्पति तेलों का उपयोग किया जा सकता है। जैसे – जैतून का तेल, तिल का तेल, नारियल का तेल या कोई अन्य हाइड्रोजनीकृत वनस्पति तेल। सोने से पहले वनस्पति तेल को अपनी फटी हुई एड़ियों लगाने से जल्द राहत मिलती है।

10. आपकी त्वचा के लिये नारियल के तेल से बेहतर कोई ओर मॉइस्चराइज़र नहीं है। नारियल का तेल पोषक तत्वों और स्वस्थ फैटी एसिड से परिपूर्ण है, जो तेजी से सूखता है, और स्थायी नमी प्रदान करता है। नारियल के तेल में पाये जाने वाले फैटी एसिड में एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं, जो फटी हुई एड़ियों के संक्रमण से होने वाली जलन और दर्द को राहत प्रदान करते हैं।

Leave a Reply