You are currently viewing गाय के देसी घी के फायदे !!

गाय के देसी घी के फायदे !!

Spread the love

आयुर्वेद विशेषज्ञों के अनुसार अनिद्रा का रोगी शाम को दोनों नथुनों में गाय के घी की दो-दो बूंद डालें और रात को नाभि और पैर के तलुओं में लगाकर लेट जाएं तो उससे  अच्छी नींद आ जाएगी।

गाय का घी नाक में डालने से कोमा से बाहर निकल कर चेतना वापस लौट आती है। गाय का घी नाक में डालने से पागलपन दूर होता है। गाय का घी नाक में डालने से एलर्जी खत्म हो जाती है।

गाय के घी में वैक्सीन एसिड, बीटा-कैरोटीन जैसे माइक्रो न्यूट्रिएंट्स मौजूद होते हैं। जिस का सेवन करने से कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से बचा जा सकता है। गाय के घी से उत्पन्न  माइक्रो न्यूट्रिएंट्स में कैंसर युक्त तत्वों से लड़ने की क्षमता होती है।

गाय के घी में स्वर्ण छार पाए जाते हैं, जिसमे अद्भुत औषधीय गुण होते हैं। जो की गाय के घी के अलावा अन्य घी में  नहीं मिलते। गाय के घी से बेहतर कोई दूसरी चीज़ नहीं है।

गाय के घी का नियमित सेवन करने से एसिडिटी व कब्ज़ की शिकायत कम हो जाती है। आपको यदि अधिक कमजोरी लगे तो एक चम्मच गाय का घी और मिश्री डालकर पी लें। गाय का घी नाक में डालने से बाल झड़ना समाप्त होकर नए बाल भी आने लगते हैं ।

हिचकी के न रुकने पर गाय का आधा चम्मच घी खायें, हिचकी स्वयं रुक जाएगी। गाय का घी नाक में डालने से कान का पर्दा बिना आपरेशन के ही ठीक हो जाता है। हाथ और पांव के तलवों में जलन होने पर गाय के घी की मालिश करने से जलन में आराम आयेगा।

गाय के घी को रसायन कहा गया है। जो जवानी को कायम रखते हुए, बुढ़ापे को दूर रखता है। काली गाय का घी खाने से बूढ़ा व्यक्ति भी जवान जैसा हो जाता है। गाय के घी से बल और शारीरिक व मानसिक ताकत में भी  इजाफा होता है।

Leave a Reply