You are currently viewing गुलाब के फूल – कई रोगों की रामबाण दवा

गुलाब के फूल – कई रोगों की रामबाण दवा

Spread the love
गुलाब

गुलाब का नाम सुनते ही होंठो पर एक हल्की  मुस्कान आ जाती है, हैं न। यह एक ऐसा फूल है जिसका पौधा कंटीला होने के बावजूद  फूल इतना मनमोहक होता है कि सबका दिल महक और सुंदरता से मोह लेता है। इसके मुग्ध रूप के अलावा औषधीय गुण भी अनगिनत हैं। आयुर्वेद में  इसका इस्तेमाल कई बीमारियों के लिए इलाज के रूप में प्रयोग किया जाता है। 

यह मुख संबंधी रोग, रक्तपित्त (नाक-कान से खून बहने की बीमारी), दाह या जलन, तृष्णा या प्यास लगने का रोग, विष, छर्दि या उल्टी तथा रक्तातिसारनाशक या दस्त से खून निकलने जैसे बीमारियों के इलाज में लाभदायक होता है।

गुलाब के फूल शीतल, वर्ण्य, वातपित्त कम करने वाला, विदाह नाशक या जलने की अनुभूति कम करने में सहायक, कास या खांसी, श्वसनिकाशोथ (Bronchitis), व्रण या अल्सर (घाव), श्वास दौर्गन्ध्य (सांस की बदबू), अजीर्ण या बदहजमी, आध्मान या पेट फूलना, उदरशूल या पेट में दर्द, त्वक् रोग या चर्म रोग, हृदय रोग, ज्वर, विसर्प या हर्पिज, अर्श या बवासीर तथा सामान्य दौर्बल्य या कमजोरी में लाभप्रद होते हैं।

गुलाब का अर्क सर; शीत; पूयरोधी या एंटीसेप्टिक, सुंधित (Fragrant), श्रम या मेहनत, दाह या जलन, तृष्णा, पित्तज रोग तथा मुखरोग से राहत दिलाने में फायदेमंद होता है।  

गुलाब के फायदे और उपयोग

मुँह संबंधी रोगों में लाभकारी

गुलाब के फूलों का हिम बनाकर गरारा करने से मुँह के सूजन, सांस की बदबू, तथा गले के दर्द के इलाज में मदद मिलती है। इसके अलावा गुलाब के पत्तों को चबाने से भी मुँह और होंठों की सूजन कम होती है।

पलको की सूजन कम करने में सहायक है

गुलाब के फूलों को पीसकर लगाने से पलकों की सूजन कम होने लगती है। इसके अलावा दांत पर मलने से दांत संबंधी रोगों से निजात पाने में मदद मिलती है। इसके अलावा गुलाब के अर्क को 2-2 बूंद आंखों में डालने से आँखों के बीमारी से राहत दिलाने में बहुत फायदेमंद होता है।

कुष्ठ के इलाज में लाभकारी

गुलाब के फूल कई रंग के होते हैं, उसमें सफेद रंग का फूल कुष्ठ के इलाज में काम आता है। सफेद गुलाब के पुष्पों को पीसकर लगाने से कुष्ठ तथा अन्य पित्तज विकार नष्ट होते हैं।

चेचक के इलाज में फायदेमंद

गुलाब के फूलों को सुखाकर चूर्ण या पाउडर की तरह बनाकर चेचक से पीड़ित व्यक्ति के बिस्तर पर डालने से चेचक के व्रण या घाव जल्दी सूख जाते हैं।

उदावर्त या पेट संबंधी रोग में फायदेमंद

2-4 ग्राम गुलाब फूल के चूर्ण को शहद के साथ सेवन करने से कब्ज, उदावर्त तथा अतिसार या दस्त में लाभ होता है।

गुलाब का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए

यदि आप किसी ख़ास बीमारी के घरेलू इलाज के लिए गुलाब का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो बेहतर होगा कि किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह के अनुसार ही इसका उपयोग करें। चिकित्सक के सलाह के अनुसार 3-6 ग्राम चूर्ण, 20-40 मिली (गुलाब अर्क) अर्क, 10-20 ग्राम गुलकंद (गुलाब की पंखुड़ी से बने) ले सकते हैं।

Please Like and Share Our Facebook Page
Herbal Medicines

Find US On Instagram
Herbal Medicines

Find US On Twitter
Herbal Medicines

गुर्दे की पथरी निकालने के 10 घरेलू इलाज

दाद खाज खुजली को ठीक करने के घरेलू इलाज

मिर्गी का आयुर्वेदिक इलाज – Mirgi (Epilepsy) Ka Ayurvedic ilaj

पेशाब का रंग बताता है शरीर की दिक्कत, ध्यान देने की जरूरत

यूरिक एसिड (Uric Acid) के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय

फड पॉइजनिंग के लक्षण और घरेलू उपचार

This Post Has One Comment

  1. Khushbu

    Nice

Leave a Reply