You are currently viewing जैतून के तेल के फायदे जानकर आप हैरान रह जाएंगे !!

जैतून के तेल के फायदे जानकर आप हैरान रह जाएंगे !!

Spread the love
जैतून

जैतून में ओलेइक एसिड होता है जो स्तन कैंसरको बढ़ाने वाले रिसेप्टर्स के विकास को कम करता है। जैतून में हाइड्रॉक्सीटीरोसोल (hydroxytyrosol) होता है जो डीएनए परिवर्तन और असामान्य कोशिका वृद्धि को रोकने का काम करता है।

जैतून में हाइड्रॉक्सीटीरोसोल (hydroxytyrosol) के साथ-साथ ऑलियोरोपिन (oleuropein) यौगिक भी होता है, जो हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होते हैं। इसके अलावा यह सकारात्मक रूप से कैल्शियम को बढ़ाने में मदद करता है जो हड्डियों को मजबूत रखने के लिए जरूरी होता है। एक स्टडी के अनुसार यह ऑस्टियोपोरोसिस और उसके खतरे को कम करने में मददगार पाया गया है।

जैतून के पोषक तत्व न केवल एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करते हैं बल्कि ये सूजन भी कम करते हैं। ये शरीर के कई अंगों में सूजन कम करते हैं, जैसे कि जोड़ों, मांसपेशियों और टेंडन में। विशेष रूप से यह गठिया, और अन्य आमवाती समस्याओं के लिए लाभकारी हो सकता है और साथ ही यह इन समस्याओं से जुड़े दर्द को कम कर सकता है।

जैतून फाइबर का एक स्वस्थ स्रोत है। एक कप जैतून फाइबर की दैनिक आवश्यकताओं का लगभग 20% प्रदान करता है। ज्यादा मात्रा में फाइबर खाना आपके पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में मदद करता है। आहार में फाइबर अधिक होने से पेट साफ भी रहता है।

जैतून एलर्जी प्रतिक्रियाओं की तीव्रता या आवृत्ति को कम करने में मदद कर सकते हैं। जैतून के कुछ घटक हिस्टामाइन (histamine: एलर्जी प्रतिक्रियाओं को बढ़ाने वाले शारीरिक तत्व) के लिए रिसेप्टर साइट को अवरुद्ध करके एंटी-हिस्टामाइन के रूप में कार्य करते हैं। अपने आहार में जैतून का सेवन करने से, आप मौसमी एलर्जी के लक्षणों को कम कर सकते हैं, साथ ही साथ विशिष्ट एलर्जी प्रतिक्रियाएं भी कम कर सकते हैं। यह जैतून खाने का एक महत्वपूर्ण लाभ है जिसे अक्सर अनदेखा किया जाता है।

जैतून आयरन और तांबा दोनों का एक बहुत ही अच्छा स्रोत है। लोहा और तांबा लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण के लिए दो आवश्यक घटक होते हैं। इन दो खनिजों के बिना, शरीर में लाल रक्त कोशिका की गिनती कम हो सकती है जिससे एनीमिया हो सकता है। रक्त कोशिका की गिनती में कमी आना थकान, खराब पेट, सिरदर्द, संज्ञानात्मक खराबी आदि का भी कारण हो सकता है।

जैतून का सेवन उम्र बढ़ने के लक्षण कम करने में मदद करता है जैसे झुर्रियाँ और अन्य त्वचा से संबंधित बीमारियां। जैतून एक बहुत ही प्रभावी स्किन क्लींजर के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। इसमें मौजूद तांबा, लोहा, फाइबर और विटामिन ई त्वचा को नरम और स्वस्थ रखने में सहायता करते हैं।

Please Like and Share Our Facebook Page
Herbal Medicines

Find US On Instagram
Herbal Medicines

Find US On Twitter
Herbal Medicines

50 से ज्यादा बिमारियों का इलाज है हरसिंगार (पारिजात)

गहरी और अच्छी नींद लेने के लिए घरेलू उपाय !!

गेंहू जवारे का रस, 300 रोगों की अकेले करता है छुट्टी

मात्र 16 घंटे में kidney की सारी गंदगी को बाहर निकाले

किसी भी नस में ब्लॉकेज नहीं रहने देगा यह रामबाण उपाय

गुर्दे की पथरी निकालने के 10 घरेलू इलाज

दाद खाज खुजली को ठीक करने के घरेलू इलाज

मिर्गी का आयुर्वेदिक इलाज – Mirgi (Epilepsy) Ka Ayurvedic ilaj

पेशाब का रंग बताता है शरीर की दिक्कत, ध्यान देने की जरूरत

यूरिक एसिड (Uric Acid) के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय

फड पॉइजनिंग के लक्षण और घरेलू उपचार

हींग का पानी- हींग को पानी में मिलाकर पीने से होंगे ये फायदें

अच्छी नींद आने के लिए घरेलू उपाय, अनिद्रा के लक्षण

हल्दी का दूध – रात को दूध में हल्दी मिलाकर पीने के फायदे

अदरक का पानी पीने के फायदे, जड़ से खत्म होंगे कई रोग

ककोरा – दुनिया की सबसे ताकतवर सब्जी है ककोड़ा/कंटोला

पेशाब से जुड़ी समस्याएं जैसे पेशाब में जलन आदि का घरेलू इलाज

किडनी और लिवर साफ करने के घरेलू उपाय

Leave a Reply