You are currently viewing करेला के स्वास्थ्यवर्धक लाभ

करेला के स्वास्थ्यवर्धक लाभ

Spread the love

उलटी-दस्त या हैजा हो जाने पर करेले के रस में काला नमक मिलाकर पीने से तुरंत आराम मिलता है। जलोदर की समस्या होने पर भी दो चम्मच करेले का रस पानी में मिलाकर पीने से लाभ होता है।

किडनी की समस्याओ में करेले का उबला पानी व करेले का रस दोनों ही बेहद लाभकारी होते हैं। यह किडनी को सक्रिय कर, हानिकारक तत्वों को शरीर से बाहर करने में मदद करता है।

करेले की पत्तियों या फल को पानी में उबालकर इसका सेवन करने से, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, और किसी भी प्रकार का संक्रमण हो, ठीक हो जाता है।

अस्थमा की शिकायत होने पर करेला बेहद फायदेमंद होता है। दमा रोग में करेले की बिना मसाले की सब्जी खाने से लाभ मिलता है।वहीं खूनी बवासीर होने पर भी एक चम्मच करेले के रस में आधा चम्मच शक्कर मिलाकर पीने से आराम होता है।

अगर आप मधुमेह के मरीज हैं, तो करेला आपके लिए रामबाण औषधि है। इसके लिए करेले को छांव में सूखा लें और पीसकर इसका पाउडर तैयार करें। अब इस पाउडर को प्रतिदिन १ चम्मच की मात्रा में सेवन करें।

करेला मधुमेह में रामबाण औषधि का काम करता है। करेले के टुकड़ों को छांव में सुखाकर पीसकर महीन पाउडर का पानी के साथ सेवन करने से लाभ मिलता है।

जोड़ों के दर्द या गठिया जैसी समस्या में करेला बेहद लाभदायक है। प्रतिदिन करेले का जूस या इसकी सब्जी खाने से जोड़ों में दर्द या जोड़ों की अन्य समस्याएं नहीं होती। जोड़ों में करेले के पत्तो का रस लगाने से भी आराम मिलता है।

Leave a Reply