All Ayurvedic

कायफल के फायदे- इस औषधि से होगा 200 बिमारियों का खात्मा

कायफल के फायदे- इस औषधि से होगा 200 बिमारियों का खात्मा

Spread the love
कायफल के फायदे

कायफल के फायदे सबसे पुरानी जड़ी बूटीयों में कायफल का नाम शामिल किया जाता है। इस पौधे का वैज्ञानिक नाम मायटेरस कम्‍यूनिस (Myrtus communis) है। इस औषधीय पौधे का विवरण कई धार्मिक ग्रंथों में मिलता है। कायफल एक सदाबहार झाड़ी है जो कभी-कभी छोटे पेड़ के रूप में भी मिलता है। इसकी ऊंचाई लगभग 5 मीटर तक होती है। इस पौधे के सबसे उपयोगी अंग इसकी पत्तियां होती हैं जिसमें औषधीय तेल होता है। पत्तियों की लंबाई लगभग 3 से 5 सेमी. होती हैं। इस पौधे के फूल स्‍टार के आकार के होते हैं। जिन्‍से ब्‍लैकबेरी की तरह दिखने वाले फल प्राप्‍त होते हैं

कायफल एक प्रकार का पौधा होता है जिसे आयुर्वेद में काफी गुणकारी माना गया है और कई तरह की औषधियों को बनाने में कायफल का प्रयोग किया जाता है। कायफल का तेल और छाल भी काफी लाभदायक होती हैं और इनका प्रयोग भी आयुर्वेदिक दवाइयों को बनाने में किया जाता है। कायफल का सेवन करने से शरीर की प्रतिरक्षा शक्ति बढ़ा जाती है और किडनी के लिए भी कायफल के फायदे होते है। कायफल खाने से शरीर को और क्या-क्या फायदे पहुंचते हैं, वो इस प्रकार हैं। शरीर के लिए काफी फायदेमंद होता है कायफल, जानें कायफल के फायदे और कायफल के नुक्सान

कायफल के फायदे और कायफल के चूर्ण के फायदे

कायफल को संस्कृत में सोमफल’, या ‘कुमुद’ नाम से पुकारा जाता है। कायफल कोई फल नहीं है, अपितु वृक्ष की छाल का नाम है। पर्वतीय क्षेत्रों में विशेषकर हिमालय की पर्वत श्रृंखला और नेपाल के क्षेत्र में इसके वृक्ष पाए जाते हैं। इस वृक्ष के तने मोटे और पत्ते पान की तरह लंबे होते हैं। उन पर धारियाँ होती हैं। इसके पुष्प के अग्रभाग में दो पत्तियाँ ऊपर की ओर उठकर दो तरफ मुड़ी हुई होती हैं। इस वृक्ष का फल शरीफे के आकार का होता है। फल पर अनानास की भाँति उभरी हुई परतें होती हैं।

कायफल तासीर में गर्म होता है। स्वाद में कड़वा, तीखा, कसैला, चरपरा होता है। यह कफ, गत, ज्वर, प्रमेह, बवासीर, खाँसी, गले की खराश, अरुचि, दर्द आदि को नष्ट करने वाला और पित्त, उत्तेजना और शुक्र-शोधन को बढ़ाने वाला होता है।

1. बवासीर में कायफल के फायदे

कायफल (वृक्ष की छाल), कत्था और हींग को 4:2:1 ग्राम अनुपात में लेकर बारीक पीस लें और उसका लेप मस्सों पर करें। मस्से सूखकर गिर जाएँगे। इसे करने से पूर्व पेट की सफाई के लिए कोई चूर्ण या दस्तावर गोली अवश्य ले लें।

2. हैजा में कायफल के फायदे

कायफल के चूर्ण को हैजा से ग्रस्त रोगी के हाथों और पिण्डलियों पर मलने से ठंडा पड़ा शरीर गर्म हो जाता है और उससे हैजे के रोगी को लाभ पहुँचता है।

3. मसूड़ों की कमजोरी और दाँत का दर्द में कायफल के फायदे

कायफल के चूर्ण को दाँतों और मसूड़ों पर मलने से मसूड़े मजबूत हो जाते हैं और दाँतों का दर्द दूर हो जाता है। बादी का पानी बह जाता है। इसके लिए कायफल को दाँतों से चबाना भी चाहिए। इससे लार बहने में आसानी हो जाती है।

4. कान का दर्द में कायफल के फायदे

कायफल को पकाकर उसका तेल निकाल लें और उसे किसी शीशी में भरकर रख लें। जब कभी कान में दर्द हो या कान बहने लगे, तब कायफल के तेल की 1-2 बूंदे कान में टपकाएँ। दर्द खत्म हो जाएगा और कान का बहना भी बंद हो जाएगा।

5. श्वाँस रोग और खाँसी, काली खाँसी में कायफल के फायदे

कायफल की छाल का रस अथवा चूर्ण 2 ग्राम, शहद में मिलाकर चाटने से श्वाँस का रोग और खाँसी में आराम मिलता है। कायफल को बारीक से पीसकर, दालचीनी के सम भाग चूर्ण में मिला लें और उसे शहद के साथ चाटें। इससे पुरानी-से-पुरानी खाँसी और बच्चों की काली खाँसी’ समाप्त हो जाती है।

6. लकवा, पक्षाघात में कायफल के फायदे

कायफल के बारीक चूर्ण को नित्य पानी के साथ 5 ग्राम या आधा चम्मच की मात्रा में लेने से लकवा’ अथवा ‘पक्षाघात’ ठीक हो जाता है।

7. दौरे पड़ने में कायफल के फायदे

यदि किसी को मिर्गी के दौरे पड़ते हों तो कायफल का तेल 2-2 ग्राम बताशे के साथ रोगी को दिया जाए तो दौरे सदा के लिए बंद हो जाते हैं।

8. अवांछित गर्भ और अनियमित मासिक धर्म में कायफल के फायदे

यदि कोई स्त्री अवांछित गर्भ से छुटकारा पाने की इच्छुक हो तो उसे चार कायफल लेकर उन्हें पानी में उबालना चाहिए। फिर उस पानी को 1-2 दिन सुबह-शाम पी लें। इससे अवांछित गर्भ से छुटकारा मिल जाता है। इससे किसी प्रकार की हानि भी नहीं होती। ‘अनियमित मासिक धर्म’ को ठीक करने में भी यह बहुत उपयोगी है।

दवाईयां भी फेल हैं इस रस के आगे, 350 रोगों की अकेले करता है छुट्टी

कमजोर शरीर को फौलादी बनाये एक हफ्ते मे बन जाओगे बस खाए ये चीज

9. कण्ठमाला का रोग में कायफल के फायदे

कायफल को बारीक पीसकर उसे पानी के साथ मिलाकर लेप बना लें और उस लेप को कंठा पर लगा दें। कंठमाला का रोग दूर हो जाएगा। कम से कम 2-3 दिन लेप अवश्य करें।

10. सिर- दर्द में कायफल के फायदे

कायफल के चूर्ण की नसवार लेने से छीकें आएँगी और सिर दर्द जाता रहेगा।

11. गर्भ धारण में कायफल के फायदे

कायफल के 10 ग्राम चूर्ण में 10 ग्राम मिश्री मिला लें और महावारी के तीन दिन तक चूर्ण को दूध के साथ लें या शहद मिलाकर चाट लें। पथ्य में चावल और दूध का प्रयोग करें। इसके बाद पति के साथ सहवास करें। गर्भ निश्चित रूप से धारण होगा।

कायफल के फायदे- मधुमेह से बचाए

डायबिटीज की बीमारी से ग्रस्त लोग कायफल जरूर खाया करें। कायफल को खाने से रक्‍त शर्करा का स्‍तर कम होने लग जाता है और डायबिटीज कंट्रोल में आ जाती है। आयुर्वेद में कायफल को मुधमेह के मरीजों के लिए भी काफी गुणकारी बताया गया है। साथ में ही कायफल पर किए गए शोधों में भी ये पाया गया है कि कायफल को खाने से मुधमेह को कंट्रोल में रखा जा सकता है। कायफल पर किए गए शोधों के अनुसार इसमें पाए जाने वाले तत्व रक्‍त शर्करा प्‍लाज्मा को कम करते हैं और ऐसा होने पर खून में शुगर का स्तर कम होने लग जाता है। इसलिए जिन लोगों को भी शुगर की बीमारी है वो लोग कायफल का सेवन करना शुरु कर दें।

कायफल के फायदे- दिल को रखे हेल्दी

दिल के लिए कायफल काफी फायदेमंद होता है और इसको खाने से दिल हमेशा हल्दी बना रहता हैं। दरअसल कायफल को खाने से खराब कोलेस्ट्रॉल से निजात मिल जाती है और ऐसा होने पर आपके दिल की रक्षा कई तरह की बीमारियों से होती है।

कायफल के फायदे- रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए

शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में कायफल सहायक होता है। कायफल खाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा होता है और शरीर की रक्षा कई तरह की बीमारियों से होती है। दरअसल जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है, वो लोग जल्द ही बीमार पड़ जाते हैं। लेकिन कायफल को खाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है और शरीर की रक्षा कई तरह की बीमारियों से होती है। इसलिए आप अपनी डाइट में कायफल को जरूर शामिल करें और हफ्ते में तीन बार इसे जरूर खाएं।

कायफल के फायदे- चेहरे को चमकाए

कायफल चेहरे के लिए भी गुणकारी होता है और इसे चेहरे पर लगाने से मुंहासों से छुटकारा पाया जा सकता है। अगर आपके चेहरे पर खूब सारे दाने हैं तो आप कायफल के तेल को अपने चेहरे पर लगाएं और हल्के हाथों से अपने चेहरे की मालिश करें।
कायफल का तेल चेहरे पर लगाने से त्वचा यंग भी बनीं रहती है। दरअसल कायफल के तेल के अंदर एंटीऑक्‍सीडेंट मौजूद होता है और एंटीऑक्‍सीडेंट क्षतिग्रस्‍त कोशिकाओं को सही कर देता और ऐसा होने पर आपकी त्वचा जवां लगती हैं । चेहरे के अलावा आप कायफल के तेल से अपने हाथों और गले की भी मालिश कर सकते हैं। हालांकि आप इस बात का ध्यान रखें कि इस तेल को त्वचा पर 15 मिनट से अधिक ना लगाएं और 15 मिनट बाद अपने चेहरे को पानी से साफ कर लें।

कायफल के फायदे- हार्मोन सही रखें

हार्मोन सुंतलित रखने में भी कायफल काफी गुणकारी होती है। कायफल को खाने से हार्मोन में होने वाले परिवर्तनों को रोका जा सकता है। इसलिए जिन महिलाओं को हार्मोनल समस्या रहती है वो कायफल का सेवन करना शुरु कर दें।

कायफल के फायदे- बुखार करे कम

बुखार होने पर आप कायफल का सेवन करें। इसे खाने से शरीर का तापमान अपने आप ही कम हो जाता है। बुखार होने पर आप एक ग्राम कायफल का चूर्ण पानी के साथ खा लें। इस चूर्ण को खाते ही आपको बुखार से आराम मिल जाएगा।

कायफल के फायदे- दांतों का दर्द हो कम

कायफल के पेड़ की छाल को दांतों के लिए काफी लाभदायक माना गया है। इसलिए दांतों में दर्द होने पर आप कायफल के पानी से कुल्ला कर लें। कायफल का पानी तैयार करने के लिए आप कायफल की छाल को गर्म पानी में उबाल लें और फिर इस पानी को थोड़ा ठंडा कर इससे कुल्ला कर लें। हफ्ते में तीन बार इस पानी से कुल्ला करने से दांतों की दर्द एक दम गायब हो जाएगी।

कायफल के फायदे- सर्दी से मिले राहत

सर्दी की समस्या होने पर आप कायफल के चूर्ण का सेवन करें। कायफल का चूर्ण खाने से जुकाम, खांसी और छाती के दर्द से आराम मिल जाता है। जुकाम होने पर आप गर्म पानी के साथ इसके चूर्ण का सेवन करें और दिन में दो बार इसका चूर्ण खाएं।

कायफल के फायदे- दर्द से मिले निजात

कमर, पैरों और घुटनों में दर्द होने पर आप कायफल के तेल से मालिश करें। कायफल का तेल दर्द निवारक होता है और इसकी मालिश करने से दर्द से तुरंत राहत मिल जाती है। आप बस इसके तेल को हल्का गर्म कर लें और फिर दर्द वाले हिस्से पर इस तेल से मालिश करें।

कायफल के रोगोपचार में फायदे

कायफल का महीन चूर्ण छाती, पेट और हाथ-पैरों पर मलने से शारीर में गर्मी का संचार होकर सर्दी का प्रभाव दूर होता है

कायफल के नुक्सान-

कायफल के नुक्सान भी कई तरह के हैं, इसलिए आप इसका सेवन सोच समझ कर ही करें। कायफल खाने से शरीर को क्या नुकसान पहुंच सकते हैं, वो इस प्रकार है-

  • कायफल का अधिक मात्रा में सेवन करने से पेट पर बुरा असर पड़ सकता है और पेट खराब हो सकता है।
  • आप अधिक मात्रा में अपने चेहरे पर कायफल के तेल को ना लगाएं। अधिक मात्रा में इस तेल को चेहरे पर लगाने से आपको खुजली की समस्या हो सकती है
  • कायफल का अधिक सेवन करने से कई बार उल्टी आ जाती है, इसलिए आप इसका का सेवन अधिक मात्रा में ना करें।

Please Like and Share Our Facebook Page
Herbal Medicines

Find US On Instagram
Herbal Medicines

Find US On Twitter
Herbal Medicines

गहरी और अच्छी नींद लेने के लिए घरेलू उपाय !!

गेंहू जवारे का रस, 300 रोगों की अकेले करता है छुट्टी

मात्र 16 घंटे में kidney की सारी गंदगी को बाहर निकाले

किसी भी नस में ब्लॉकेज नहीं रहने देगा यह रामबाण उपाय

गुर्दे की पथरी निकालने के 10 घरेलू इलाज

दाद खाज खुजली को ठीक करने के घरेलू इलाज

मिर्गी का आयुर्वेदिक इलाज – Mirgi (Epilepsy) Ka Ayurvedic ilaj

पेशाब का रंग बताता है शरीर की दिक्कत, ध्यान देने की जरूरत

फूड पॉइजनिंग के लक्षण और घरेलू उपचार

Leave a Reply