You are currently viewing लिवर की खराबी होने के यह हैं लक्षण, ऐसे करें आयुर्वेद से उपाए

लिवर की खराबी होने के यह हैं लक्षण, ऐसे करें आयुर्वेद से उपाए

Spread the love

ज्यादातर लीवर की खराबी अधिक तेल मसाले वाला भोजन, ज्यादा शराब पीने या बाहर का खाना अधिक खाने की वजह से होता है. लीवर की खराबी के कई लक्षण हो सकते  हैं.  आज कल हर व्यक्ति को पेट से सम्बंधित कुछ न कुछ परेशानी लगी रहती है. यह परेशानी लीवर में गड़बड़ी की वजह से अधिक होती हैं. लिवर हमारे शरीर का एक ऐसा अंग होता है जो सुचारू रूप से कार्य करके हमारे शरीर की कई कार्यप्रणालियों को बेहतरीन तरीके से चलाता है। इसमें अगर थोड़ी-सी भी कमी हो जाए या फिर यह कमजोर पड़ जाए तो हमारे शरीर के कई कार्य रुक जाएंगे, जो गंभीर बीमारियां भी उत्पन्न कर सकते हैं। खराब खान-पान के कारण लिवर कमजोर हो जाता है जिस कारण वह ठीक तरीके से कार्य नहीं कर पाता है। इसलिए लिवर को मजबूत बनाए रखना बहुत जरूरी है। लिवर को मजबूत बनाए रखने के लिए यहां पर कुछ ऐसे ही खास खाद्य पदार्थ बताए जा रहे हैं जिसका सेवन आप नियमित रूप से कर सकते हैं। आइए अब इनके बारे में विस्तार से जानते हैं।

लहसुन

लहसुन में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाया जाता है जो हमारे शरीर के लिए बहुत ही जरूरी माना जाता है। वहीं, जब बात आती है लिवर को मजबूत बनाने की तो इसमें भी लहसुन का सेवन सक्रिय रूप से कार्य करता है। कई वैज्ञानिक रिपोर्ट में इस बात का दावा किया जा चुका है कि लहसुन का सेवन करने से लिवर को स्वस्थ बनाए रखने में काफी मदद मिलती है। इसके लिए आप रोज सुबह तक के लहसुन का सेवन एक गिलास पानी के साथ भी कर सकते हैं।

​पपीता

गर्मियों में पपीता आपको बड़ी आसानी से मिल जाएगा। इसे आप चाहें तो आमतौर पर जूस के रूप में भी पी सकते हैं। यहां को हाइड्रेट रखने के साथ-साथ आपके शरीर को कई जरूरी पोषक तत्व भी प्रदान करता है। लिवर को मजबूत बनाने के लिए भी पपीता काफी कारगर साबित हो सकता है। लिवर को डिटॉक्सिफाई करने में भी सक्रिय रूप से कार्य करता है। इसलिए आप हफ्ते में पपीते का सेवन कम से कम 2 बार जरूर कर सकते हैं।

​पालक

हरी पत्तेदार सब्जियों में प्रमुख रूप से गिनी जाने वाली पालक का साग के रूप में सबसे ज्यादा सेवन किया जाता है। पालक में विटामिन-सी की मात्रा पाई जाती है। विटामिन C एंटीऑक्सीडेंट के रूप में हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करती है जो हमारे लिवर को कमजोर होने से बचाने के लिए भी कार्य करता है। इसलिए पालक का जूस का सेवन करने से लिवर को कमजोर होने से बचाए रख सकते हैं।

​ब्लैकबेरी

ब्लैकबेरी आपको किसी भी मौसम में बड़ी आसानी से मिल जाएगी। इसका सबसे ज्यादा उपयोग स्मूदी के रूप में भी किया जाता है। इसमें एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाया जाता है। यह एक ऐसा गुण है जो शरीर में विभिन्न प्रकार की सूजन को रोकने के लिए कार्य करता है। वहीं, लिवर में किसी भी कारण से होने वाली सूजन को कम करने के लिए भी ब्लैकबेरी मददगार होती है।

​हल्दी

हल्दी में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाया जाता है इसके साथ-साथ हमारे शरीर को कई अन्य लोगों से भी बचाने का कार्य करती है। लिवर को मजबूत बनाए रखने के लिए और उसकी कार्यप्रणाली को सुचारू रूप से चलाने के लिए भी हल्दी का सेवन सक्रिय रूप से मददगार साबित हो सकता है। अब गोल्डन ड्रिंक के रूप में हल्दी और दूध का एक साथ सेवन कर सकते हैं, जिससे आपका लिवर अच्छी तरह से कार्य करेगा और यह बीमारियों से बचा भी रहेगा।

​आंवला

आंवला एक ऐसा फल है जो कई रूपों में खाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसका अचार, जूस के और मुरब्बे के रूप में सेवन किया जाता है। लिवर को मजबूत बनाने के लिए यह फल काफी लाभदायक माना जाता है। नेशनल सेंटर फॉर बायो टेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन पर प्रकाशित एक रिसर्च के अनुसार लिवर को मजबूत बनाए रखने के लिए आंवला का सेवन भी कर सकते हैं। इसलिए आप चाहें तो ऊपर बताए गए 3 रूपों में से किसी भी एक रूप में आंवले का सेवन कर सकते हैं। यह त्वचा को निखारने के लिए भी काफी फायदेमंद माना जाता है।

This Post Has One Comment

  1. Khushbu

    nice

Leave a Reply