You are currently viewing बरैया, ततैया और मधुमक्खी के काटने पर घरेलु उपचार !!

बरैया, ततैया और मधुमक्खी के काटने पर घरेलु उपचार !!

Spread the love

ठंडी सिंकाई

कुछ भी करने से पहले दर्द और खुजली को कम करने के लिए प्रभावित हिस्‍से पर ठंडी सिंकाई करें। ठंडी सिंकाई नसों को स्‍तब्‍ध करके सूजन को कम करती है। 2006 में क्लीनिकल टेक्निक्स इन स्माल एनिमल प्रैक्टिस में प्रकाशित एक रिर्पोट के अनुसार लीडोसाइन या कोर्टिकोस्टेरॉयड लोशन के साथ बर्फ या ठंडी सिंकाई ततैया के डंक के सफल प्रबंधन में महत्‍वपूर्ण होती है। ततैया के डंक को दूर करने के लिए ठंडे पानी के बाउल में कुछ बर्फ के क्‍यूब मिलायें। फिर इस पानी में कपड़े को भिगोकर और अतिरिक्‍त पानी को निकालकर, डंक वाले हिस्‍से पर सीधा लगायें। इसे दस मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें। इस उपाय को दिन में 2-3 बार करें। अगर जरूरत हो तो पहले 24 घंटे के दौरान इस उपाय को कई बार करें। आप ठंडी सिंकाई के लिए पानी की ठंडी बोतल या फ्रोजन सब्जियों के बैग (एक पतले कपड़े में लपेटा) का इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं।

बेकिंग सोडा

बेकिंग सोडा ततैया के डंक के लिए एक प्रभावी प्राकृतिक उपचार है। बेकिंग सोडा की क्षारीय प्रकृति डंक को बेअसर करने में मदद करती है। यह दर्द और खुजली से तत्काल राहत प्रदान करता है। इसके अलावा, इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण सूजन, दर्द और लालिमा को कम करने में मदद करता है। समस्‍या होने पर एक चम्‍मच बेकिंग सोडा लेकर उसमें थोड़ा सा पानी मिलाकर पेस्‍ट बना लें। फिर इस पेस्‍ट को प्रभावित हिस्‍से पर 5 से 10 मिनट के लिए लगा लें। दस मिनट के बाद इसे गुनगुने पानी से धो लें। अगर जरूरत हो तो इस उपाय को कुछ ही घंटों के बाद दोहराये।

सबसे बढि़या उपाय शहद

ततैया के डंक के लक्षणों से तत्‍काल राहत पाने के लिए शहद एक बहुत ही बढि़या उपाय है। शहद में मौजूद एंजाइम जहर को बेअसर करने में मदद करते हैं और इसका एंटी-बैक्टीरियल गुण संक्रमण बढ़ने नहीं देता है। साथ ही यह दर्द और खुजली को कम करने में मदद करता है। डंक वाले हिस्‍से में शहद को अच्‍छे से लगाकर छोड़ दें। इसका ठंडा और सुखदायक प्रभाव डंक के लक्षणों को काफी हद तक कम कर देता है। या आप शहद को एक चम्‍मच हल्‍दी में मिलाकर पेस्‍ट बनाकर प्रभावित हिस्‍से पर लगायें। इस उपाय को दिन में दो बार करें।  

सेब साइडर सिरका

सफेद सिरका और सेब साइडर सिरका दोनों ततैया के डंक का प्रभावी तरीके से उपचार करता है। सिरके में मौजूद एसिटिक एसिड में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण सूजन और दर्द को दूर करते हैं। इसके अलावा, यह विष में एसिड को बेअसर कर दर्द और खुजली को दूर करने में मदद करता है। ततैया के डंक को दूर करने के लिए कॉटन बॉल को कच्‍चे, अनफिल्‍टर्ड सेब साइड सिरके या सफेद सिरके में डूबोकर प्रभावित हिस्‍से पर 5 से 10 मिनट के लिए लगायें। जरूरत पड़ने पर इस उपाय को दोहराये।

Leave a Reply