You are currently viewing बुढ़ापे तक रहना है जवान तो मेथीदाना खाना शुरू कर दीजिये

बुढ़ापे तक रहना है जवान तो मेथीदाना खाना शुरू कर दीजिये

Spread the love

बुढ़ापे तक रहना है जवान तो खाओ मेथीदाना, इसके चमत्कारिक फायदे जान कर आप दंग रह जाओगे।

जो व्यक्ति बुढ़ापे तक स्वस्थ और हट्टा कट्टा रहना चाहता हैं, और चाहता हैं के उसको मधुमेह, रक्तचाप, हृदय रोग, जॉइंट पैन जैसी बीमारिया ना लगे तो उसको मेथी दाने का रोज़ाना सेवन बताई गयी विधि द्वारा करना चाहिए। आज हम आपको मेथीदाना से होने वाले फायदों के बारे में बताएंगे मेथीदाना को हम दाल , कढ़ी , सब्जी आदि के तड़के मे स्वाद और महक बढाने के लिए काम में लेते है। लेकिन हम यह नही जानते की मेथीदाना सिर्फ स्वाद और महक ही नहीं बढ़ाता, बल्कि यह हमारे स्वास्थ्य स्वास्थ्य के लिए भी बहुत सेहतमंद है। मेथीदाना अंकुरित करके खाया जा सकता है। रोज मेथिदाना खाने के ये फायदे आपकी जिंदगी बदल देंगे।

मेथीदाने के फायदे :

मैथीदाना, जितने साल जिसकी आयु हो उतने दाने लेकर धीरे-धीरे खूब चबा-चबाकर रोजाना प्रात: खाली पेट, या शाम को पानी की सहायता से सेवन करने चाहिए, अगर चबाने में दिक्कत हो तो पानी की सहायता से निगल सकते हैं। ऐसा करने से व्यक्ति सदैव निरोग और चुस्त बना रहेगा और मधुमेह, जोड़ों के दर्द, शोथ(सूजन), रक्तचाप, बलगमी बीमारियां, अपचन आदि अनेकानेक रोगों से बचाव होगा। वृध्दावस्था की व्याधियां जैसे सायटिका, घुटने का दर्द, हाथ-पैरों का सुन्न पड़ जाना, मांसपेशियों का खिचाव, भूख न लगना, बार-बार मूत्र आना, चक्कर आना आदि, उसके पास नही फटकेगी। ओज, कान्ति और स्फूर्ति में वृद्धि होकर व्यक्ति दीर्घायु होगा।

मेथीदाना सेवन के तरीके :

यद्यपि अलग-अलग बिमारियों के इलाज के लिए मैथीदाना का प्रयोग कई प्रकार से किया जाता है जैसे मैथीदाना भिगोकर उसका पानी पीना या भिगोये मैथीदाना को घोट छानकर पीना, उसे अंकुरित करके चबाना या रस निकालकर पीना, उसे उबालकर उसका पानी पीना या सब्जी बनाकर खाना, खिचड़ी या कढी पकाते समय उसमे डालकर सेवन करना, सबूत मैथीदाना प्रात: चबाकर खाना और रात्रि में पानी संग निगलना, भूनकर या वैसे ही उसका दलिया या चूर्ण बनाकर ताजा पानी के साथ फक्की लेना, मैथीदाना के लड्डू बनाकर खाना आदि परन्तु मैथी के सेवन का निरापद और सबसे अच्छा तरीका है उसका काढ़ा या चाय बनाकर पीना।

मेथीदाना खाने के 11 फ़ायदे :

डायबिटीज पर नियन्त्रण :
मेथीदाना को खाने से डायबिटीज को कंट्रोल करने में बहुत मदद मिलती है। इसको खाने से पेशाब में सुगर की मात्रा कम हो जाती है। इसमे मोजूद प्राकृतिक फायबर के कारण तथा इन्सुलिन पर मेथीदाना के उपयोग से पड़ने वाले प्रभाव से डायबिटीज में यह बहुत फायदेमंद साबित होता है।

कोलेस्ट्रॉल पर नियन्त्रण :
मेथीदाना खाने से कोलेस्ट्रॉल पर नियन्त्रण रहता हैं मेथी में मौजूद फायबर गेलेक्टोमेनन के कारण रक्त में कोलस्ट्रोल की मात्रा कम करने में मदद मिलती है। इसके नियमित रूप से खाने से रक्त में क्लोट बनने की सम्भावना कम हो जाती है। और कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद मिलती हैं

पाचन तंत्र :
मेथीदाना को खाने से पाचन तंत्र दुरस्त रहता हैं। इससे पेट और आँतों की जलन और सूजन आदि में बहुत आराम मिलता है। इसके नियमित रूप से सेवन से पेट और आँतों के अल्सर में आराम मिलाता है । इसमे पाए जाने वाले घुलनशील फायबर से कब्ज को मिटाने में बहुत सहायक हैं।

आँतों के कैंसर से बचाव :
मेथी में डिओसजेनिन नामक तत्व पाया जाता हैं जो आँतों के कैंसर से बचाव करने में सक्षम होता है। अगर इसका सेवन नियमित रूप से किया जाये तो आंतों में कैंसर की समस्या कभी नही होगी।
मोटापे को कम : आयुर्वेदिक और औषधीय गुणों से भरपूर मेथी में फाइबर होता है जो न केवल हमारे कब्ज की समस्या को दूर करती है बल्कि इसके दानों को चबाने से एक्सट्रा कैलरी बर्न होती है। इसके अलावा अपने वजन को कम करने के लिए सुबह-सुबह दो गिलास मेथी का पानी पिएं। इसके लिए आपको मेथी को पानी में रातभर भिगोकर रखना होगा और सुबह छानकर उसी पानी को पीना होगा।

किडनी रोग में :
बदलती खान-पान की आदतों और दौड़-भाग की जिंदगी, प्रदूषित पानी और प्रदूषण की वजह से किडनी की बीमारियां बढ़ रही हैं। ऐसे में आपको मेथी दानों को प्रयोग में लाना चाहिए। यह किडनी को स्वस्थ रखने में एक गुणकारी खाद्य पदार्थ है। यह पथरी में एक लाभकारी औषधी के रूप में काम करती है।

जोड़ो का दर्द :
मेथीदाना को बारीक पीस लें। एक चम्मच मेथीदाना चूर्ण प्रातः ताजे जल के साथ लें। इससे घुटनो के दर्द मे आराम मिलता है।

चेहरे को सुंदर बनाए :
अपने चेहरे को सुंदर बनाने के लिए आप बहुत तरह की चीजें करते होंगे। लेकिन आप एक बार मेथी दानों को प्रयोग में लाइए। इसका फायदा यह है कि यह आपके शरीर से फ्री रेडिकल्स को बाहर निकालती है जिससे झुर्रियां, फाइन लाइन्स, काले घेरे और इंफेक्शन जैसे गंभीर फेशियल प्रॉब्लम्स निजात मिलता है। मेथी दानों का एक और फायदा है। इससे न केवल चेहरे पर ग्लो आता है बल्कि चेहरे से काले घेरे और सन डेमेज्ड स्किन भी हटाती है।

बुखार में भी मिलता है आराम : मेथी से बुखार को भी दूर किया जा सकता है। इसके लिए मेथी के दानों को एक छोटे चम्मच नींबू के रस और शहद के साथ खाएं।

पाचन संबंधी समस्या को दूर :
पाचन संबंधी समस्या को दूर करने में मेथी के दाने रामबाण की तरह काम करते हैं। इससे पेट दर्द और जलन तो दूर होती ही है साथ ही इससे पाचन क्रिया भी दुरुस्त रहती है
डायबिटीज के रोगियों लिए : आज के समय में डायबिटीज के रोगियों की संख्या बढ़ती जा रही है। ऐसे में घरेलू उपचार की तरफ लोगों का ध्यान जा रहा है। मेथी ऐसे कई सारे गुण मौजूद हैं जो मधुमेह रोगियों को राहत देने का काम करती है। इसमें मौजूद एमीनो एसिड तत्व पैनक्रियाज़ में इंसुलिन के स्राव को बढ़ाता है जो शरीर से ब्लड शुगर लेवल कम करता है।

बढती उम्र के साथ शरीर में कईं बीमारियाँ घर करने लगती हैं. लेकिन सही खान पान और जीवन शैली से इससे रोका नहीं तो कम से कम इसकी रफ़्तार को धीमा किया जा सकता है. अगर आप भी समय से पहले ही बुढ़ापे में कदम रखने लगे हैं आगे पढ़ते रहिए!

आज हम बता रहे हैं मेथीदाना के फायदे जो आपको बढती उम्र के प्रभावों से बचने में मदद करता है : –

त्वचा के लिए : –

उम्र बढ़ने पर त्वचा में लचीलापन कम होने लगता है जिससे खाल ढीली पड़ कर लटकने लगती है. यही फिर झुरियां बन जाती हैं. साथ ही रंगत भी बुझी बुझी सी हो जाती है. ऐसे में मेथीदाना और मूंग दाल को पीस कर थोड़ी हल्दी और मलाई मिला कर चेहरे पर लगायें. करीबन 20 मिनट बाद ठन्डे पानी से धो लें. हर दुसरे तीसरे दिन ऐसा करें. सिर्फ 2 महीने के समय में ही त्वचा फिर से जवां जवां दिखने लगेगी.

पाचन क्रिया : –

बुढ़ापे में खाना पचाने में भी दिक्कत होने लगती है. क्योंकि लीवर और आंते अपना काम ठीक से नहीं कर पाती. ऐसे में खाने पीने की चीज़ों पर तो ध्यान देना ज़रूरी है ही, साथ ही अगर मेथी दाने को छाछ यानि लस्सी में मिला कर पिया जाये तो पाचन तंत्र में नयी जान आ जाती है. ऐसा तो नहीं है कि इससे पाचन तंत्र की साड़ी बीमारिया एक झटके में ठीक हो जाएंगी, लेकिन अगर पहले से ही इसका सेवन करते हैं तो समस्या आएगी ही नहीं ये तय है.

बालों की समस्या : –

उम्र के साथ बाल गिरना-झाड़ना आम बात है. लेकिन समय से पहले गिरते-झड़ते बाल आपको न सिर्फ बुढा दिखाते हैं, बल्कि आपके आत्म-विश्वास पर भी बुरा असर डालते हैं. मेथी ऐसे में कारगर उपाय है. मेथीदाना को पीस कर दही में मिला कर सर में हलके हाथों से मसाज करें. इससे बालों की जड़ों में पकड़ मजबूत होगी, डैंड्रफ नहीं होगा और बाल गिरने बंद होंगे. ये भी है कि ये नुस्खा तब करना है जब सर पर बाल हों. गंजापन होने के बाद ये उतना असरदार नहीं है.

मधुमेह यानि शुगर से बचाव : –

बुढ़ापे में जाते जाते 45% लोगों को शुगर यानी मधुमेह अपनी गिरफ्त में ले लेता है. शुगर आपके सामान्य जनजीवन को प्रभावित करता है. लेकिन समय रहते बचाव किया जाये तो ज्यादा बेहतर है. मेथिदाने पाउडर का यदि रोजाना सुबह खली पेट सेवन किया जाये तो ये पैंक्रियास की प्रक्रिया को दुरुस्त करके कार्बोहाइड्रेट्स और ग्लूकोस को सही पचाने में मदद करता है जिससे शरीर में शुगर की समस्या होने का डर कम रहता है. शुगर के मरीज भी इसका सेवन करके फायदा उठा सकते हैं.

जोड़ों का दर्द : –

उम्र के साथ अगर कोई दर्द सबसे पहले आता है तो वो है – जोड़ों का दर्द. लेकिन इसमें भी मेथी मददगार है. नियमित हलके व्यायाम और इसके हरे पत्तों को कुछ देर पानी में उबाल कर पत्ते चबा चबा कर खाएं और पानी भी पी लें. कड़वा तो बहोत लगेगा लेकिन उतना ही जोड़ों के लिए फायदेमंद भी है.

पीठ और कमर दर्द : –

शरीर के विभिन्न अंगों में दर्द भी उम्र कि ढलती लौ की निशानी है. इससे बचिए. अपने शरीर को फुर्तीला बनाये रखिये और बुढ़ापे से दूरी बनाये रखिये. अब इसमें मेथी कैसे मदद करेगी? जैसे मेथी जोड़ों के दर्द में मदद करती है वैसे ही ये पूरे शरीर के दर्द में असरदार है. मेथी मसल्स को लचीला बनाने में सहायक है जिससे दर्द नहीं रहता.

मोटापा : –

शोध में पाया गया है कि भारतीय उम्र बढ़ने के साथ सबसे अधिक मोटापे और शुगर का शिकार होने लगे हैं. यह आंकड़ा दिन प्रति दिन बढ़ने लगा है. ऐसे में सही खानपान और व्यायाम के साथ अगर मेथी दाना का नियमित सेवन किया जाता है तो बाकी फायदों के साथ वजन घटने में भी खुद-ब-खुद कम आता है. मेथी दाना से लीवर बेहतर काम करेगा. और लीवर शरीर में फैट जमा नहीं होने देगा. नतीजा – मोटापा से छुटकारा और वजन पर नियंत्रण.

वैवाहिक सुख : –

बुढ़ापे का एक बुरा प्रभाव वैवाहिक जीवन पर भी पड़ता है. मेथी दाना के सेवन से शरीर में भीतरी उर्जा में वृद्धि महसूस करते हैं और संतुष्ट सुखी वैवाहिक जीवन का आनंद ले सकते हैं.

हम चाहते हैं कि हर भारतीय अंग्रेजी दवाओं की बजाय घरेलु नुस्खों और आयुर्वेद को ज्यादा अपनाये.

विशेष :
गर्मियों में इसकी फक्की लेने की बजाये रात में इसको एक गिलास पानी में भिगो कर रख दे, सुबह मेथीदाना चबा चबा कर खा ले और ऊपर से यही भिगोया हुआ पानी पी ले।

Leave a Reply