You are currently viewing मिर्गी के घरेलू इलाज़ !!

मिर्गी के घरेलू इलाज़ !!

Spread the love

तुलसी है रामबाण

तुलसी कई बीमारियों में रामबाण की तरह कम करता है। तुलसी में काफी मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो मस्तिष्क में फ्री रेडिकल्स को ठीक करते हैं। रोजाना तुलसी के 20 पत्ते चबाकर खाने से रोग की गंभीरता में गिरावट देखी जाती है।तुलसी के पत्तों को पीसकर शरीर पर मलने से मिरगी के रोगी को लाभ होता है।तुलसी के पत्तों के रस में जरा सा सेंधा नमक मिलाकर 1 -1 बूंद नाक में टपकाने से मिरगी के रोगी को लाभ होता है।तुलसी की पत्तियों के साथ कपूर सुंघाने से मिर्गी के रोगी को होश आ जाता है।

प्रोटीन वाला भोजन

मिर्गी के रोगी को ज्यादा फैट वाला और कम कार्बोहाइड्रेड वाला डायट लेना चाहिए। मिर्गी के रोगी को प्रोटीन और विटामिन युक्त भोजन करना चाहिए।मिर्गी के रोग से पीड़ित रोगी को सुबह के समय गुनगुने पानी के साथ त्रिफला के चूर्ण का सेवन करना चाहिए। तथा फिर सोयाबीन को दूध के साथ खाना चाहिए इसके बाद कच्ची हरे पत्तेदार सब्जियां खाने चाहिए। बकरी का दूध मिरगी के मरीजों के लिए काफी फायदेमंद होता है। 2 कप दूध में चौथाई कप मेंहदी के पत्तों का रस मिलाकर प्रतिदिन सुबह खाना खाने के 2 घंटे बाद कुछ सप्ताह तक लगातार सेवन करने से मिर्गी के रोग में लाभ मिलता है।

रस का सेवन

शहतूत और अंगूर के रस का सेवन मिर्गी के रोगियों के लिए फायदेमंद होता है। रोजाना सुबह खाली पेट आधा किलो शहतूत और अंगूर का रस लें। नींबू के रस के साथ गोरखमुण्डी को खाने से मिर्गी के दौरे आने बन्द हो जाते हैं।प्याज के रस के साथ थोड़ा सा पानी मिलाकर सुबह पीने से मिर्गी के दौरे पड़ने बन्द हो जाते हैं।

पेठा या कद्दू

कद्दू या पेठा सबसे कारगर घरेलू इलाज़ है। इसमें पाये जाने वाले पोषक तत्वों से मस्तिष्क के नाड़ी-रसायन संतुलित हो जाते हैं जिससे मिर्गी रोग की गंभीरता में गिरावट आ जाती है। पेठे की सब्जी भी बनाई जाती है और आप इसकी सब्जी का भी सेवन कर सकते हैं, लेकिन इसका जूस रोज़ाना पीने से काफी फायदा होता है। अगर इसका स्वाद अच्छा ना लगे तो इसमें चीनी और मुलेठी का पाउडर भी मिलाया जा सकता है।

सफेद प्याज

मिर्गी के दौरे से छुटकारा पाने के लिए रोजाना सफेद प्याज के रस का 1 चम्मच रोगी को पिलाएं।

करौंदा

मिर्गी के पीड़ित रोगी को करौंदे के पत्तों से चटनी बना कर खिलाएं। अगर वह इसे रोजाना खाएगा तो उसे बहुत जल्दी फायदा मिलेगा।

बकरी का दूध

मिर्गी के दौरे में बकरी का दूध बहुत फायदेमंद होता है और इसके इस्तेमाल से आपको आराम मिलता है | लगभग 50 ग्राम मेहंदी के पत्ते ले और इसका पेस्ट बनाले और इसे एक पाव बकरी के दूध में मिलाएं और इसका सेवन करें जिससे आपको मिर्गी के दौरे में आराम मिलेगा | अगर आप ऐसा हफ्ते में तीन बार करते है तो आपको निश्चित रूप से आराम मिलेगा |

मिट्टी

मिर्गी में मिट्टी बहुत कारगर होती है क्योकि इसका स्वाभाव ठंडा होता है और यह शरीर में तंत्रिकाओं को आराम पहुचाती है | पूरे शरीर में मिट्टी का लेप लगाले और लगभग आधे घंटे तक इसे लगायें रहे और फिर साफ़ पानी से शरीर को धो लें या स्नान करे | ऐसा रोजाना करे जिससे आपको मिर्गी में बहुत जल्द आराम मिलेगा |

Leave a Reply