You are currently viewing मोच को ठीक करने के घरेलू उपाय !!

मोच को ठीक करने के घरेलू उपाय !!

Spread the love

1. अंड़ी का तेल भी ऐसे ही आवश्‍यक तेलों में से एक है। अरंडी के तेल में रिसिनोलिक एसिड पाया जाता है जो मोच के उपचार में बहुत मददगार होता है।

2. पत्‍ता गोभी में विटामिनो की विविधता पाई जाती है जिसके कारण यह घुटनों की मोच को ठीक करने का सबसे अच्‍छा घरेलू उपाय माना जाता है। पैरों की मोच के उपचार में पत्‍ता गोभी का उपयोग दर्द और सूजन को कम करने में मदद करता है।

3. प्‍याज का उपयोग कर आप मोच के कारण होने वाले असहनीय दर्द को कम कर सकते हैं। प्‍याज में एंटी-इंफ्लामैट्री पोषक तत्‍व होते हैं जो शरीर की शक्ति को बढ़ाने में भी मदद करते हैं।

4. लहसुन के सबसे प्रभावी स्‍वास्‍थ्‍य लाभों में से एक यह है कि यह पैर की मोच के लिए शीर्ष घरेलू उपचारों में से एक बन गया है। लहसुन में बहुत अधिक पोषक तत्‍व पाए जाते हैं जो सूजन को कम करने और दर्द से राहत दिलाने में मदद करते हैं। लहसुन से मोच का उपचार करने के कई तरीके हैं।

5. यदि आप सूजन को कम करने के लिए पारंपरिक लेप का उपयोग करना चाहते हैं तो हल्दी, लहसुन, प्‍याज, केस्‍टर आयल या जैतून का तेल लगाने की कोशिश करें। इनमें अन्‍य औषधीय सामग्री को मिलाकर धीरे-धीरे गरम किया जाता है और मोच बाले स्‍थान पर लगाया जा सकता है और कुछ घंटों के लिए इसमें एक पट्टी भी बांधी जा सकती है।
इसके साथ ही आप हल्दी और चुने से बने लेप का उपयोग मोच के कारण आई सुजन को कम करने के लिए किया जा सकता है।

6. शरीर के किसी भी हिस्से में मोच आने के दौरान कुछ दिनों तक केवल ठंडे उपचार ही करना चाहिए, क्‍योंकि गर्मी का उपयोग वास्‍तव में उपचार के प्रारंभिक चरणों के दौरान अतिरिक्‍त सूजन में योगदान दे सकता है। चोट या मोच आने के कुछ दिनों के बाद आप गर्म पानी में सेंधा नमक मिलाकर इससे स्‍नान करें या चोट वाले क्षेत्र को इस पानी से भिगों सकते हैं। सेंधा नमक मांसपेशियों के दर्द और संयोजी ऊतकों को शांत करने में मदद करता है। मोच से राहत पाने के लिए आप दिन में एक या दो बार इस मिश्रण का उपयोग कर सकते हैं।

7. जैतून के तेल का उपयोग आप पैरों की मोच को ठीक करने के लिए घरेलू उपचार के रूप में कर सकते हैं।  जैतून तेल में माजूद कई आवश्‍यक यौगिक पैरों में आई मोच के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। जैतून का तेल मोच के कारण आने वाले दर्द और सूजन को कम करने में मदद करता है।

8. एंट्री-इंफ्लामैट्री गुणों के कारण हल्‍दी मोच को ठीक करने का सबसे सरल, सस्‍ता और प्रभावकारी घरेलू उपचार है। हल्‍दी का प्रभाव त्वचा और ऊतको पर बहुत ही कम पड़ाता है, लेकिन यह मोच के दर्द और सूजन को कम करने में मदद करता है। 2007 में अमेरिकी जर्नल ऑफ फिजियोलॉजी के शोधकर्ताओं ने एक रिपोर्ट जारी की जिसके अनुसार मोच और प्‍लांटर फासिआइटिस के उपचार के लिए हल्दी को बहुत ही प्रभावकारी बताया गया है।

9. सूजन और दर्द वाले स्‍थान पर बर्फ लगाने से होने वाली तकलीफ को कम किया जा सकता है। बर्फ अस्थिबंधन के टूटने और उससे खून के स्राव को कम करके सूजन और दर्द को रोकता है। चोट लगने के बाद 48 से 72 घंटे के अंदर प्रभावित क्षेत्र पर बर्फ लगाना चाहिए।

Leave a Reply