You are currently viewing मोतियाबिंद के लिए सर्जरी नहीं, काफी हैं ये घरेलू इलाज !!

मोतियाबिंद के लिए सर्जरी नहीं, काफी हैं ये घरेलू इलाज !!

Spread the love

बादाम और काली मिर्च – 4 बादाम को रात भर भिगोकर रखें और सुबह इसे 4 काली मिर्च के साथ पीसकर मिश्री के साथ खाएं। इसके उपर से दूध पीएं। मोतियाबिंद की परेशानी सही होगी।

कच्ची व हरी सब्जियां – कच्ची व हरी सब्जियों में पोषक तत्व और विटामिन ए (Vitamin A) की उच्च मात्रा होती है जो कि आंखों को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी है। अपने दैनिक आहार में कच्ची सब्जियों को शामिल करें। इससे मोतियाबिंद के साथ ही आंखों की अन्य सामान्य समस्याओं से भी निपटा जा सकता है।

 जामुन – जामुन में एंथोसायनोसाइड्स (Anthocyanosides) तथा फ्लेवनाइड्स (Flavonoids) काफी अधिक होते हैं जो कि रेटिना (Retina) और आंखों के लैंस (Eye Lens) की रक्षा करते हैं हालांकि जामुन से मोतियाबिंद पूरी तरह नहीं हटता लेकिन दृष्टि की अस्पष्टता को ठीक किया जा सकता है।

 ग्रीन टी – ग्रीन टी से आंखों की रोशनी तेज हो सकती है। रोजाना तीन से चार बार ग्रीन टी पीने आंखों को स्वास्थ्य लाभ होता है। ग्रीन टी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट (Antioxident) आंखों को नई ताजगी देते हैं।

प्याज – 10 मि.ली. सफेद प्याज, अदरक और नींबू का रस लें और इसे 50 मि.ली शहद में मिलाकर रोजाना 2 बूंद आंखों में डालें। इससे मोतियाबिंद कट जाता है।

गाजर – 310 मि.ली. गाजर के रस में 125 मि.ली. पालक का रस मिलाकर पिएं। इससे भी मोतियाबिंद दूर हो जाता है।

कच्चा पपीता – कच्चा पपीता मोतियाबिंद से ग्रसित लोगों को लाभ देता है। कच्चा पपीता रोजाना खाने से आंखों के लेंस नए जैसे चमकने लगते हैं।

Leave a Reply