You are currently viewing नस चढ़ने का इलाज !!

नस चढ़ने का इलाज !!

Spread the love

1. यदि बार-बार आपकी नस पर नस चढ़ जाती है, जिस से आप ठीक से सो भी नहीं पाते या फिर बार-बार उठ जाते हैं। ऐसी स्थिति से निपटने के लिए डॉक्टर मांसपेशियों की को शांत करने के लिए कुछ प्रकार की दवाएँ लिख देते हैं। इन दवाओं को “रिलेक्सेंट्स”  कहा जाता है, इनमें क्लोरजोक्साजोन, टिजानिडाइन और बेक्लोफेन आदि शामिल हैं।

2. नस पर नस चढ़ने की स्थिति को रोकने के लिए उस मांसपेशी में बोटुलिनम टाइप A (Botox) का इंजेक्शन लगा दिया जाता है, जिससे मांसपेशियां शिथिल हो जाती हैं और दर्द भी कम हो जाता है।

3. यदि आपको कोई अंदरूनी रोग है तो आपको अपने डॉक्टर से इस बारे में बात कर लेनी चाहिए। यदि नस पर नस चढ़ने के कारण को नियंत्रित कर लिया जाए तो इसके लक्षणों में सुधार होने लगता है। उदाहरण के लिए यदि आपके शरीर में पोटेशियम या कैल्शियम की कमी है तो डॉक्टर आपको इनके सप्लीमेंट्स लेने का सुझाव दे सकते हैं।

4. ठंडी व गर्म चीजों से सिकाई करना – मांसपेशियों में कठोरता व खिचाव को कम करने के लिए गर्म तौलिये या हीट पैक का उपयोग करें। गर्म पानी से नहाना या शॉवर लेने से भी नस पर नस चढ़ने से होने वाले दर्द को शांत किया जा सकता है। इसके अलावा प्रभावित मांसपेशियों की बर्फ से सिकाई करना भी दर्द को कम कर सकता है। यदि किसी प्रकार की चोट लगने या किसी विशेष गतिविधि के बाद नस चढ़ती है, तो प्रभावित जगह बारी-बारी से ठंडी व गर्म चीजों से सिकाई करते रहें। बर्फ सूजन व जलन जैसी स्थितियों को कम करता है और गर्म चीजें रक्त के बहाव में सुधार करती हैं।

5. स्ट्रेच और मालिश करना – प्रभावित क्षेत्र की मांसपेशियों की स्ट्रेच करने से और हल्के-हल्के दबाने से आराम मिल सकता है। यदि पिंडली की नस पर नस चढ़ गई है, तो अपनी प्रभावित टांग पर शरीर का अधिक वजन डालें और घुटने को धीरे-धीरे मोड़े। यदि आप खड़े नहीं हो पा रहे हैं तो नीचे या कुर्सी पर बैठ जाएं और अपनी प्रभावित टांग को सीधा रखें। जिस टांग की नस पर नस चढ़ी है उसके पैर को अपने सिर की तरफ उठाने की कोशिश करें और इस दौरान अपने टांग को सीधा रखें। नस पर नस चढ़ने की समस्या यदि जांघ के पिछले हिस्से में हुई है तो भी यह तरीका अपनाने से आराम मिल सकता है। यदि यह स्थिति जांघ के अगले हिस्से में है तो एक कुर्सी या किसी अन्य स्थिर वस्तु को पकड़ कर खड़े हो जाएं और अपने प्रभावित जांघ की तरफ वाले पैर को अपने कूल्हों तक उठाने की कोशिश करें।

Leave a Reply