You are currently viewing पपीते के पत्तों के ये फायदे कई रोगों के लिए है लाभकारी

पपीते के पत्तों के ये फायदे कई रोगों के लिए है लाभकारी

Spread the love

वैसे तो सभी फलों (Fruit) से हमें कुछ ना कुछ स्वास्थ्य संबंधी फायदे (Health Benefits) जरूर मिलते हैं, लेकिन फलों से ज्यादा पत्तों में लाभकारी गुण मौजूद होते हैं जो इंसान के अच्छे से अच्छे रोगों के लिए भी बहुत कारगर होता। पपीता (Papaya) हमारे स्वास्थ्य संबंधी कई रोगो से लड़ने में बहुत मदद करता है जैसे त्वचा में पीगमेंटेशन (Pigmentation) को कम करता है, रिकंल्स (Wrinkles) को कम करने में मदद करता है, बालों को मूलायम रखता है और पेट की समस्या को भी दूर रखता है।

लेकिन पपीते के पत्तों (Papaya Leaves) की अगर बात करें तो ये बड़ी से बड़ी बीमारियों (Dieases) के लिए भी बहुत सहायक है। जैसे की पपीते का पत्ता डेंगू जैसी खतरनाक बीमारियों से भी लड़ने में मदद करता है। पपीते के पत्ते (Papaya Leaves) का जूस पीने से खून में प्लेटलेट्स बढ़ता है। डेंगू-मलेरिया (Dengue-Malaria), यहां तक कैंसर-डायबिटीज (Cancer-Diabetes) जैसी कई बड़ी और खतरनाक बीमारियों के लिए पपीते का पत्ता (Papaya Leaves) एक असरदार दवा है। पपीते के पत्तों में और भी ऐसे गुण हैं जो रोगों से लड़ने में मदद करते हैं। आइए जानते हैं….

पपीते का पत्ता डेंगू और मलेरिया के लिए है सहायक 

मानसून का सीजन चल रहा है और ऐसे सीजन में कई खतरनाक बीमारियां जन्म लेती हैं जैसे डेंगू, मलेरिया, चिकनगूनिया आदि। आमतौर पर इसका इलाज डॉक्टरों के पास होता है लेकिन अब इस बीमारी को पपीते के पत्तों से भी ठीक किया जा सकता है। आपको बता दें कि, पपीते के पत्तों का जूस डेंगू, मलेरिया जैसी कई बड़ी बीमारियों से लड़ने में मदद करता है। इसमें पाए जाने वाले अनेक गुण खून में प्लेटलेट्स को बढ़ता है।

डायबिटीज में पपीते के पत्ते का जूस

डायबिटीज में पपीते के पत्तों का जूस एक लाभकारी दवा है। बता दें कि, पपीते का जूस पीने से ब्लड शुगर (Blood Sugar) (खून में कोलेस्ट्रॉल) का लेवल कम हो सकता है इसलिए डायबिटीज (Diabetes) के मरीजों को रोजाना थोड़ी मात्रा में पपीते के पत्तों का जूस पीना चाहिए। एक शोध के मुताबिक ऐसा देखा गया है कि पपीते के पत्तों का जूस पीने से खून में शुगर (Sugar) की मात्रा घटती है और लिपिड लेवल (Lipid level) भी कम होता है।

कैंसर से लड़ने में मदद करता है पपीते के पत्तों का जूस

यदि किसी को कैंसर की शिकायत है तो वो पपीते के पत्ते का जूस पीकर अपने इस गंभीर रोग का इलाज कर सकता है। एक शोध में पाया है कि कैंसर में पपीते के पत्तों के जूस का सेवन शरीर में ट्यूमर (Tumor) को विकसित करने से रोकता है। इसके अलावा पपीते में कैंसर रोधी गुण मौजूद होते हैं, जो क्रॉनिक मायलोमोनोसाइटिक ल्यूकीमिया (Chronic myelmonocytic leukemia) को रोकते हैं।

पेट के लिए फायदेमंद हैं पपीते के पत्तों का जूस 

पपीते के पत्तों का जूस पेट के कई रोगों से लड़ने में मदद करता है। बता दें कि, पपीते के पत्तों में कई तरह के एंजाइम्स होते हैं जैसे- पापेन, कायमोपापेन, प्रोटीज और एमिलेज आदि। इसलिए रोजाना 1 कप पपीते के पत्तों का जूस या चाय पीने से पेट की तमाम समस्याओं को आराम मिलता है। ये आपके पाचन शक्ति को बेहतर करता है साथ ही पेट में गैस की समस्या को भी दूर रखता है।

जिस प्रकार पपीता हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है, उसी प्रकार पपीते की पत्तियों से निकाला गया रस भी हमें बहुत लाभ पहुँचाता है। पपीता के पत्ते का रस अनेक प्रकार की बीमारियों से भी आराम दिलाता है।

इन बेहतरीन तरीकों को अपनाने से मिलेगा गैस्ट्रिटिस (gastritis) के इलाज में फायदा !!

HIGH BP, cholesterol, दिल की बिमारी है तो इसे खाना शुरू कर दो

सोते समय सिर किधर रखें और पैर किधर, ध्यान रखें ये बातें

इस लेख में हम पपीते की पत्तियों के रस के फायदों के विषय में एक विस्तृत चर्चा करेंगे। साथ ही साथ, हम यह भी बताएंगे कि पपीते की पत्तियों का रस कैसे निकाला जाता है।

पपीता के पत्ते का रस पीने के फायदे (papaya leaf juice benefits in hindi)

पपीता के पत्ते का रस वज़न घटाने में फायदेमंद

मोटापे के कारण शरीर में अनेक रोग हो जाते हैं और मोटापा हमारी सुंदरता को भी नष्ट करता है। यदि आप भी मोटापे की समस्या से जूझ रहे हैं तो पपीते की पत्तियाँ आपको बहुत फ़ायदा पहुँचा सकती हैं।

एक बर्तन में थोड़ा पानी लें और उसमें पपीते ही ताज़ा पत्तियाँ और संतरे के कुछ फांक डालें। इन को एक आँच पर रखकर उबलने दें और कुछ समय बाद इसे उतार कर ठंडा होने दें। ठंडा होने पर इस को पियें। यह शरीर से अतिरिक्त वसा को हटा देता है।

संक्रमण या कैंसर से छुटकारा

पपीते में अनेक पोषक तत्व पाए जाते हैं जो बैक्टीरीया, वाइरस या अन्य सूक्ष्मजीवों के संक्रमण से शरीर की रक्षा करते हैं। पपीते की पत्तियों के रस में पाया जाने वाला कॉर्पेन नामक यौगिक शरीर की संक्रमण से रक्षा करता है।

यह शरीर की कोशिकाओं को अनियंत्रित रूप से विभाजित नहीं होने देता है। इस तरह कोशिकाएं एक निश्चित चक्र में चलती रहती हैं और शरीर कैंसर से बचा रहता है।

पपीता के पत्ते के रस से डेंगू से सुरक्षा

डेंगू एक गंभीर बीमारी है। हालाँकि डेंगू के लिए अनेक दवाएँ जैसे एसपिरिन या इबुप्रोफेन आदि खोज ली गई हैं लेकिन ये दवाएँ शरीर पर अनेक दुष्प्रभावों को भी दर्शाती हैं।

ये दवाएँ शरीर को काफ़ी साइड-इफ़ेक्ट भी पहुँचाती हैं। डेंगू हो जाने पर सिरदर्द, जोड़ो में दर्द, मांसपेशियों में दर्द, त्वचा पर लाल चकत्ते, खुजली और तेज़ बुखार आता है।

यदि हम बिना किसी दुष्प्रभाव के डेंगू का इलाज करना चाहते हैं तो पपीते की पत्तियों का रस हमारी सहायता कर सकता है।

वैज्ञानिकों का मानना है कि पपीते के रस में पपैन और सिमोपपैन नामक एंजाइम पाए जाते हैं जोकि प्लेटलेट्स की वृद्धि को बढ़ावा देते हैं। इस प्रकार यह डेंगू के वाइरस को नष्ट करता है और शरीर को डेंगू से मुक्त कर देता है।

पपीता पत्ते का जूस पाचन में सहायक

पपीते में अनेक प्रकार के विटामिन्स, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, कैल्सीयम, फास्फोरस, आयरन, सोडियम, मैग्नीशियम आदि पाए जाते हैं। इसमें फाइबर की भी प्रचुर मात्रा पायी जाती है।

फाइबर आँतों की दीवारों को चिकना और मल को मुलायम कर देता है जिससे कि क़ब्ज़ की समस्या दूर होती है।

इसके अतिरिक्त पपीते की पत्तियों के रस में पाया जाने वाला पपैन नामक एंजाइम जटिल प्रोटीन को सरल कणों में तोड़कर पाचन क्रिया को सरल बना देता है।

मलेरिया से छुटकारा

जैसा कि हम जानते हैं कि मलेरिया प्लाज़मोडियम वाईवैक्स नामक विषाणु से फैलता है। यदि आप को मलेरिया से बचाव करना है तो आपको पपीते की पत्तियों के रस का सेवन करना चाहिए।

इसमें पाए जाने वाले तत्व मलेरिया के विषाणु को नष्ट कर देते हैं और शरीर की मलेरिया से रक्षा करते हैं।

प्रतिरक्षा प्रणाली को सुदृढ़ करने में

पपीते की पत्तियों में पाया जाने वाला कारपेन नामक एंजाइम शरीर में सफ़ेद रक्त कोशिकाओं के उत्पादन की वृद्धि की दर को बढ़ाता है। सफ़ेद रक्त कणिकाएं वाइरल, बैक्टीरियल तथा किसी भी प्रकार के अन्य संक्रमण से शरीर की रक्षा करती हैं।

इसके अतिरिक्त पपीते की पत्तियों में विटामिन ए और विटामिन सी की प्रचुर मात्रा पायी जाती है जोकि प्रतिरक्षा प्रणाली को मज़बूत बनाते हैं।

मासिक धर्म की समस्याओं से छुटकारा

पपीते की पत्तियों का रस मासिकधर्म में होने वाली अनेक समस्याओं से निजात दिलाता है।

एक पपीते का ताज़ा पत्ता लें और उसका रस निकाल लें। इस रस में इमली और नमक मिला दें। अब इसमें एक गिलास पानी डालें और उसे उबलने के लिए रख दें।

उबालने के बाद इसे ठंडा कर लें और मासिकधर्म के दौरान इसे पियें। यह मांसपेशियों को सुदृढ़ बनाता है और ऐंठन से निजात देता है।

पपीता के पत्ते का रस कैंसर से बचाता है

पपीते की पत्तियों में पाया जाने वाला एंजाइम शरीर की अनेक प्रकार के कैंसरों से रक्षा करता है। कार्पेन नामक एन्जाइम कोशिकाओं को अनियंत्रित रूप से विभाजित नहीं होने देता है और इस प्रकार शरीर में कैंसर नहीं बनता है।

पपीते की पत्तियों के रस का सेवन करने से प्रोस्टेट कैंसर, लिवर कैंसर, स्तन कैंसर, फेफड़ों के कैंसर आदि से शरीर की रक्षा होती है।

डैंड्रफ की समस्या से निजात

यदि आपके बालों में रूसी (डैंड्रफ) की समस्या हो रही हो तो पपीते की पत्तियों का रस अपने बालों की जड़ों में लगाएं। कुछ देर तक उसे यूँ ही लगा रहने दें और फिर उसे सामान्य पानी से धो लें।

पपीते की पत्तियों के रस में मौजूद कार्पेन नामक तत्व बालों की जड़ों से गंदगी व तेल हटा देता है। सबसे अच्छी बात यह है कि यह बालों पर कोई भी दुष्प्रभाव नहीं डालता है।

त्वचा की सफ़ाई के लिए

पपीते की पत्तियों के रस में पाया जाने वाला कार्पेन नामक एन्जाइम त्वचा से गंदगी को हटाता है। यह किसी भी प्रकार के संक्रमण से त्वचा की रक्षा करता है।

यह रस त्वचा के रोम छिद्रों को भी खोल देता है जिससे कि अंदर की गंदगी बाहर निकल जाती है। इस प्रकार त्वचा की मुँहासे या अन्य रोगों से रक्षा होती है।

घावों का इलाज

पपीते की पत्तियों से निकाला गया रस घावों को जल्दी भरने में मदद करता है। यदि आपको चोट लग गई हो तो पपीते की पत्तियों का रस चोटिल जगह पर लगाए। यह न सिर्फ़ घावों को भरेगा बल्कि दर्द से भी मुक्ति देगा।

एक्ज़िमा का उपचार

पपीते की पत्तियों से निकाला गया रस एक्ज़िमा के उपचार में प्रयोग किया जाता है। यदि आपको यह समस्या है तो त्वचा को स्क्रब करने के बाद पपीते की पत्तियों का रस लगाएं। यह एक्जिमा की समस्या से निजात देता है।

त्वचा को निखार देना

पपीते की पत्तियों में पाया जाने वाला विटामिन ए और विटामिन सी त्वचा की संक्रमण से रक्षा करता है और त्वचा को स्वस्थ बनाता है। पपीते का फेस पैक भी चेहरे पर लगाया जाता है।

चेहरे को गोरा करने के लिए नियमित रूप से पपीता का इस्तेमाल करें।

एड़ियों की सख़्त त्वचा के लिए

पपीते की पत्तियों को तोड़कर निकाला गया दूधिया रस एड़ियों की सख़्ती को कम करता है। यदि आपकी एड़ियां बहुत ही कठोर और फटी हुई है तो पपीते की पत्तियों का दूध अपनी एडियों पर लगाए। यह एड़ियों को मुलायम व सुंदर बनाएगा।

पपीता के पत्ते का रस बालों को मुलायम बनाता है

पपीते की पत्तियों से निकाला गया रस बालों के लिए एक कंडीशनर की तरह कार्य करता है।

यदि आपके बाल बेजान हो रहे हैं तो पपीते की पत्तियों का रस अपने बालों में लगाएं। यह बालों को मुलायम कर देता है और उन्हें एक ताजगी भी देता है।

रोज सुबह पिए 1 ग्लास लौंग का पानी, 21 दिनों में १० किलो वजन घटाएं

दवाईयां भी फेल हैं इस रस के आगे, 350 रोगों की अकेले करता है छुट्टी

कोरोना वायरस का कहर, किस गलती की सजा भुगत रहा है चीन

पपीते की पत्तियों का जूस बनाने की विधि

  1. सबसे पहले एक बर्तन में थोड़ा सा पानी लें।
  2. उसमें ताजा पपीते की पत्तियाँ काटकर डालें। अब इसे उबलने के लिए आँच पर रख दें और इसे ढके ना।
  3. जब यह अच्छे से उबल जाए और पानी थोड़ा सा हरा दिखने लगे तो इसे आँच से उतार लें।
  4. इसको छन्नी से छान लें और एक जार में जमा कर लें।
  5. आप फ़्रीज़ में 2-3 दिनों के लिए भी रख सकते हैं किन्तु ताज़ा रस ज़्यादा लाभकारी होता है।
  6. यदि रस में कुछ बुलबुले दिखाई पड़ रहे हैं तो उसे नहीं उपयोग करना चाहिए।
  7. गर्भवती महिलाओं को पपीते की पत्तियों के रस का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे गर्भपात की संभावना बढ़ जाती है।

यदि अब भी पपीते के पत्ते के रस से सम्बंधित आपके मन में कोई सवाल है, तो आप उसे नीचे कमेंट के जरिये हमसे पूछ सकते हैं।

Please Like and Share Our Facebook Page
Herbal Medicines

Find US On Instagram
Herbal Medicines

Find US On Twitter
Herbal Medicines

50 से ज्यादा बिमारियों का इलाज है हरसिंगार (पारिजात)

गहरी और अच्छी नींद लेने के लिए घरेलू उपाय !!

गेंहू जवारे का रस, 300 रोगों की अकेले करता है छुट्टी

मात्र 16 घंटे में kidney की सारी गंदगी को बाहर निकाले

किसी भी नस में ब्लॉकेज नहीं रहने देगा यह रामबाण उपाय

Babool Fali ke Fayde, बबूल की फली घुटनों के दर्द का तोड़

पुरुषों के लिए वरदान है इलायची वाला दूध

बुढ़ापे तक रहना है जवान तो मेथीदाना खाना शुरू कर दीजिये

खाली पेट गर्म पानी के साथ काली मिर्च खाने से होगा ऐसा असर

कमर दर्द (Back Pain) का कारण और राहत के लिए घरेलू उपाय

तेजपत्ता हैं शरीर के लिए काफी लाभदायक

मांस से भी १०० गुना ज्यादा ताकतवर है ककोरा की सब्जी

विटामिन K की कमी को दूर करने के घरेलू उपाय

सहजन खाने से होती है 300 से ज्यादा बड़ी बीमारिया दूर

धतूरे के फायदे और घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

चूना खाने के आश्चर्यजनक फायदे, जो शायद आप न जानते हों

सोते समय सिर किधर रखें और पैर किधर, ध्यान रखें ये बातें

रोज सुबह पिए 1 ग्लास लौंग का पानी, 21 दिनों में १० किलो वजन घटाएं

लहसुन वाला दूध 1 महीने तक सोने से पहले पी लें, 7 बीमारियां होगी दूर

मुनाफे के 30 बिजनेस जिन्हें आप शुरू कर सकते हैं कम पूँजी में

कोरोना से भी खतरनाक होगा चिकन से फैलने वाला ये वायरस

दिल्ली से बिहार के बीच बड़े भूकंप का खतरा? 8.5 हो सकती है तीव्रता

थायराइड को जड़ से खत्म करेगा इस औषधि का प्रयोग

चुपचाप काले कपड़े में फिटकरी बांधकर यहाँ रख दे

कमजोर शरीर को फौलादी बनाये एक हफ्ते मे

हथेली के एक्यूप्रेशर Points पर मसाज कर पाएं बीमारियों से छुटकारा

This Post Has 8 Comments

  1. Neha Jha

    अगर किसी को कैसर हो तो पपीता का रस कैसे दे रस बने कि विधि बताओ

  2. Surendra

    अगर किसी को स्तन कैंसर हो तो पपीता का रस कैसे दे रस बने कि विधि बताओ

Leave a Reply