All Ayurvedic

पेट में गैस बनने के कारण और घरेलू उपाय | STOMACH GAS

पेट में गैस बनने के कारण और घरेलू उपाय | STOMACH GAS

Spread the love
पेट में गैस

हमने अकसर देखा है बहुत से लोग पेट की परेशानी से बहुत परेशान रहते है जिसमे पेट की गैस से लोग बहुत परेशान रहते है और इस वजह से बहुत से लोगो का मजाक बन जाता है। और इस परेशानी से बचने के लिए बहुत से लोग चूरन ओर दवाई लेना चालू कर देते है। और इन से लोगो फायदा तो मिल जाता है पर बाद में परेशानी भी झेलनी पड़ती है।

कभी-कभी भूख न लगना, गलत-खान पान और लापरवाही आदि के कारण पेट में दूषित वायु इकट्ठी हो जाती है, जो आध्यमान या अफारा को पैदा करती है, इसके परिणामस्वरूप पेट की नसों में खिंचाव महसूस होने लगता है। ऐसी अवस्था में मरीज बेचैन हो उठता है। पेट फूलने लगता है।

जब यह गैस (अफारा) ऊपर की ओर बढ़ने लगती है तो हृदय पर दबाब बढ़ता है जिससे घबराहट सी महसूस होती है। यह गैस जब पेट में काफी समय तक रुक जाती है तो पेट में काफी दर्द करती है, जिसे अफारा या पेट में गैस का बनना कहते है।

पेट की गैस (अफारा) होने के कारण :

आध्यमान (अफारा) यानी (पेट में गैस का बनना) वायु के इकट्ठा होने से पेट के फूलने के कारण पेट में कब्ज़ पैदा हो जाती है। कब्ज के कारण जब आंतों में मल एकत्रित (इकट्ठा) होता है तो मल के सड़ने से दूषित वायु (गैस) की उत्पति होती है।

दूषित वायु को जब कहीं से निकलने का रास्ता नहीं मिलता है तो उस दूषित वायु से पेट फूलने लगता है। इससे अग्निमांद्य (भूख का न लगना, अपच) और अतिसार (दस्त) आदि रोग उत्पन्न हो जाते हैं।

चिकित्सकों के अनुसार अधिक मात्रा में भोजन करने, बाजारों में अधिक तेल-मिर्च, गर्म मसालों का सेवन करने से पाचन क्रिया की विकृति के साथ आध्यमान की बढ़ोत्तरी होती है।

कषैली, कड़वी, तीखी और रूक्ष (सूखा) वस्तुओं को खाने, खेद (दु:ख), अत्यन्त ठण्डे पदाथों का सेवन, मल-मूत्र के प्रेशर के रोकने से, चिंता , भय (डर), अधिक रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) से मांस क्षीण, अधिक उल्टी और दस्त के कारण अफारा हो जाता है।

आमदोष और वृद्धावस्था से व्यक्तियों की नसों में वायु (गैस) भरकर दोषों को बढ़ाकर शरीर के अंगों को जकड़ कर दर्द पैदा हो जाने से यह विकार उत्पन्न हो जाता है।

पेट की गैस (अफारा) होने के लक्षण :

आध्यमान (अफारा) या वायु के इकट्ठा होने से पेट में दर्द, जी मिचलाना , श्वास (सांस) लेने में कष्ट के साथ ही रोगी को बहुत घबराहट होती है। छाती में जलन होती है।

दूषित वायु जब ऊपर की ओर चढ़ती है तो सिर में दर्द होने लगता है, रोगी को चक्कर आने लगते हैं। जब तक रोगी को डकार नहीं आती या मलद्वार से वायु नहीं निकलती है तब तक रोगी को बेचैनी और पेट में दर्द होता रहता है।

पेट गैस की परेशानी से बचने के लिए बहुत ही आसान से तरीके

खाने के बाद इलायची का सेवन : जब भी आप खाना खाते है तो उसके बाद जरूर इलायची ओर एक लौंग का सेवन करे, ये वस्तुएं आप के पेट मे खाना खाने के बाद एसिडिटी ओर गैस को बनने से रोक देती है।

अदरक का टुकड़ा : अदरक का छोटा सा टुकड़ा लेकर उसे चबाये फिर उसके बाद गुनगुना पानी का सेवन करे, या फिर आप पानी मे अदरक को पानी मे उबाल कर उसका सेवन कर सकते है।

सोंठ : सोंठ का चूर्ण 3 ग्राम और एरण्ड का तेल 8 ग्राम सेवन करने से कब्ज के कारण होने वाला आध्यमान (अफारा) ठीक हो जाता है। सोंठ का चूर्ण लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग से लगभग 1 ग्राम भाग में कालानमक मिलाकर सुबह और शाम लेने से लाभ होता है।

पोदीना : पोदीना के 5 मिलीलीटर रस में थोड़ा-सा सेंधानमक मिलाकर सेवन करने से आध्यमान (अफारा) ठीक हो जाता है। पोदीने के पत्तों का शर्बत बनाकर पीने से अफारा में लाभ होता है।

अदरक : अदरक 3 ग्राम, 10 ग्राम पिसे हुए गुड़ के साथ सेवन करने से आध्यमान (अफारा, गैस) समाप्त होता है।

लहसुन : लहसुन का पिसा हुआ मिश्रण लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग को घी के साथ सेवन करने से पेट में बनी गैस बाहर निकल जाती है।

सौंफ : सौंफ 25 ग्राम को 500 मिलीलीटर पानी में उबालें, जब 100 मिलीलीटर पानी बच जाये तब सेंधानमक व काला नमक 2-2 ग्राम मिलाकर रख लें, फिर इस काढ़े को छानकर पीने से आध्यमान (अफारा, गैस) नष्ट हो जाता है।

सौंफ को कूटकर चूर्ण बनाकर रख लें। 5 ग्राम चूर्ण हल्के गरम पानी के साथ सेवन करने से जल्दी पेट का फूलना (अफारा) नष्ट होता है। सौंफ का काढ़ा बनाकर बस्ति (एक क्रिया जिसमें गुदा मार्ग से पानी डालते हैं) देने से गैस में लाभ होता है।

जायफल : जायफल का चूर्ण, सोंठ का चूर्ण और जीरे को पीसकर बारीक पाउडर बना लें। इस बने पाउडर को भोजन करने से पहले पानी के साथ लेने से आध्यमान (अफारा, गैस) को पैदा होने नहीं देता है।

बैंगन : बैंगन को अंगारों पर सेंककर उसमें सज्जीखार मिलाकर पेट पर बांधने से, पेट में भार हो गया हो तो वह दूर होता है। बैंगन की सब्जी में ताजे लहसुन और हींग का छौंक लगाकर खाने से आध्यमान (अफारा, गैस) को होने से रोकता है।

पीपल : पीपल का चूर्ण 3 ग्राम, सेंधानमक 1 ग्राम को मिलाकर 150 मिलीलीटर छाछ (मट्ठे या तक्र) के साथ पीने से पेट की वायु (गैस) निकल जाती है जिससे आध्यमान (अफारा, गैस) समाप्त हो जाता है।

3 पीपल को पीसकर इतने ही काले नमक में मिलाकर गर्म पानी से सुबह-शाम खाने के आधे घण्टे बाद फंकी लेने से पेट की गैस बाहर निकल जायेगी।

इलायची : इलायची, आंवले का रस या चूर्ण में भुनी हुई हींग लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग और थोड़ा सा नींबू का रस एक साथ मिलाकर सेवन करें। इससे गैस, दर्द और अफारा मिट जाता है।

लौंग : 3 ग्राम लौंग को 200 ग्राम चीनी में उबाल लें। फिर छानकर इस पानी को पीने से अफारा दूर होता है। लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग लौंग को पीसकर गर्म पानी से छान लें। इसे सुबह-शाम रोजाना पीने से अफारा में लाभ होता है।

दालचीनी : दालचीनी के तेल की 1 से 3 बूंद को मिश्री के साथ सुबह और शाम देने से अफारे (गैस) में लाभ होता है।

तेजपात (तेजपत्ता) : तेजपात का पिसा हुआ चूर्ण 1 से 4 ग्राम सुबह-शाम लेने से पेट में गैस नहीं बनती है।

मट्ठा या छाछ : 200 मिलीलीटर मट्ठे (तक्र) में 2 ग्राम अजवायन का चूर्ण और 1 ग्राम पिसा हुआ कालानमक मिलाकर पीने से आध्यमान (अफारा, गैस) नष्ट होता है।

हींग : हींग को पानी में घोलकर नाभि (पेट के निचले भाग) के आस-पास लेप करने और गर्म पानी की थैली या बोतल रखने से वायु निकल जाती है।

हींग को 2 से 3 ग्राम पानी में घोलकर बस्ति (नाभि के निचले भाग) पर लगाने से अफारा में लाभ होता है। देशी घी में भुनी हुई हींग लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग से लगभग 1 ग्राम को अजवायन और काला नमक के साथ पानी में घोलकर पिलाने से पेट की गैस में तुरंत लाभ मिलता है।

नींबू : नींबू के रस को 200 मिलीलीटर पानी में थोड़ा-सा सेंधानमक मिलाकर धीरे-धीरे पीने पेट की गैस निकल जाती है।

मूली : मूली के पत्तों के 20 से 40 मिलीलीटर रस को सुबह-शाम देने से पेट की गैस की शिकायत चली जाती है।

सेंधानमक : सैंधवलवण 1 ग्राम और 5 ग्राम पिसा हुआ अदरक का चूर्ण सुबह और शाम (दो बार) लें। इससे अफारा में लाभ मिलता है।

कालीमिर्च : कालीमिर्च को गाय के पेशाब में पीसकर सेवन करने से अफारा रोग कम हो जाता है। 3 ग्राम कालीमिर्च और 6 ग्राम मिश्री को पीसकर फंकी के द्वारा लें और ऊपर से पानी पी लें।

दही : दही के छाछ (दही का खट्टा पानी) को पीने से अफारा में लाभ होता है।

प्याज : प्याज के रस में हींग और कालानमक पीसकर पीने से अफारा और पेट दर्द दूर हो जाता है। 20 मिलीलीटर प्याज के रस में लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग हींग और 1 ग्राम कालानमक मिलाकर दिन में 3 बार रोगी को पिलाने से वादी का दर्द और पेट का फूलना बंद हो जाता है।

गुड़ : गुड़ और मेथी दाना को उबालकर पीने से अफारा मिट जाता है।

अजवायन : देशी अजवायन 250 ग्राम और कालानमक 60 ग्राम को किसी चीनी-मिट्टी या कांच के बर्तन में रख दें, ऊपर से इतना नींबू का रस डालें कि दोनों दवाएं डूब जाए। इस बर्तन को छाया में रख दें। जब नींबू का रस सूख जाये तो फिर और रस डाल दें। इसी तरह 7 बार करें। इस 2 ग्राम दवा को गुनगुने पानी से सुबह-शाम खाने से पेट के सभी रोग समाप्त हो जाते हैं।

राई : 2 ग्राम राई को चीनी में मिलाकर फांक लें तथा ऊपर से लगभग आधा ग्राम से 1 ग्राम चूने को आधा कप पानी में मिलाकर पिलाने से अफारा को दूर किया जा सकता है।

धनिया : धनिया का तेल 1 से 4 बूंद मिश्री के साथ देने से बच्चों को पेट की गैस से राहत मिलती है। 2 चम्मच सूखा धनियां 1 गिलास जल में उबालकर 3 बार पीने से गैस में लाभ होता है। या

हरा धनिया, काला नमक, कालीमिर्च मिलाकर चटनी बनाकर चाटने से अफारा में लाभ मिलता है। यह चटनी सुपाच्य रहती है। उल्टी में धनिये को मिश्री के साथ सेवन करने से लाभ मिलता है। पिसे हुए धनिये को सेंककर 1-1 चम्मच पानी से फंकी लेने से दस्त आना बंद हो जाता है। दस्तों के साथ आंव, मरोड़, उल्टी, गर्भवती की उल्टी आदि आना बंद हो जाती है। या 

धनिये का शर्बत अफारा को ऐसे भगा देता है कि जैसे गधे के सिर से सींग। इसके लिए 50 ग्राम धनिया को 2 लीटर में उबाल लें। इसके बाद उबले हुए पानी को ठंडा करके एक बोतल में भर लें। धनिये के दाने को छान लें। यह पानी दिन में 3-4 बार लेना चाहिए। यदि पानी मीठा लगे तो एक प्याला पीते समय उसमें थोड़ा सा काला नमक डाल लें। इससे स्वाद बढ़ जाता है और नमक शरीर को लाभ पहुंचाएगा। धनिये के पानी से हाथ-मुंह भी धोना चाहिए। इससे पसीने की दुर्गंध काफी समय के लिए दूर हो जाती है।

मेथी : मेथी 250 ग्राम और सोया 250 ग्राम को लेकर, दोनों को तवे पर सेंक लें, मोटा-मोटा कूटकर (अधकुटा) करके 5-5 ग्राम की मात्रा में सेवन करने से वायु, लार की अधिकता, अफारा (पेट में गैस का बनना), खट्टी हिचकियां और डकारें आने का कष्ट मिट जाता है।

पेट की गैस (अफारा) से बचने के लिए भोजन और परहेज :

छोटा अनाज, पुराना शालि चावल, रसोन, लहसुन , करेला फल, शिग्रु, पटोल के पत्ते, फल और बथुआ आदि आध्यमान (अफारा) से पीड़ित रोगी इन सभी का प्रयोग खाने में कर सकते हैं।

बंदगोभी, कचालू, अरबी , भिण्डी और ठण्डी चीजें वायुकारक खाद्य पदार्थ हैं, जिसके सेवन करने से पेट में वायु बनती है और अफारा हो जाता है। चावल, राजमा, उड़द की दाल, दही, छाछ, लस्सी और मूली का प्रयोग न करें क्योंकि यह अफारा को अधिक कर देता है।

अफारा होने पर कड़वे, तीखे, कषैले, सूखे और भारी अनाज (अन्न), तिल, शिम्बी मांसाहारी भोजन, अप्राकृतिक और विषम आसन, मैथुन , रात में जागना, व्यायाम और क्रोध (गुस्सा) आदि को छोड़ देना चाहिए। ऐसा करने से अफारा रोग होता है।

Please Like and Share Our Facebook Page
Herbal Medicines

Find US On Instagram
Herbal Medicines

Find US On Twitter
Herbal Medicines

50 से ज्यादा बिमारियों का इलाज है हरसिंगार (पारिजात)

गहरी और अच्छी नींद लेने के लिए घरेलू उपाय !!

गेंहू जवारे का रस, 300 रोगों की अकेले करता है छुट्टी

मात्र 16 घंटे में kidney की सारी गंदगी को बाहर निकाले

किसी भी नस में ब्लॉकेज नहीं रहने देगा यह रामबाण उपाय

Babool Fali ke Fayde, बबूल की फली घुटनों के दर्द का तोड़

पुरुषों के लिए वरदान है इलायची वाला दूध

बुढ़ापे तक रहना है जवान तो मेथीदाना खाना शुरू कर दीजिये

खाली पेट गर्म पानी के साथ काली मिर्च खाने से होगा ऐसा असर

कमर दर्द (Back Pain) का कारण और राहत के लिए घरेलू उपाय

तेजपत्ता हैं शरीर के लिए काफी लाभदायक

मांस से भी १०० गुना ज्यादा ताकतवर है ककोरा की सब्जी

विटामिन K की कमी को दूर करने के घरेलू उपाय

सहजन खाने से होती है 300 से ज्यादा बड़ी बीमारिया दूर

धतूरे के फायदे और घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

चूना खाने के आश्चर्यजनक फायदे, जो शायद आप न जानते हों

सोते समय सिर किधर रखें और पैर किधर, ध्यान रखें ये बातें

रोज सुबह पिए 1 ग्लास लौंग का पानी, 21 दिनों में १० किलो वजन घटाएं

लहसुन वाला दूध 1 महीने तक सोने से पहले पी लें, 7 बीमारियां होगी दूर

मुनाफे के 30 बिजनेस जिन्हें आप शुरू कर सकते हैं कम पूँजी में

कोरोना से भी खतरनाक होगा चिकन से फैलने वाला ये वायरस

दिल्ली से बिहार के बीच बड़े भूकंप का खतरा? 8.5 हो सकती है तीव्रता

थायराइड को जड़ से खत्म करेगा इस औषधि का प्रयोग

चुपचाप काले कपड़े में फिटकरी बांधकर यहाँ रख दे

50 अलग अलग बीमारियों के लिए जानिए रामबाण घरेलू उपाय

कब्ज का रामबाण इलाज हैं ये घरेलू उपाय

फिटकरी के रामबाण उपाय – 200 से ज्यादा बिमारियों का इलाज

चीन ने नेपाल के उत्तरी गोरखा में रुई गांव पर किया कब्‍जा

अपनी आंतों की सफाई इन तरीकों से करें यदि आपको रहना है स्वस्थ

कैलाशपर्वत के 10 रहस्य जानकर हैरान रह जाएंगे, नासा भी हैरान

इस पर्वत पर माना जाता है शिव का वास, चमत्कारिक रूप से बनता है ओम

गुड़हल (Gudhal) के फूल के ये चमत्कारी फायदे नहीं जानते होंगे आप

सुबह उठकर हथेली देखने से मिलते हैं ये 3 लाभ

कोरोनावायरस की आयुर्वेदिक दवा आ गई, 7 दिन में होंगे ठीक

कमर में दर्द हमेशा के लिए दूर कर देंगे ये प्राकृतिक उपाय

आक के पत्ते, फूल, दूध, तेल तथा जड़ के बेहतरीन औषधीय गुण जानिए

खांसी की अचूक दवा तथा घरेलू उपचार आज जानिए

गुर्दे की पथरी निकालने के 10 घरेलू इलाज

दाद खाज खुजली को ठीक करने के घरेलू इलाज

मिर्गी का आयुर्वेदिक इलाज – Mirgi (Epilepsy) Ka Ayurvedic ilaj

पेशाब का रंग बताता है शरीर की दिक्कत, ध्यान देने की जरूरत

यूरिक एसिड (Uric Acid) के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय

फड पॉइजनिंग के लक्षण और घरेलू उपचार

हींग का पानी- हींग को पानी में मिलाकर पीने से होंगे ये फायदें

अच्छी नींद आने के लिए घरेलू उपाय, अनिद्रा के लक्षण

हल्दी का दूध – रात को दूध में हल्दी मिलाकर पीने के फायदे

अदरक का पानी पीने के फायदे, जड़ से खत्म होंगे कई रोग

ककोरा – दुनिया की सबसे ताकतवर सब्जी है ककोड़ा/कंटोला

पेशाब से जुड़ी समस्याएं जैसे पेशाब में जलन आदि का घरेलू इलाज

चश्मा हटाने का उपाय, चश्मे को कहना है बाय तो अपनाएं ये टिप्‍स

प्याज के रस से दोबारा बाल उगाने का रामबाण उपाय

एक्जिमा (Eczema), दाद-खाज, खुजली, सभी चर्म रोगों को खत्म करें

शरीर की गंदगी निकालने का उपाय | BODY DETOX

This Post Has 13 Comments

  1. Khushbu

    Useful Information

Leave a Reply