All Ayurvedic

बीमारियों को घर में दाखिल नहीं होने देंगे ये 10 पौधे, हवा रखेंगे साफ

बीमारियों को घर में दाखिल नहीं होने देंगे ये 10 पौधे, हवा रखेंगे साफ

Spread the love

साल 1989 में नासा द्वारा किया गया एक शोध बताता है कि पौधे हवा में मौजूद बैन्जीन और फॉर्मलडीहाइड जैसे कैमिकल्स का नष्ट करते हैं. इस रिसर्च में ऐसे कई इंडोर प्लान्ट के बारे में बताया गया है जो नेचुरल एयर फिल्टर की तरह काम करते हैं.

हेल्दी लाइफस्टाइल के लिए प्लांट बेस्ड फूड को काफी अच्छा माना जाता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि कुछ पौधे फल-सब्जी दिए बिना ही हमारी सेहत को फायदा (Indoor Plants can improve your health) पहुंचाते हैं. साल 1989 में नासा द्वारा किया गया एक शोध बताता है कि पौधे हवा में मौजूद बैन्जीन और फॉर्मलडीहाइड जैसे कैमिकल्स को नष्ट करते हैं. इस रिसर्च में ऐसे कई इंडोर प्लान्ट के बारे में बताया गया है जो नेचुरल एयर फिल्टर की तरह काम करते हैं. इसके अलावा भी तमाम स्टडीज में इन पौधों की खासियत के बारे में बताया जा चुका है.

ब्राह्मी : दिमाग तेज करती है और बच्चों में एकाग्रता बढ़ाती है

इसका पौधा जमीन पर फैलकर बड़ा होता है, यह आसानी से किसी भी मिट्टी में लग जाता है। इसकी 4-5 पत्तियों को सुबह खाली पेट चबाकर, पानी पिएं। रस निकालकर भी ले सकते हैं। इसकी तासीर ठंडी होती है इसलिए सर्दी में पत्तियों के रस को काली मिर्च के साथ लें। ब्राह्मी दिमाग के लिए अधिक फायदेमंद है। बच्चों में एकाग्रता की कमी और बड़ी उम्र में भूलने की बीमारी में इसकी पत्तियों को चबाकर खाते हैं तो फायदा होता है।

डेंगू- चिकनगुनिया के मरीजों के लिए फायदेमंद

गिलोय बेल है जो कटिंग से हर तरह की मिट्टी में लग जाती है। गिलोय बेल की डालियां कूटकर पानी में उबालकर पी सकते हैं। जिन्हें डायबिटीज नहीं है, वे इसमें थोड़ा शहद डालकर भी पी सकते हैं। गिलोय रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ाने वाली औषधि है। ऐसे लोग जिन्हें बार-बार जुकाम होता है, उनके लिए फायदेमंद है। सांस के रोग, आर्थराइटिस, डेंगू या चिकनगुनिया, मधुमेह में फायदा मिलता है।

पिप्पली : यह हृदय रोगियों और पेट की समस्याओं में फायदेमंद

पिप्पली का पौधा कटिंग या बीज रोप करके लगा सकते हैं। पिप्पली को लॉन्ग पेपर भी कहते हैं। इसमें लम्बे फल लगते हैं, जिनका चूर्ण बनाकर सेवन किया जाता है। उसी तरह जड़ को सुखाकर भी इसका चूर्ण लिया जा सकता है। यह दिल के रोगों में फायदेमंद है। इसके फल के एक ग्राम चूर्ण को शहद के साथ खाली पेट लेने पर दिल के रोगों में राहत मिलती है। इसी तरह पेट के रोगों के लिए भी यह चूर्ण फायदेमंद है।

लेमनग्रास : इसकी चाय पिएं, संक्रमण से बचे रहेंगे

इसे नींबूघास भी कहते हैं। इसे छोटे गमले या क्यारी में लगा सकते हैं। इसकी पत्तियां लेमन टी बनाने में इस्तेमाल कर सकते हैं। गर्म पानी में अजवाइन और लेमनग्रास की कुछ पत्तियां डालकर उबाल लें। इसे दो मिनट तक रखें और फिर हल्दी डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पिएं। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स और बैक्टीरिया को खत्म करने वाली खूबियां हैं जो कई प्रकार के इंफेक्शन से बचाता है। इस घास में विटामिन-ए और सी, फोलेट, फोलिक एसिड, मैग्नीशियम, जिंक, कॉपर, आयरन, पोटेशियम, फॉस्फोरस, कैल्शियम और मैगनीज़ होते हैं।

गोल्डन पोथोस (Golden Pothos)-

गोल्ड पोथोस एक बेहद सामान्य सा इंडोर प्लांट है. इसकी पत्तियां सख्त होती हैं और ये पेड़ लंबे समय तक जीवित रहता है. इसे एक पावरफुल एयर प्योरीफाइंग प्लांट तो नहीं कहा जा सकता, लेकिन ये घर की विषम परिस्थितयों में भी पनप सकता है. अगर आप स्वच्छ हवा के लिए घर में लंबे समय तक टिकने वाले पौधा लाना चाहते हैं तो गोल्डन पोथोस से बेहतर कुछ नहीं है.

इंग्लिश आईवी (English Ivy)-

घर की खूबसूरती को चार चांद लगाने वाला इंग्लिश आईवी का पौधा भी एक अच्छा एयर प्योरीफाइंग प्लांट माना जाता है. ‘एलर्जी एंड एयर’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इंग्लिश आईवी की गंध हवा में मौजूद एयरबॉर्न बैक्टीरियो को नष्ट करती है. इस पौधे को खिड़की के पास कहीं ऐसी जगह रखना चाहिए, जहां सूर्य की पर्याप्त रोशनी आती हो.

बॉस्टन फर्न (Boston Fern)-

बॉस्टन फर्न पौधे की देखभाल करना सबसे आसान होता है. ये एक पावरफुल एयर प्योरीफाइंग इंडोर प्लांट है. नासा की लिस्ट में मौजूद इस प्लांट में फॉर्मल्डीहाइड, प्लास्टिक, और सिगरेट के धूएं में मौजूद कम्पाउंड को नष्ट करने की क्षमता होती है. इसकी पत्तियां हवा में मौजूद दूषित तत्वों को पौधे के लिए जरूरी मैटीरियल्स में कन्वर्ट कर देती हैं.

पीस लिली (Peace Lily)-

नासा के रिसर्च के मुताबिक, पीस लिली का पौधा भी घर में एक नेचुरल एयर प्योरीफायर की तरह काम करता है. ये पौधा हवा में मौजूद जहरीले कार्बन मोनोऑक्साइड, फॉर्मलडीहाइड और बैन्जीन जैसे कम्पाउंड को खत्म करता है. पीस लिली को सूर्य की तेज किरणों से बचाकर रखें. इसे अप्रत्यक्ष रूप से सूर्य का प्रकाश मिलना चाहिए.

एलोवेरा (Aloe Vera)-

एलोवेरा के चमत्कारी और औषधीय गुण किसी से छिपे नहीं हैं. हेयर और स्किन के लिए भी ये बड़ा फायदेमंद होता है. बहुत से लोग तो फूड और ड्रिंक्स में मिलाकर इसका सेवन भी करते हैं. आपको शायद जानकारी न हो, लेकिन एलोवेरा पेंट या क्लींजिंग एजेंट से निकलने वाले एयरबॉर्न कम्पाउंड को भी खत्म कर सकता है.

स्नेक प्लांट (Snake Plant)-

इंडोर प्लांट की बात हो और स्नेक प्लांट का जिक्र न हो, भला ये कैसे हो सकता है. स्नेक प्लांट कार्बनडाइऑक्साइड को ऑक्सीजन में कन्वर्ट करता है. ये पौधा कारब स्नेक प्लांट प्लांट आपके बेडरूम की एयर क्वालिटी को बेहतर करने का काम करता है. ‘लाइफ हैकर’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, स्नेक प्लांट हवा से जाइलिन, ट्यूइलिन और ट्रिक्लोरोइथिलीन जैसे कैमिकल कम्पाउंड हवा से छांटता है.

रबर प्लांट (Rubber Plant)-

यदि आप घर में हवा साफ करने वाला कोई बड़ा पौधा लेने की सोच रहे हैं तो रबर प्लांट सबसे अच्छा विकल्प रहेगा. इसकी बड़ी-बड़ी पत्तियां दूसरे पौधों की तुलना में बड़ी तेजी से कैमिकल कम्पाउंड नष्ट करती हैं. ये कैमिकल कम्पाउंड को पौधे के लिए जरूरी न्यूट्रिशियन में कन्वर्ट करता है.

जरबरा (Gerbera)-

जरबेरा भी हवा को साफ रखने में बेहद मददगार माना जाता है. नासा के मुताबिक, स्नेक प्लांट की तरह ये पौधा भी रात के समय कार्बनडाइऑक्साइड को ऑक्सीजन में कन्वर्ट करता है. इससे लोगों में स्लीप एपनिया का खतरा भी कम होता है.

अजेलिया (Azalea)-

अजेलिया के पौधे में बेहद खूबसूरत फूल आते हैं, जो आपके घर की शोभा भी बढ़ाते हैं. फॉर्मल्डीहाइड जैसे कम्पाउंड को नष्ट करने में ये बेहद कारगर है. बस इसे रखने के लिए अनुकूल वातावरण का इंतजाम कर लें. इसे जीवित रहने के लिए हवा और मिट्टी में नमी की जरूरत होती है.

मास केन (Mass Cane)-

लंबी-लंबी पत्तियों वाले मास के पौधों को अक्सर आपने मॉल, ऑफिस या घरों में देखा होगा. ये पौधा भी दूषित हवा को साफ करने में कारगर है. बड़ी या खुली जगह को आकर्षक लुक देने के लिए इससे बेहतरीन पौधा दूसरा कोई हो ही नहीं सकता है. ये बहुत धीरे-धीरे बढ़ता है. इसे रखने का बहुत ज्यादा खर्च भी नहीं है.

Please Like and Share Our Facebook Page
Herbal Medicines

Find US On Instagram
Herbal Medicines

Find US On Twitter
Herbal Medicines

गुर्दे की पथरी निकालने के 10 घरेलू इलाज

दाद खाज खुजली को ठीक करने के घरेलू इलाज

मिर्गी का आयुर्वेदिक इलाज – Mirgi (Epilepsy) Ka Ayurvedic ilaj

पेशाब का रंग बताता है शरीर की दिक्कत, ध्यान देने की जरूरत

यूरिक एसिड (Uric Acid) के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय

फड पॉइजनिंग के लक्षण और घरेलू उपचार

हींग का पानी- हींग को पानी में मिलाकर पीने से होंगे ये फायदें

अच्छी नींद आने के लिए घरेलू उपाय, अनिद्रा के लक्षण

हल्दी का दूध – रात को दूध में हल्दी मिलाकर पीने के फायदे

अदरक का पानी पीने के फायदे, जड़ से खत्म होंगे कई रोग

ककोरा – दुनिया की सबसे ताकतवर सब्जी है ककोड़ा/कंटोला

पेशाब से जुड़ी समस्याएं जैसे पेशाब में जलन आदि का घरेलू इलाज

Leave a Reply