You are currently viewing स्लिप डिस्क का बिना ऑपरेशन के घरेलू इलाज !!

स्लिप डिस्क का बिना ऑपरेशन के घरेलू इलाज !!

Spread the love

स्लिपडिस्क में सबसे पहले डेढ़ की हड्डी पर दर्द होना शुरू होता है। सोने के लिए स्प्रिंग वाले और मुलायम गद्दे प्रयोग करे इससे कमर सीधी रहेगी और पूरी कमर पर एक जैसा दबाव पड़ेगा।

लहसुन की 3-4 कलियों को नारियल के तेल में पका ले। आप नारियल की बजाए सरसों के तेल का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। इसके बाद इस तेल से कमर और रीढ़ की हड्डी में मसाज करें।

५-५ लूंग और काली मिर्च को पीसकर अदरक पावडर में मिक्स करे। इसके बाद इससे काढ़ा बनाकर दिन में २ बार पीए। आपकी स्लिप डिस्क की प्रॉब्लम दूर हो जाएगी।

१ बाल्टी गर्म पानी कर ले और उसमे १ कप सेंधा नमक को घोल ले। इस पानी के हल्का ठंडा होने पे स्नान करे। इससे आपको मांसपेशियों में ऐंठन या जकरण की परेशानी से रहत मिलेगी।

अपनी डाइट में कैल्शियम की कमी न रखे क्योकि शरीर में कैल्शियम की कमी के कारन भी स्लिप डिस्क की प्रॉब्लम हो जाती हैं। इसके अलावा कैल्शियम युक्त दूध और दही का सेवन भी करें।

प्रेग्नेंसी के दौरान प्रेग्नेंट महिलाओं को कमर दर्द की शिकायत हो सकती हैं। गर्भ में बच्चे के बढ़ने से कमर पर दबाव बढ़ता है जिससे स्लिप डिस्क की शिकायत हो सकती है। अधिक समय तक कंप्यूटर या लैपटॉप के आगे बैठना, ज्यादा देर तक लेट कर या चूक क्र कोई काम करना स्लिप डिस्क के कारण है।

स्लिप डिस्क में सबसे पहले रीढ़ की हड्डी पर दर्द होना शुरू होती है। कई बार कमर का निचला हिस्सा सुन्न भी पड़ जाता है। धीरे-धीरे नसों पर दबाव भी महसूस होना शुरू हो जाता है। परेशानी बढ़ने पर जरा सा झुकना भी मुश्किल हो सकता है। इससे धीरे-धीरे कमजोरी भी आनी शुरू हो जाती है।

मांसपेशियों में कमजोरी, शरीर में कैल्शियम की कमी, जरूरत से ज्यादा वजन उठाना, लगातार झुककर बैठना और गलत पोजीशन में बैठना भी स्लिप डिस्क के कारण हो सकता हैं। लोगो को होने वाली छोटी छोटी परेशानी स्लिप डिस्क का कारण बन सकती है।

स्लिप डिस्क की समस्या कैल्शियम की कमी और ज्यादा देर तक एक ही स्तिथि में बैठने से होती है।आजकल यह समस्या काम उम्र के लोगो में ही आप देखने को मिल रही है।इससे छुटकारा पाने के लिए दालचीनी पावडर को शहद के साथ दिन में दो बार लें।

सोने के लिए स्प्रिंग वाले और मुलायम गद्दे की बजाय सख्त गद्दा प्रयोग करे इससे कमर सीधी और पूरी कमर पर एक जैसा दबाव पड़ेगा ।

Leave a Reply