You are currently viewing सोनभद्र में 2 जगहों पर मिली है सोने की खान, 3500 टन सोना

सोनभद्र में 2 जगहों पर मिली है सोने की खान, 3500 टन सोना

Spread the love

सोनभद्र की पहाड़ियों के गर्भ में मिला तीन हजार टन सोना, खोजने में लग गए 40 साल से अधिक

खनिज संपदा से भरपूर उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) का सोनभद्र (Sonbhadra) अब दुनिया के पटल पर आने वाला है. पिछले कई वर्षों से सोने की तलाश कर रहे भू-वैज्ञानिकों को आखिरकार सफलता मिल ही गई.

जिले में दो जगह सोने के अयस्क (Gold Ore) मिले हैं. कुल 3 हजार टन सोने (Gold) के अयस्क से करीब डेढ़ हजार टन सोने का खनन किया जाएगा. इनके खनन के लिए नीलामी प्रक्रिया से पूर्व जिओ टैगिंग (geo tagging) की कार्रवाई शुरू की गई है.

यहां मिला इतना सोना
सोनभद्र में सोने के उत्खनन का रास्ता साफ होने से पहले खनिज निदेशालय जिओ टैगिंग करवा रहा है. जिओ टैगिंग के लिए शासन ने 7 सदस्यीय टीम गठित की है. यह टीम 22 फरवरी तक शासन को रिपोर्ट सौंपेगी, जिसके बाद ब्लाकों की नीलामी की प्रक्रिया योगी सरकार द्वारा की जाएगी. वैज्ञानिकों को महुली में 2943.26 टन और सोन पहाड़ी में 646.15 किलोग्राम सोने का भंडार मिला है.

ई-टेंडर के जरिए होगी नीलामी

अब जब सोने की खान का पता चल चुका है तो सरकार द्वारा गठित टीम जिओ टैगिंग करने के बाद ई-टेंडरिंग के जरिए ब्लॉक्स की नीलामी प्रक्रिया शुरू करेगी. टीम 22 फरवरी को अपनी रिपोर्ट शासन को सौंपेगी.

sonbhadra gold mines
सोनभद्र में मिली सोने की खान

8 साल पहले हुई थी सोना मिलने की पुष्टिटीम ने 8 साल पहले ही जमीन के अंदर सोना होने की पुष्टि कर दी थी. अब यूपी सरकार ने भी अब तेजी दिखाते हुए सोने को बेचने के लिए ई-नीलामी प्रक्रिया शुरू कर दी है. अध्ययन करके सोनभद्र में सोना होने के बारे में टीम ने बताया था और इस बात की पुष्टि भी 2012 में कर दी थी. टीम ने बताया था कि सोनभद्र की पहाड़ियों में सोना मौजूद है. जीएसआई के अनुसार महुली में 2943.26 टन और सोन पहाड़ी में 646.15 किलोग्राम सोने का भंडार मिला है.

सोनभद्र में सोने के उत्खनन का रास्ता साफ होने से पहले खनिज निदेशालय जिओ टैगिंग करवा रहा है. जिओ टैगिंग के लिए शासन ने 7 सदस्यीय टीम गठित की है.

यूपी के सोनभद्र में मिला 3 हजार टन सोने का भंडार

सोनभद्र के कोन थाना क्षेत्र के हरदी गांव में व दुध्धी तहसील के महुली गांव के सोन पहाड़ी में सोने का एक बड़ा भंडार मिलने की पुष्टि हो चुकी है. हरदी क्षेत्र में 646.15 किलोग्राम सोने का भंडार है वही सोन पहाड़ी में 2943.25 टन सोने का भंडार है.

यूपी के सोनभद्र में मिला 3 हजार टन सोने का भंडार
सोन पहाड़ी पर मिला सोने का भंडारयूरेनियम भंडार भी होने की संभावना
उत्तर प्रदेश में सोना का एक बड़ा भंडार मिला है. सोनभद्र की पहाड़ियों में 3 हजार टन सोने का भंडार मिला है. इसकी पुष्टि हो चुकी है और अब नीलामी की प्रकिया के लिए कार्यवाही शुरू कर दी गई है. जल्द ही सोने के ब्लॉकों की नीलामी कर दी जाएगी. सरकार की ओर से 7 सदस्यीय टीम गठित कर दी गई.

साल 2005 से ही यहां पर जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (जीएसआई) की टीम ने अध्ययन करके सोनभद्र में सोना होने के बारे में बताया था और इस बात की पुष्टि भी 2012 में हुई कि सोनभद्र की पहाड़ियों में सोना मौजूद है. हालांकि, इस पर अब तक काम शुरू नहीं हुआ था, लेकिन अब प्रदेश सरकार ने तेजी दिखाते हुए सोने के ब्लॉक के आवंटन के संबंध में प्रक्रिया शुरू कर दी है.

यहां मिला है सोने का भंडार

सोनभद्र के कोन थाना क्षेत्र के हरदी गांव में व दुध्धी तहसील के महुली गांव के सोन पहाड़ी में सोने का एक बड़ा भंडार मिलने की पुष्टि हो चुकी है. हरदी क्षेत्र में 646.15 किलोग्राम सोने का भंडार है वही सोन पहाड़ी में 2943.25 टन सोने का भंडार है.

ब्रिटेन-फ्रांस को पीछे छोड़ दुनिया की 5वीं बड़ी इकोनॉमी बना भारत

पपीते के पत्तों के ये जबरदस्त फायदे कई रोगों के लिए है लाभकारी

सोते समय सिर किधर रखें और पैर किधर, ध्यान रखें ये बातें

एक परिवार एक नौकरी योजना 2020 के बारे में जानिए सब कुछ

मखाना खाने से डायबिटीज़, मर्दाना कमज़ोरी सहित अनेक रोगों में फायदा होता है!

जिओ टैगिंग करेगी 7 सदस्यीय टीम

ई टेंडरिंग के माध्यम से ब्लॉकों के नीलामी के लिए शासन ने 7 सदस्यीय टीम भी गठित कर दी है. यह टीम पूरे क्षेत्र की जिओ टैगिंग करेगी और 22 फरवरी 2020 तक अपनी रिपोर्ट भूतत्व एवं खनिकर्म निदेशालय लखनऊ को सौंप देगी.

सोने के साथ मिला इनका भी भंडार

इसके साथ-साथ सोनभद्र के फुलवार क्षेत्र में दो स्थानों पर तथा सलैयाडीह क्षेत्र में एडालुसाइट , पटवध क्षेत्र में पोटाश, भरहरी में लौह अयस्क और छपिया ब्लाक में सिलीमैनाइट के भंडार की भी खोज की गई है.

अब यूरेनियम की तलाश शुरू

इतना ही नहीं जिले के खनिज अधिकारी के के राय ने बताया कि सोनभद्र जिले में यूरेनियम का भी भंडार होने की संभावना है, जिसकी तलाश में केंद्रीय और अन्य टीम लगी हुई हैं.

सर्वे का काम जारी

खनिज अधिकारी केके राय ने बताया कि भूतत्व और खनिकर्म विभाग और जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम इस कार्य में लगी हुई हैं. जल्द ही पट्टा देने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. अभी हेलीकाप्टर के माध्यम से हवाई सर्वे किया जा रहा है और इसका आकलन किया जा रहा है कि कितनी राजस्व की भूमि है और कितनी वन विभाग की ह, जिससे खनन के लिए वन विभाग से अनुमति की प्रक्रिया शुरू हो सके.

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply