You are currently viewing थायरॉयड के मरीजों के लिए वजन घटाने के टिप्स !!

थायरॉयड के मरीजों के लिए वजन घटाने के टिप्स !!

Spread the love

संतुलित आहार ग्रहण करें

हाइपोथायरॉइड की समस्या होने पर शरीर में सेलेनियम व आयोडिन की कमी हो जाती है, जिससे थायरॉइड ग्रन्थि के कार्य में बाधा उत्पन्न होती है. अतः खाने में सेलेनियम व आयोडिन युक्त खाद्य पदार्थ शामिल करें. इसके लिए सीफूड, अंडा, सूरजमुखी के सीड्स, सूखे मेवे, ट्यूना, सैलमन मछली इत्यादि का सेवन करें.

कम अंतराल पर थोड़ा-थोड़ा खाएं

एक बार में ज़्यादा खाने के बजाय दो-दो घंटे के अंतराल पर थोड़ा-थोड़ा खाएं. हाइथायरॉइडिज़्म के कारण पाचन शक्ति कमज़ोर हो जाती है इसलिए कम खाने पर उसे पचाना आसान होता है. ऐसा करने से ब्लड शुगर भी नियंत्रित रहता है. इसके लिए लंच के पहले व शाम के समय हल्का स्नैक्स लेना न भूलें. स्नैक्स के रूप में नट्स का सेवन कर सकते हैं. नट्स में सेलेनियम होता है, जो थायरॉइड ग्रन्थि को ठीक तरी़के से कार्य करने में मदद करता है.

सिंपल कार्ब्स और शुगर से दूर रहें

अगर आपको हाइपोथायरॉइडिज़्म की समस्या है तो लो कार्बोहाइड्रेट डायट का अनुसरण करना ज़रूरी है, साथ ही सिंपल कार्ब्स व शुगर से परहेज़ भी करना चाहिए. अगर आप वज़न कम करना चाहते हैं तो आपको कम कैलोरीज़ लेना चाहिए, क्योंकि इस बीमारी में मेटाबॉलिज़्म स्लो होने के कारण कैलोरीज़ आसानी से बर्न नहीं होतीं. अतः कॉम्पलेक्स कार्बोहाइड्रेट्स युक्त डायट, जैसे-स्टार्ची वेजिटेबल्स, दाल व बीज वाली सब्ज़ियां, जैसे मटर, सेम इत्यादि का सेवन करें. इससे आपका पेट अधिक देर तक भरा रहेगा और आप ओवरईटिंग से बच जाएंगे. हार्वड मेडिकल स्कूल में छपी के रिपोर्ट के अनुसार, कॉम्पलेक्स कार्बोहाइड्रेट्स का सेवन करने और सिंपल कार्बोहाइड्रेट से परहेज़ करने से शरीर में साइटोकाइन्स का प्रोडक्शन कम हो जाता है. नतीज़तन पेट व शरीर फूलने जैसी समस्याएं नहीं होतीं.

पर्याप्त मात्रा में कैलोरीज़ ग्रहण करें

यह सही है कि आप अपने वज़न को लेकर चिंतित होंगे लेकिन बहुत ज़्यादा कैलोरीज़ घटाना सही विकल्प नहीं है. डॉक्टर्स थायरॉइड के मरीजों को पर्याप्त मात्रा में कैलोरीज़ ग्रहण करने पर जोर देते हैं, क्योंकि बहुत कम कैलोरीज़ का सेवन करने पर टी3 का उत्पादन और कम हो जाता है.

नारियल के तेल का प्रयोग करें

हाइपोथायरॉइडिज़्म होते हुए भी वज़न कम करने का एक दूसरा आसान तरीक़ा है नारियल के तेल का इस्तेमाल. इस तेल में मौजूद स्वास्थ्यवर्धक फैटी एसिड्स थायरॉइड हार्मोन्स के प्रोडक्शन को प्रोत्साहित करते हैं, साथ ही कोलेस्ट्रॉल लेवल कम करके वज़न घटाने में मदद करते हैं. इसके साथ ही नारियल के तेल में मौजूद मीडियम चेन फैटी एसिड्स हमारे शरीर के सेल्स में मौजूद माइट्रोकॉड्रिया में प्रवेश कर जाते हैं. माइट्रोकॉड्रिया एनर्जी बर्न करने में मदद करता है और फैट को एनर्जी में परिवर्तित करता है, जिससे मेटाबॉलिज़्म बढ़ता है. अतः खाना बनाने के लिए एक्स्ट्रा वर्जिन कोकोनट ऑयल का प्रयोग करें. ध्यान रहे कि एक दिन में 3 टेबलस्पून से ज़्यादा नारियल के तेल का प्रयोग न करें.

फिश ऑयल सप्लिमेंट्स लें

फिश ऑयल में ओमेगा-3 फैटी एसिड्स होते हैं, जो हमारा शरीर प्रोड्यूस नहीं करता. इसलिए इसे खाद्य पदार्थों के माध्यम से ग्रहण करना आवश्यक है, ताकि अंडरऐक्टिव थायरॉइड सही तरी़के से कार्य कर सके. ओमेगा-3 फैटी एसिड्स शरीर में फैट को एकत्रित होने से भी रोकता है और उसे गतिशील रखता है. यह ख़ासतौर पर पेट की चर्बी जिसे विस्रल फैट कम करने में मदद करता है. विस्रल फैट के कारण हाई ब्लड प्रेशर और हाई ब्लड शुगर जैसी बहुत-सी समस्याएं होती हैं. लेकिन फिश ऑयल सप्लिमेंट लेना शुरू करने से पहले डॉक्टर से सलाह लें. आमतौर पर इसे एक दिन में 3 ग्राम से ज़्यादा नहीं ग्रहण करना चाहिए.

एप्पल साइडर विनेगर लें

यह हाइपोथायरॉइडिज़्म और बढ़ते वज़न को कम करने में मददगार सिद्ध हो सकता है. एप्पल साइडर विनेगर थायरॉइड हार्मोन्स को नियंत्रित करने में मदद करता है. यह डिटॉक्सिफिकेशन में सहायक है और साथ ही मेटाबॉलिज़्म बढ़ाता है, जिससे वज़न कम होने में मदद मिलती है. इसके लिए एक ग्लास हल्के गर्म पानी में 2 टेबलस्पून रॉ अनफिल्टर्ड एप्पल साइडर विनेगर, थोड़ा-सा शहद मिलाकर पियें, इसे दिन में दो बार ग्रहण करें.

हार्मोन्स को संतुलित रखें

शरीर को पर्याप्त मात्रा में पोषण प्रदान करके अपने हार्मोन्स को संतुलित रखने की कोशिश करें. थायरॉइड के मरीज के डायट में ऐसे खाद्य पदार्थ होने चाहिए, जो हार्मोन्स को संतुलित रखने में मदद करें. गुड फैट्स युक्त खाद्य पदार्थ हार्मोन्स के उत्पादन में मदद करते हैं. इसके लिए घी, मक्खन, नारियल का तेल, अंडा इत्यादि का सेवन करें.

तनाव से दूर रहने की कोशिश करें

तनाव के कारण कभी-कभी लोग ओवरईटिंग कर लेते हैं. स़िर्फ इतना ही नहीं, इससे कार्टिसोल का उत्पादन बढ़ जाता है, इससे भूख ज़्यादा लगती है, परिणामस्वरूण इंलुसिन लेवल प्रभावित होता है. अतः तनाव से बचने की कोशिश करें. आप जितना स्ट्रेस फ्री और ख़ुश रहेंगे, वज़न उतनी जल्दी कम होगा.

दवा सही तरी़के से लें

थायरॉइड की दवा सुबह-सुबह खाली पेट ख़ूब पानी के साथ लें. इसे दूसरी दवाइयों के साथ मिक्स न करें. दवा लेने के आधे घंटे बाद ही चाय-नाश्ता ग्रहण करें. सही तरी़के से थायरॉइड की दवा लेने से शरीर में थायरॉइड लेवल सामान्य रहता है. अगर थायरॉइड लेवल सामान्य रहता है तो वज़न कम होने में मदद मिलती है.

This Post Has One Comment

  1. Khushbu

    nice

Leave a Reply