All Ayurvedic

यूरिक एसिड (Uric Acid) के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय

यूरिक एसिड (Uric Acid) के लक्षण, कारण और घरेलू उपाय

Spread the love
यूरिक एसिड (Uric Acid)

आप जो खाते हैं उससे यूरिक एसिड (Uric Acid) बनता है। इसमें से अधिकांश यूरिक एसिड किडनियों द्वारा फिल्टर होकर मूत्र मार्ग से बाहर निकल जाता है, लेकिन अगर यूरिक एसिड शरीर में ज्यादा बन रहा हो, या किडनी फिल्टर नहीं कर पाती तो खून में यूरिक एसिड का लेवल बढ़ जाता है। यही कुछ समय बाद हड्डियों में जमा होने लगता है और आपको यूरिक एसिड के लक्षण (Symptoms) महसूस होने लगते हैं। 

क्या है हाई यूरिक एसिड (Uric Acid) ?

यूरिक एसिड शरीर के सेल्स में उन चीजों से बनता है जिन्हें हम खाते हैं इसमें से यूरिक एसिड का ज्यादातर हिस्सा खून के माध्यम से होते हुए किडनी के जरिए फिल्टर हो जाता है जो बाद में यूरिन के जरिए बाहर निकल जाता है, लेकिन वहीं जब किडनी के फिल्टर करने की क्षमता कम हो जाती है तो यह हड्डियों के बीच जमा होने लगता है। जिससे खून में भी यूरिक एसिड का लेवल बढ़ जाता है। यूरिक एसिड अधिक जमा हो जाये तो गाउट बन जाता है।  जिसके कारण आपके शरीर की मांसपेशियों में सूजन आ जाती है। कई बार शरीर के विभिन्न हिस्सों में दर्द की भी शिकायत हो जाती है।  हाई यूरिक एसिड को हाइपरयूरिसीमिया के नाम से भी जाना जाता है।

यूरिक एसिड (Uric Acid) बढ़ने के कारण 

  • जब किसी कारणवश किडनी या गुर्दे खराब होने की वजह से फिल्ट्रेशन की क्षमता कम हो जाती है तो यूरिया, यूरिक एसिड में परिवर्तित हो जाता है जो परिणाम स्वरूप हड्डियों के बीच जमा हो जाता है।
  • आहार में प्यूरिन ज्यादा होने की वजह से भी यूरिक एसिड ज्यादा बनता है।
  • जो व्यक्ति अधिक मात्रा में शराब पीते हैं उनका यूरिक एसिड भी बढ़ जाता है।
  • शरीर में आयरन की मात्रा ज्यादा होने से भी यूरिक एसिड बढ़ जाता है।
  • जिन व्यक्तियों को उच्च रक्तचाप की शिकायत रहती है, उनका यूरिक एसिड भी बढ़ जाता है।
  • थायराइड की मात्रा जिन व्यक्तियों में ज्यादा या कम होती है उनका यूरिक एसिड बढ़ जाता है।
  • यूरिक एसिड बढ़ने का कारण मोटापा भी माना जाता है।

यूरिक एसिड (Uric Acid) बढ़ने के लक्षण

  • यूरिक एसिड सिम्पटम्स के रूप में आपके पैरों के जोड़ों में दर्द होने लगता है। पैर की एडियों में दर्द महसूस होता है।
  • गांठों में सूजन होता है।
  • जोड़ों में सुबह-शाम तेज दर्द। दर्द कम या फिर ज्यादा होना।
  • एक स्थान पर देर तक बैठने पर उठने में पैरों की एड़ियों में सहन न होने वाले दर्द होना, और कुछ समय बाद दर्द सामान्य हो जाना।
  • पैरों, जोड़ों, अंगुलियों, गांठों में सूजन होना।
  • यूरिक एसिड सिम्पटम के रूप में आपके शरीर में शर्करा का लेवल बढ़ जाता है।
  • यह रोग संधियों, विशेषतः छोटी संधियों से शुरू होता है। हाथ और पैर की अंगुलियों में या अंगूठे में तेज दर्द के साथ रोग शुरू होता है।
  • यह दर्द प्रायः रात के समय होती है, रोगी को नींद नहीं आती है।
  • यूरिक एसिड के सिम्टम्स के रूप में आपको बुखार, अत्यधिक प्यास लगने की समस्या होने लगती है।
  • शरीर में कम्पन होता है।
  • जोड़ों में लालिमा व सूजन उत्पन्न होना।

यूरिक एसिड (Uric Acid) कम करने के उपाय 

  • जिस व्यक्ति के यूरिक एसिड का स्तर ज्यादा होता है, वो अधिक प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों को न खाएँ।
  • तीतर और हिरन के मांस का सेवन न करें, साथ ही कुछ आंतरिक अंग जैसे कलेजी, गुर्दा आदि का सेवन न करें।
  • यूरिक एसिड बढ़ने पर ट्राउट, टूना आदि मछलियों से परहेज करें।
  • यूरिस एसिड के बढ़ने पर केकड़ा, झींगा जैसे समुद्री जीवों से परहेज करें।
  • यूरिक एसिड बढ़ने पर शुगर युक्त पेय पदार्थ (जिन में शुगर की मात्रा अधिक होती है) से परहेज करें।
  • शहद और ऐसे पदार्थ जिनमें हाई फ्रक्टोस (High Fructose) हो, उन पदार्थों का सेवन न करें।
  • सभी प्रकार के फल यूरिक एसिड की समस्या में फायदेमंद होते हैं। चेरी नामक फ्रूट यूरिक एसिड के स्तर को कम करता है। यह फ्रूट सूजन के साथ-साथ दर्द कम करने में भी मदद करता है।
  • यूरिक एसिड की समस्या में सभी प्रकार की सब्जियाँ खा सकते हैं।
  • यूरिक एसिड से ग्रसित को सभी प्रकार के सूखे मेवे खिलाने चाहिए।
  • साबुत अनाज में ओट्स, ब्राउन राइस और जौ खाएँ।
  • कम वसा वाले सभी डेयरी प्रोडक्ट्स यूरिक एसिड के रोगियों के लिए फायदेमंद होते हैं।
  • यूरिक एसिड के मरीजों को अण्डा खिलाना चाहिए।
  • कॉफी, चाय और ग्रीन-टी का सेवन करें।

यूरिक एसिड को नियंत्रित करने के घरेलू उपाय

1.नींबू पानी का सेवन बहुत ही फायदेमंद होता है। जिनका यूरिक एसिड बढ़ गया हो उनके लिए यह रामबाण है। नींबू में विटामिन-सी काफी मात्रा में पाया जाता है। यह एसिडिक प्रभाव पैदा करता है जिसके कारण यूरिक एसिड का स्तर कम हो जाता है। सुबह उठकर गुनगुने पानी के एक गिलास में नींबू निचोड़कर इसका सेवन करें।

2. बेकिंग सोडा यूरिक एसिड को कम करने की रामबाण दवा है। एक गिलास पानी में आधा चम्मच बेकिंग सोड़ा घोलकर दो सप्ताह तक सेवन करने से यूरिक एसिड का स्तर कम हो जाता है।

3. सेब ही नहीं बल्कि सेब का सिरका भी कईं बिमारियों को दूर करने में प्रयुक्त होता है। एक गिलास पानी में दो चम्मच सेब का सिरका मिलाकर दिन में दो बार सेवन करें। दो सप्ताह तक इसका निरन्तर सेवन करें। ऐसा करने से यूरिक एसिड का स्तर कम  हो जाता है।

4. यूरिक एसिड को करने में दूध बहुत मदद करता है। एक चम्मच अश्वगन्धा पाउडर को एक चम्मच शहद में मिला लें। इसे एक गिलास हल्का गरम या गुनगुना दूध के साथ पिएं। ध्यान रखें कि अगर आप गर्मियों के मौसम में यूरिक एसिड को कम करने के लिए दूध से उपाय कर रहे हैं तो अश्वगन्धा की मात्रा कम लें।

5. आंवला यूरिक एसिड की रामबाण दवा है। आंवले का रस एलोवेरा जूस में मिलाकर पिएं। इससे फायदा होता है। आप अधिक लाभ लेने के लिए किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श ले सकते हैं।

6. विटामिन सी से भरपूर फलों का सेवन यूरिक एसिड कम करने में बेहद मददगार साबित होगा। इसके साथ ही चेरी, ब्लू बेरी जैसे फलों जूस, शरीर में बढ़े हुए यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में मददगार है। 


7. हाई फाइबर फूड का सेवन भी बढ़े हुए यूरिक एसिड को कम करने में सहायक है। यह यूरिक एसिड को सोखने में मददगार है।इसके अलावा  अंगूर के बीजों का प्रयोग कई बीमारियों की दवाओं में किया जाता है।

8. हरा धनिया एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है और एक तरह से डाइयूरेटिक की तरह काम करता है। इसका व इसके जूस का भरपूर सेवन करना गठिया और अन्य तकलीफों से निजात दिलाएगा।

9. फैटी चीजें और अधिक मीठे खान-पान एवं पेय पदार्थों का सेवन यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में बाधा पैदा कर सकता है। यूरिक एसिड बढ़ने पर शराब और इन चीजों का सेवन न करें।

10. गाजर या चुकंदर का जूस
इन दोनों में ही भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है। जो यूरिक एसिड को कम करने में मदद करता है। इसके लिए आप गाजर और चुकंदर का जूस पिएं।

11. खीरे का जूस
खीरे में पोटैशियम और फॉस्फोरस पाया जाता है जो किडनी को डिटॉक्स करने में मदद करता है। जिससे यूरिक एसिड का स्तर कम हो जाता है। 

Please Like and Share Our Facebook Page
Herbal Medicines

Find US On Instagram
Herbal Medicines

Find US On Twitter
Herbal Medicines

50 से ज्यादा बिमारियों का इलाज है हरसिंगार (पारिजात)

गहरी और अच्छी नींद लेने के लिए घरेलू उपाय !!

गेंहू जवारे का रस, 300 रोगों की अकेले करता है छुट्टी

मात्र 16 घंटे में kidney की सारी गंदगी को बाहर निकाले

किसी भी नस में ब्लॉकेज नहीं रहने देगा यह रामबाण उपाय

गुर्दे की पथरी निकालने के 10 घरेलू इलाज

दाद खाज खुजली को ठीक करने के घरेलू इलाज

मिर्गी का आयुर्वेदिक इलाज – Mirgi (Epilepsy) Ka Ayurvedic ilaj

पेशाब का रंग बताता है शरीर की दिक्कत, ध्यान देने की जरूरत

This Post Has 25 Comments

  1. MANOJ sharma

    Useful advice 👍

Leave a Reply