You are currently viewing वजन बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक उपाय !!

वजन बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक उपाय !!

Spread the love

रोज २० ग्राम अखरोट खाने से वजन बहुत तेजी से बढ़ता है। अखरोट में आवश्यक मोनो अन्सैचरेटिड फैट होता है। जो स्वस्थ कैलोरी को उच्च मात्रा में प्रदान करता है।

मुलेठी शरीर की पाचन क्रिया को मजबूत करने का काम करती है। जिन लोगो का पाचन तंत्र कमजोर होता है, उन्हें वजन बढ़ाने में परेशानी होती है, ऐसे में मुलेठी का प्रयोग सबसे उत्तम माना जाता है।

बादाम भी बहुत हद तक वजन बढ़ाने में कारगर है। इसके लिए ३-४ बादाम रातभर पानी में भिगोकर रख दें और अगले दिन पीसकर दूध में घोलकर पी लें। ऐसा एक महीने तक रोजाना करें, असर खुद ही दिखेगा।

आम वजन बढ़ाने में मदद करता है। दिन में कम से कम ३ बार आम खाये उसके बाद दूध पीए। यह लगभग एक महीने तक करें बहुत जल्दी असर होगा।

किशमिश और अंजीर खाने से संतुलित शरीर के वजन में मदद मिलेगी। इसके लिए ६ अंजीर और लगभग ३० ग्राम किशमिश लें, उन्हें लगभग १२-१६ घंटे तक पानी में भिगोने के लिए छोड़ दें। अगले दिन उन्हें दिन में दो बार खाएं।

वजन न बढ़ने का सबसे जरुरी या महत्वपूर्ण कारण है पाचनशक्ति का कमजोर होना। यष्टिमधु एक ऐसी औषधि है जो हमारी पाचनशक्ति को मजबूत करने का काम करती है।

च्यवनप्राश वजन बढ़ाने का सबसे पॉपुलर फार्मूला है। यह पाचनशक्ति बढ़ाने के साथ-साथ बीमारियों से लड़ने की ताकत में वृद्धि करता है। दो चम्मच नियमित रूप से इसका सेवन करने से शरीर और हड्डियों को शक्ति मिलती है।

अगर आप केला खाते हैं तो आपका पाचन तंत्र अच्छा हो जाता है। केला खाने से भूक भी बढ़ती है, आयुर्वेदिक में केला और दूध एक साथ सेवन नहीं करने की सलाह है इसीलिए आप २-३ केले खाकर १ घंटे बाद दूध पिये तो १-२ महीने में वजन बढ़ सकता है।

सतावरी वजन बढ़ाने का अचूक नुस्का है। यह न ही सिर्फ पाचन तंत्र को ठीक कर वजन बढ़ाने में मदद करता है बल्कि शरीर के समस्त तरल पदार्थों को भी दुरुस्त रखता है।

Leave a Reply